UPSC Exam   »   संपादकीय विश्लेषण: नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन में...

संपादकीय विश्लेषण: नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन में परेशानी की एक झलक 

नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन: प्रासंगिकता

  • जीएस 2: द्विपक्षीय, क्षेत्रीय एवं वैश्विक समूह तथा भारत से जुड़े एवं / या भारत के हितों को प्रभावित करने वाले समझौते।

संपादकीय विश्लेषण: नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन में परेशानी की एक झलक _40.1

नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन: प्रसंग

  • विगत माह, जर्मनी के नेटवर्क नियामक ने नॉर्ड स्ट्रीम 2 के लिए प्रमाणन प्रक्रिया को निलंबित कर दिया था। इसने निकट भविष्य में इसके संभावित विकास पर सवाल उठाए हैं।

 

नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन क्या है?

  • यह एक गैस पाइपलाइन है जो बाल्टिक सागर के नीचे रूस से जर्मनी को, यूक्रेन एवं अन्य यूरोपीय देशों के माध्यम से पारगमन से बचाते हुए प्राकृतिक गैस की सीधी आपूर्ति प्रदान करेगी।

 

नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन: विवाद क्यों?

  • यूक्रेनी प्राधिकरण ने इस परियोजना को खतरनाक भू-राजनीतिक अस्त्रकहा है।
  • संयुक्त राज्य अमेरिका एवं अधिकांश यूरोपीय देशों (ऑस्ट्रिया, जर्मनी, हंगरी एवं नीदरलैंड को छोड़कर) ने भी प्रस्तावित पाइपलाइन का विरोध किया है।
  • विरोधी देशों को चिंता है कि एक बार चालू होने के बाद, यह परियोजना यूरोप एवं उसके ऊर्जा बाजार से निपटने के दौरान रूस को अधिक लाभ एवं सौदेबाजी की शक्ति प्रदान करेगी।
  • कुछ विशेषज्ञों का यह भी मानना ​​है कि रूस यूरोपीय सुरक्षा पर दबाव डालने एवंयूरोपीय संस्थानों की लोकतांत्रिक लोचशीलता को कमजोर करने के लिए नॉर्ड स्ट्रीम 2 को एक राजनीतिक अस्त्र के रूप में  प्रयोग करने का प्रयत्न कर रहा है।

 

नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन: रूस का दृष्टिकोण

  • रूस का दावा है कि नॉर्ड स्ट्रीम 2 विशुद्ध रूप से एक वाणिज्यिक परियोजना है, जो अनेक यूरोपीय देशों के माध्यम से गैस पारगमन की तुलना में छोटी, किफायती एवं आर्थिक रूप से अधिक व्यवहार्य है।

 

नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन पर अमेरिका का दृष्टिकोण

  • 2019 में, डोनाल्ड ट्रम्प ने एक कानून पर हस्ताक्षर किए थे जो नॉर्ड स्ट्रीम 2 पाइप लाइन को पूरा करने मेंसंलग्न किसी भी यूरोपीय संघ की कंपनी पर प्रतिबंध आरोपित करता था।
  • अमेरिकी प्रशासन को यह भी भय था कि पाइप लाइन रूस को यूरोप की ऊर्जा आपूर्ति पर अधिक प्रभाव प्रदान करेगी एवं अमेरिकी तरलीकृत प्राकृतिक गैस (एलएनजी) के लिए आकर्षक यूरोपीय बाजार के इसके अपने हिस्से (अमेरिकी) को कम कर देगी।
  • जर्मनी ने, प्रकट रूप से, अतिरिक्त देशीय/बाहरी प्रतिबंधोंका विरोध करते हुए कहा कि वे ‘यूरोप में लिए गए स्वायत्त निर्णयों में हस्तक्षेप’ के बिना अपनी ऊर्जा नीतियों को निर्धारित करने में सक्षम थे।
  • इस वर्ष मई में, जो बिडेन प्रशासन ने नॉर्ड स्ट्रीम 2 एजी के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा छूट जारी करने का निर्णय लिया।
  • इसका मुख्य कारण अमेरिका एवं जर्मनी के मध्य विश्वास एवं घनिष्ठ सहयोग को पुनर्स्थापित करना था।

 

नॉर्ड पाइप लाइन को क्या महत्वपूर्ण बनाता है?

  • जर्मनी ने धीरे-धीरे ऊर्जा के नवीकरणीय स्रोतों की ओर बढ़ने के उद्देश्य से अपने परमाणु एवं कोयला आधारित ऊर्जा संयंत्रों को बंद करने की योजना बनाई है।
  • आपूर्ति के अंतराल को पूरा करने एवं स्रोतों में विविधता लाने के लिए, यह देश कतर, अमेरिका एवं अन्य देशों से गैस प्राप्त करने हेतु अपना पहला एलएनजी टर्मिनल स्थापित करने की योजना बना रहा है।
  • यूरोप अपने ऊर्जा बाजार में एक विनाशकारी स्थिति/ परफेक्ट स्टॉर्म का सामना कर रहा है, जिससे ऊर्जा के थोक मूल्य 2021 में दोगुने से अधिक हो गए हैं एवं जीवाश्म ईंधन की पूर्णतया सीमित आपूर्ति है।
  • यूरोप को गैस आपूर्ति में जानबूझकर कमी के लिए रूस को दोषी ठहराया जाता है, जिसका लक्ष्य यूरोपीय संघ (ईयू) बाजार नियामकों द्वारा नॉर्ड स्ट्रीम 2 गैस पाइपलाइन को गति देना है।

संपादकीय विश्लेषण: नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन में परेशानी की एक झलक _50.1

नॉर्ड स्ट्रीम पाइपलाइन: आगे की राह

  • कुछ यूरोपीय संघ के नेताओं ने जर्मनी से नॉर्ड स्ट्रीम पाइप लाइन के प्रति मजबूत कार्रवाई का आह्वान किया है, कुछ ने रूस द्वारा यूक्रेन में आगे सैन्य विस्तार की स्थिति में संभावित समाप्ति की भी मांग की है। जर्मन चांसलर की प्रतिक्रिया इस महत्वाकांक्षी परियोजना के भाग्य का फैसला करेगी।
एआईएम नीति आयोग ने ‘इनोवेशन फॉर यू’ एवं ‘द इनजेनियस टिंकरर्स’ जारी किए भारत में प्रमुख एवं लघु बंदरगाह पीएम-किसान योजना स्टेट ऑफ इंडियाज लाइवलीहुड (सॉयल) रिपोर्ट 2021
नीति आयोग ने यूएनडब्ल्यूएफपी के साथ एक स्टेटमेंट ऑफ इंटेंट पर हस्ताक्षर किए- जलवायु प्रतिस्कंदी कृषि का सुदृढ़ीकरण खाद्य तेल पर राष्ट्रीय मिशन- ऑयल पाम बिजनेस समिट जेम्स वेब टेलीस्कोप संपादकीय विश्लेषण- राजनीतिक इच्छाशक्ति का अभाव
विदेशी अंशदान विनियमन अधिनियम नीति आयोग का राज्य स्वास्थ्य सूचकांक शहरी भारत को ‘कचरा मुक्त’ बनाने हेतु रोडमैप विमोचित प्रमुख बंदरगाहों में पीपीपी परियोजनाओं हेतु टैरिफ दिशा निर्देश

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.
Was this page helpful?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *