UPSC Exam   »   विभिन्न बसाव प्रतिरूप

विभिन्न बसाव प्रतिरूप

एक बसाव प्रतिरूप क्या है?

  • एक बसाव पैटर्न उस तरीके को संदर्भित करता है जिस तरह से एक ग्रामीण बस्ती में भवनों एवं घरों का वितरण होता है।
  • बसावट प्रतिरूप महत्वपूर्ण हैं क्योंकि वे अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं कि समय के साथ एक समुदाय किस प्रकार विकसित हुआ है।

विभिन्न बसाव प्रतिरूप_40.1

बसाव पैटर्न को प्रभावित करने वाले कारक

  • जल निकाय (परिवहन मार्ग, पीने तथा खेती के लिए जल)
  • समतल भूमि (निर्माण में सुगमता)
  • उपजाऊ मृदा (फसलों के लिए)
  • वन (लकड़ी एवं आवास)

 

बसाव प्रतिरूप के प्रकार 

मुख्य रूप से तीन प्रकार के बसाव प्रतिरूप होते हैं

आकेन्द्रित बस्ती/न्यूक्लियेटेड सेटलमेंट

  • आकेन्द्रित बस्तियां अथवा न्यूक्लियेटेड सेटेलमेंट वे बस्तियां या संकुल बस्तियां हैं जिनमें सभी घर निकट रूप से समूहित होते हैं।
  • यह अधिकांशतः एक केंद्रीय आकृति के आसपास स्थित होता है जैसे धार्मिक स्थल अथवा ग्रामोद्यान।
  • इसके अतिरिक्त, नई नियोजित बस्तियों में प्रायः एक केंद्रीकृत प्रतिरूप पाया जाता है।
  • उदाहरण: इंग्लैंड में लिटिल थेटफोर्ड।

 

रैखिक बस्तियाँ

  • रैखिक बस्तियाँ वे बस्तियाँ हैं जहाँ भवनों का निर्माण रैखिक बिंदु में, प्रायः एक भौगोलिक आकृति जैसे झील, नदी या सड़क के आसपास किया जाता है।
  • रैखिक बसावट को श्रृंखला गांव (चेन विलेज) अथवा रिबन विस्तार के रूप में भी जाना जाता है।
  • रैखिक बस्तियों में आमतौर पर एक लंबी तथा संकीर्ण आकृति पाई जाती है।
  • जहां एक बस्ती मार्ग के अनुदिश बनाई जाती है, मार्ग बस्ती से पूर्व समय का होता है एवं फिर बस्ती परिवहन मार्ग के साथ बढ़ती है।
  • उदाहरण: उत्तरी मालाबार, गंगा-यमुना दोआब में सड़कों के किनारे बसे मछुआरे गाँव।

विभिन्न बसाव प्रतिरूप_50.1

परिक्षिप्त बस्तियाँ

  • परिक्षिप्त बस्तियाँ (स्कैटर्ड सेटेलमेंट) वे बस्तियाँ हैं जहाँ घर एक विस्तृत क्षेत्र में फैले हुए होते हैं।
  • इस प्रकार की बस्तियां प्रायः किसानों के घर होती हैं एवं ग्रामीण क्षेत्रों में पाई जा सकती हैं।
  • एक परिक्षिप्त बस्ती एक आकेन्द्रित अथवा न्यूक्लियेटेड गाँव के विपरीत होती है।
  • विश्व के ग्रामीण क्षेत्रों में परिक्षिप्त बस्तियाँ आम है।
  • उदाहरण: मेघालय, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश तथा केरल के कुछ हिस्से।

 

कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान जेंडर संवाद: ग्रामीण विकास मंत्रालय ने तीसरे संस्करण का आयोजन किया  राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय संपादकीय विश्लेषण- अ-निर्देशित प्रक्षेपास्त्र
खान एवं खनिज (विकास तथा विनियमन) अधिनियम, 1957 में संशोधन स्वीकृत दांडी मार्च | राष्ट्रीय नमक सत्याग्रह कृषि में उर्वरक का उपयोग अमेज़ॅन वर्षावन अस्थिर बिंदु तक पहुंच रहे हैं
व्यापार एवं निवेश पर भारत-कनाडा मंत्रिस्तरीय संवाद  फार्मास्युटिकल उद्योगों का सुदृढ़ीकरण: मंत्रालय ने दिशा-निर्देश जारी किए  पारिस्थितिक पिरामिड: अर्थ एवं प्रकार राष्ट्रीय भूमि मुद्रीकरण निगम को विशेष प्रयोजन वाहन के रूप में स्थापित किया जाएगा

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.