UPSC Exam   »   UPSC Mains Preparation Strategy   »   UPSC CSE Mains 2021 Preparation Strategy

यूपीएससी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2021  की तैयारी की रणनीति- विस्तृत पाठ्यक्रम एवं यूपीएससी  मुख्य परीक्षा जीएस पेपर 3 में अंकों को अधिकतम करने  हेतु दृष्टिकोण

यूपीएससी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2021  की तैयारी की रणनीति

 

यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2021 हाल ही में संपन्न हुई थी। यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2021 का पेपर स्पेक्ट्रम के कठिन पक्ष पर था एवं इसने अनेक उम्मीदवारों को निराश कर दिया। Adda247 सहित अनेक प्रतिष्ठित संस्थानों ने  प्रारंभिक परीक्षा 2021 की कट-ऑफ (अपेक्षित) जारी कर दी है।  प्रारंभिक परीक्षा 2021 का अपना स्कोर देखने के लिए, यहां क्लिक करें

 

यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2021 की अपेक्षित कट-ऑफ एवं विस्तृत विषय-वार विश्लेषण की जाँच करने के लिए, यहाँ क्लिक करें

संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) प्रत्येक वर्ष तीन चरणों- प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार में सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करता है। यूपीएससी  प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले उम्मीदवारों को यूपीएससी  मुख्य परीक्षा लिखने  हेतु आमंत्रित  करता है एवं मुख्य परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले उम्मीदवारों को साक्षात्कार में उपस्थित होने कहा जाता है। यूपीएससी मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार में उपस्थित उम्मीदवारों के अंकों के आधार पर चयनित उम्मीदवारों की एक सूची तैयार करता है।

 

यूपीएससी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2021 की तैयारी की रणनीति- संघ लोक सेवा आयोग मुख्य परीक्षा तिथि

यूपीएससी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2021 परीक्षा 7 जनवरी 2021 से आयोजित होने वाली है। यूपीएससी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा की तैयारी  हेतु उपलब्ध सीमित समय को देखते हुए, उम्मीदवारों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे अपनी  यूपीएससी मुख्य परीक्षा की तैयारी की रणनीति की योजना इसी अनुरूप बनाएं।

यूपीएससी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2021  की तैयारी की रणनीति- विस्तृत पाठ्यक्रम एवं यूपीएससी  मुख्य परीक्षा जीएस पेपर 3 में अंकों को अधिकतम करने  हेतु दृष्टिकोण_40.1

यूपीएससी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2021: आईएएस  मुख्य परीक्षा विषय सूची एवं  मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार अंक वितरण

 

प्रश्न पत्र का शीर्षक आवंटित  अंक
निबंध 250 अंक
सामान्य अध्ययन-I (भारतीय विरासत एवं संस्कृति, इतिहास, तथा विश्व का भूगोल एवं समाज) 250 अंक
सामान्य अध्ययन-II (शासन, संविधान, राजव्यवस्था, सामाजिक न्याय एवं अंतर्राष्ट्रीय संबंध) 250 अंक
सामान्य अध्ययन-III (प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव-विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा एवं  आपदा प्रबंधन) 250 अंक
सामान्य अध्ययन-IV (नैतिकता, सत्यनिष्ठा एवं अभियोग्यता) 250 अंक
वैकल्पिक विषय- पेपर 1 250 अंक
वैकल्पिक विषय- पेपर 2 250 अंक
लिखित परीक्षा में उप योग 1750 अंक
वैयक्तिक साक्षात्कार 275 अंक
कुल  2025 अंक

 

 

यूपीएससी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2021-यूपीएससी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा जीएस पेपर 3 का  पाठ्यक्रम 

 

 

  • भारतीय अर्थव्यवस्था:
    • आयोजना, संसाधन का अभिनियोजन, वृद्धि, विकास एवं रोजगार से संबंधित मुद्दे;
    • समावेशी विकास एवं इससे उत्पन्न होने वाले मुद्दे;
    • सरकारी बजट प्रणाली;
    • भारत में भूमि सुधार;
    • अर्थव्यवस्था पर उदारीकरण के प्रभाव,
    • औद्योगिक नीतियों में परिवर्तन एवं औद्योगिक विकास पर उनके प्रभाव।
    • आधारिक अवसंरचना: ऊर्जा, बंदरगाहों, सड़कें, हवाई अड्डे, रेलवे इत्यादि
    • निवेश  प्रतिरूप।
  • भारतीय कृषि:
    • देश के विभिन्न भागों में प्रमुख फसलों के फसल प्रतिरूप;
    • विभिन्न प्रकार की सिंचाई एवं सिंचाई प्रणाली;
    • कृषि उपज का परिवहन एवं विपणन तथा मुद्दे एवं संबंधित बाधाएं;
    • कृषकों की सहायता हेतु ई-प्रौद्योगिकी;
    • प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष कृषि सहायिकी एवं न्यूनतम समर्थन मूल्य से संबंधित मुद्दे;
    • सार्वजनिक वितरण प्रणाली- उद्देश्य, कार्यप्रणाली, सीमाएं, सुधार;
    • बफर स्टॉक एवं खाद्य सुरक्षा के मुद्दे;
    • प्रौद्योगिकी मिशन;
    • पशु-पालन का अर्थशास्त्र।
    • भारत में खाद्य प्रसंस्करण एवं संबंधित उद्योग- कार्यक्षेत्र और महत्व, अवस्थिति, ऊर्ध्व प्रवाह एवं अधः प्रवाह आवश्यकताएं, आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन।
  • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी:
    • दैनिक जीवन में विकास एवं उनके अनुप्रयोग तथा प्रभाव;
    • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में भारतीयों की उपलब्धियां; प्रौद्योगिकी का स्वदेशीकरण एवं नवीन तकनीक विकसित करना।
    • सूचना प्रौद्योगिकी, अंतरिक्ष, कंप्यूटर, रोबोटिक्स, नैनो-प्रौद्योगिकी, जैव-प्रौद्योगिकी एवं बौद्धिक संपदा अधिकारों से संबंधित मुद्दों के क्षेत्र में जागरूकता।
  • ·पर्यावरण:
    • संरक्षण, पर्यावरण प्रदूषण एवं क्षरण;
    • पर्यावरणीय प्रभाव आकलन
  • आपदा प्रबंधन: आपदा एवं आपदा प्रबंधन।
  • सुरक्षा:
    • विकास एवं उग्रवाद के प्रसार के मध्य संबंध;
    • आंतरिक सुरक्षा के लिए चुनौतियां उत्पन्न करने में बाह्य राज्य एवं गैर-राज्य कारकों की भूमिका;
    • संचार नेटवर्क के माध्यम से आंतरिक सुरक्षा के लिए चुनौतियां;
    • आंतरिक सुरक्षा चुनौतियों में मीडिया एवं सोशल नेटवर्किंग साइटों की भूमिका;
    • साइबर सुरक्षा की मूलभूत बातें;
    • धन शोधन एवं इसकी रोकथाम;
    • सीमावर्ती क्षेत्रों में सुरक्षा चुनौतियां एवं उनका प्रबंधन; आतंकवाद के साथ संगठित अपराध का संबंध;
    • विभिन्न सुरक्षा बल एवं एजेंसियां ​​तथा उनका अधिदेश।

 

 

यूपीएससी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा जीएस पेपर 3 में अपने अंकों को अधिकतम करने हेतु आवश्यक कदम

  • भारतीय अर्थव्यवस्था एवं भारतीय कृषि
    • अर्थव्यवस्था के प्रश्न अधिकांशत: समसामयिकी के क्षेत्र से आते हैं किंतु आपको वैचारिक पहलू में भी पृष्ठभूमि प्रदान करने की आवश्यकता है।  समसामयिकी के महत्वपूर्ण टॉपिक्स को समसामयिकी एवं स्थैतिक दोनों ही दृष्टिकोण से व्यापक रूप से कवर करें।
    • आपको कुछ तथ्य (आधिकारिक/विश्वसनीय) भी स्मरण रखने चाहिए एवं जहाँ भी आवश्यकता हो, उनका उपयोग करना चाहिए।
    • कृषि में, यदा कदा वे कृषि को विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी अथवा अर्थव्यवस्था या यहां तक ​​कि पर्यावरण के साथ जोड़ देते हैं। इन बातों को ध्यान में रखते हुए कृषि से टॉपिक्स को तैयार करें।
  • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी
    • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी से अपेक्षाकृत कम प्रश्न पूछे जाते हैं किंतु आपको इसकी उपेक्षा नहीं करनी चाहिए क्योंकि परीक्षा में प्रत्येक अंक मूल्यवान होता है।
    • आपको विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सरकार की व्यवस्थाओं, नीतियों एवं योजनाओं के बारे में भी पता होना चाहिए। अपने उत्तरों में इस जानकारी का उचित रूप से उपयोग करें।
  • पर्यावरण एवं आपदा प्रबंधन
    • उपरोक्त खंडों की भांति, इसमें भी, आपको समसामयिकी एवं स्थैतिक दोनों दृष्टिकोणों से विषयों को व्यापक रूप से तैयार करना चाहिए।
    • विगत एक वर्ष की वैश्विक घटनाओं को व्यापक रूप से कवर किया जाना चाहिए एवं उम्मीदवारों को जहां भी संभव हो उनका उपयोग करना चाहिए। यह विषय की व्यापक समझ को दर्शाता है।
    • आपदा से संबंधित विषयों को पर्यावरण एवं भूगोल से मिलाकर तैयार किया जाना चाहिए। यह आपको एक विस्तृत उत्तर लिखने में सहायक सिद्ध होगा।
  • सुरक्षा
    • सीमा सुरक्षा, भारत-चीन तनाव, आतंकवाद, अफगान मुद्दों इत्यादि को व्यापक रूप से तैयार किया जाएगा।
    • सुरक्षा संबंधी प्रश्नों में आर्थिक, अंतर्राष्ट्रीय एवं अन्य भू-राजनीतिक पहलू भी शामिल होने चाहिए। यह आपको यूपीएससी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2021 में अच्छे अंक दिलाएगा।

 

सिविल सेवक बनने के अपने सपने को साकार करने के लिए दिन-रात पसीना बहाने वाले सभी सिविल सेवा उम्मीदवारों को शुभकामनाएं।

यूपीएससी सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2021  की तैयारी की रणनीति- विस्तृत पाठ्यक्रम एवं यूपीएससी  मुख्य परीक्षा जीएस पेपर 3 में अंकों को अधिकतम करने  हेतु दृष्टिकोण_40.1

 

संबंधित यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2021, परीक्षा आलेख जो आपको उपयोगी प्रतीत हो सकते हैं 

 

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *