UPSC Exam   »   National Education Policy   »   Kanya Shiksha Pravesh Utsav Abhiyan

कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान

कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान- यूपीएससी परीक्षा

  • जीएस पेपर 2 के लिए प्रासंगिकता: शासन, प्रशासन एवं चुनौतियां- स्वास्थ्य, शिक्षा से संबंधित सामाजिक क्षेत्र/सेवाओं के विकास तथा प्रबंधन से संबंधित मुद्दे।

कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान_40.1

कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान- संदर्भ

  • अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की पूर्व संध्या पर, विद्यालय जाने वाली किशोरियों को औपचारिक शिक्षा में वापस लाने  हेतु एक ऐतिहासिक अभियान ‘कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान’ प्रारंभ किया गया था।
  • कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव कार्यक्रम का उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय संगठनों की घनिष्ठ सहभागिता के साथ महिला एवं बाल विकास मंत्रालय (MoWCD) तथा शिक्षा मंत्रालय (MoE) के  मध्य एक अभिसरण दृष्टिकोण है।

 

कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान

  • आयोजन मंत्रालय: कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान महिला एवं बाल विकास मंत्रालय (MoWCD) द्वारा शिक्षा मंत्रालय तथा यूनिसेफ की साझेदारी में प्रारंभ किया गया है।
  • अभिभावक योजना: कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान को प्राथमिक लाभार्थियों के रूप में 400,000 से अधिक विद्यालयी शिक्षा से वंचित किशोर बालिकाओं को लक्षित करके MoWCD की बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ (BBBP) पहल की छत्रछाया में प्रारंभ किया जाएगा।
  • वित्त पोषण: सभी राज्यों के 400 से अधिक जिलों को बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के तहत जमीनी स्तर पर पहुंच एवं जागरूकता उत्पन्न करने हेतु वित्त पोषित किया जाएगा।
    • यह समुदायों  एवं परिवारों को विद्यालयों में किशोरियों का नामांकन कराने हेतु संवेदनशील बनाने के लिए है।
    • आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं (AWWs) को विद्यालय न जाने वाली किशोरियों की काउंसलिंग तथा रेफर करने के लिए और प्रोत्साहित किया जाएगा।

कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान_50.1

कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान के मुख्य उद्देश्य

  • कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान का उद्देश्य भारत में विद्यालय न जाने वाली किशोरियों को औपचारिक शिक्षा एवं/या कौशल प्रणाली में वापस लाना है।
  • कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव का उद्देश्य विद्यालय में 11-14 वर्ष की आयु की बालिकाओं के नामांकन तथा प्रतिधारण को बढ़ाना भी है।
  • कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव विद्यालय जाने वाली बालिकाओं के लिए एक व्यापक प्रणाली पर कार्य करने  हेतु वर्तमान योजनाओं एवं कार्यक्रमों जैसे किशोर बालिकाओं (एडोलिसेंट गर्ल्स/ एसएजी), बेटी बचाओ बेटी पढाओ (बीबीबीपी) तथा राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) पर आधारित होने का अभिप्राय रखता है।

 

जेंडर संवाद: ग्रामीण विकास मंत्रालय ने तीसरे संस्करण का आयोजन किया  राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय संपादकीय विश्लेषण- अ-निर्देशित प्रक्षेपास्त्र खान एवं खनिज (विकास तथा विनियमन) अधिनियम, 1957 में संशोधन स्वीकृत
दांडी मार्च | राष्ट्रीय नमक सत्याग्रह कृषि में उर्वरक का उपयोग अमेज़ॅन वर्षावन अस्थिर बिंदु तक पहुंच रहे हैं व्यापार एवं निवेश पर भारत-कनाडा मंत्रिस्तरीय संवाद 
फार्मास्युटिकल उद्योगों का सुदृढ़ीकरण: मंत्रालय ने दिशा-निर्देश जारी किए  पारिस्थितिक पिरामिड: अर्थ एवं प्रकार राष्ट्रीय भूमि मुद्रीकरण निगम को विशेष प्रयोजन वाहन के रूप में स्थापित किया जाएगा राष्ट्रीय डिजिटल पर्यटन मिशन

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.