UPSC Exam   »   Salt March

दांडी मार्च | राष्ट्रीय नमक सत्याग्रह

दांडी मार्च- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्राथमिकता

  • जीएस पेपर 1: आधुनिक भारतीय इतिहास- स्वतंत्रता संग्राम – इसके विभिन्न चरण एवं देश के विभिन्न हिस्सों से महत्वपूर्ण योगदानकर्ता / योगदान।

दांडी मार्च | राष्ट्रीय नमक सत्याग्रह_40.1

दांडी मार्च समाचारों में 

  • हाल ही में, भारत के प्रधानमंत्री ने महात्मा गांधी एवं उन सभी प्रतिष्ठित व्यक्तियों को श्रद्धांजलि अर्पित की, जिन्होंने अन्याय का विरोध करने तथा हमारे देश के स्वाभिमान की रक्षा हेतु दांडी मार्च में भाग लिया था।

 

दांडी मार्च क्या है?

  • नमक मार्च, जिसे दांडी मार्च या नमक सत्याग्रह भी कहा जाता है, मार्च-अप्रैल 1930 में मोहनदास (महात्मा) गांधी के नेतृत्व में भारत में एक प्रमुख अहिंसक विरोध की कार्रवाई थी।
  • दांडी मार्च गांधीजी के सविनय अवज्ञा (सत्याग्रह) के अभियान के तहत प्रथम कार्रवाई थी, जिसे उन्होंने भारत में ब्रिटिश शासन के विरुद्ध छेड़ा था।

 

सविनय अवज्ञा आंदोलन प्रारंभ करने के लिए नमक को ही क्यों चुना गया?

  • भारत में नमक का उत्पादन एवं वितरण लंबे समय से अंग्रेजों का एक लाभप्रद एकाधिकार रहा है।
  • कानूनों की एक श्रृंखला के माध्यम से, भारतीयों को स्वतंत्र रूप से नमक का उत्पादन या बिक्री करने से प्रतिबंधित कर दिया गया था तथा उन्हें महंगा, भारी कर युक्त नमक खरीदने की अनिवार्यता थी जो प्रायः आयात किया जाता था।
  • इससे अधिकांश भारतीय प्रभावित हुए, जो गरीब थे एवं इसे खरीदने में सक्षम नहीं थे।
  • चूंकि इसने  भारतीयों की एक बड़ी आबादी को प्रभावित किया था और एक भावनात्मक मुद्दा भी था, गांधी जी ने नमक कानून तोड़कर अपना सविनय अवज्ञा आंदोलन आरंभ करने का निर्णय लिया।
  • दूसरी ओर, ब्रिटिश राज के कर से होने वाले राजस्व में नमक कर का 8.2 प्रतिशत हिस्सा था और गांधीजी जानते थे कि सरकार इसकी उपेक्षा नहीं कर सकती थी।
  • इस कारण से, उन्होंने गुजरात में अपने आश्रम से नमक सत्याग्रह या दांडी मार्च प्रारंभ किया।

 

दांडी मार्च का विकास क्रम

  • वायसराय लॉर्ड इरविन के समय में ब्रिटिश भारत सरकार ने गांधीजी की न्यूनतम मांगों को अस्वीकार कर दिया जिसमें भारतीयों द्वारा स्वशासन भी सम्मिलित था।
  • 12 मार्च 1930 को, गांधीजी ने साबरमती से 78 अनुयायियों के साथ 241 मील की यात्रा पर अरब सागर के तटीय शहर दांडी तक नमक सत्याग्रह आरंभ करने का निर्णय लिया।
  • दांडी में, गांधीजी एवं उनके समर्थकों को समुद्री जल से नमक बनाकर नमक कानून तोड़ना था।
  • मार्ग में उनके साथ हजारों अन्य व्यक्ति भी सम्मिलित हो गए और दांडी मार्च के शुभारंभ के साथ देश के विभिन्न हिस्सों में सविनय अवज्ञा आंदोलन की शुरुआत हुई।
  • 5 मई को गांधीजी को अंग्रेजों ने गिरफ्तार कर लिया था। तब तक, सविनय अवज्ञा आंदोलन (सिविल डिसऑबेडिएंस मूवमेंट/सीडीएम) में भाग लेने के लिए अंग्रेजों द्वारा 60000 से अधिक भारतीयों को गिरफ्तार भी किया गया था।
  • हालांकि, गांधीजी की गिरफ्तारी के बावजूद, नमक सत्याग्रह जारी रहा। सरोजिनी नायडू ने 2,500 प्रदर्शनकारियों के साथ बंबई से लगभग 150 मील उत्तर में धरसना साल्ट वर्क्स पर नमक सत्याग्रह का नेतृत्व किया।
    • इस घटना को अमेरिकी पत्रकार वेब मिलर ने रिकॉर्ड किया था एवं भारत में ब्रिटिश नीति के विरुद्ध अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आक्रोश को प्रेरित किया था।
  • जनवरी 1931 में, गांधीजी जेल से रिहा हुए तथा इरविन से मिले। इस बैठक के बाद, गांधीजी ने सविनय अवज्ञा आंदोलन को बंद कर दिया और भारत की स्वतंत्रता पर बातचीत करने के लिए लंदन चले गए।

दांडी मार्च | राष्ट्रीय नमक सत्याग्रह_50.1

नमक सत्याग्रह का प्रमुख महत्व

  • भारत की दुर्दशा पर प्रकाश डाला: दांडी मार्च ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम को पश्चिमी मीडिया में सुर्खियों में ला दिया।
  • समाज के उपेक्षित वर्ग की भागीदारी: नमक मार्च ने महिलाओं एवं दलित वर्गों सहित अनेक व्यक्तियों को स्वतंत्रता आंदोलन के प्रत्यक्ष संपर्क में ला दिया।
  • साम्राज्यवाद के विरुद्ध लड़ाई में अहिंसा के उपकरण को तीव्र किया नमक सत्याग्रह ने साम्राज्यवाद से लड़ने में अहिंसक सत्याग्रह की शक्ति को एक उपकरण के रूप में प्रदर्शित किया।

 

 

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.