Home   »   National Mission on Edible Oils – Oil Palm   »   National Mission on Edible Oil- Oil...

खाद्य तेल पर राष्ट्रीय मिशन- ऑयल पाम बिजनेस समिट

खाद्य तेल पर राष्ट्रीय मिशन – पाम ऑयल: यूपीएससी परीक्षा हेतु प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 3: भारतीय कृषि- भारत में खाद्य प्रसंस्करण एवं संबंधित उद्योग- कार्यक्षेत्र एवं महत्व, स्थान, ऊर्ध्वप्रवाह एवं अधः प्रवाह आवश्यकताएं, आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन।

खाद्य तेल पर राष्ट्रीय मिशन- ऑयल पाम बिजनेस समिट_40.1

खाद्य तेल पर राष्ट्रीय मिशन- पाम ऑयल: संदर्भ

  • हाल ही में, केंद्रीय कृषि मंत्री द्वारा हैदराबाद में पूर्वोत्तर राज्यों के अतिरिक्त अन्य राज्यों हेतु खाद्य तेल- ताड़ का तेल (ऑयल पाम) व्यापार शिखर सम्मेलन पर राष्ट्रीय मिशन का उद्घाटन किया गया।

 

खाद्य तेल पर राष्ट्रीय मिशन- पाम ऑयल बिजनेस समिट: प्रमुख बिंदु

  • खाद्य तेल पर राष्ट्रीय मिशन के बारे में: सरकार द्वारा देश भर में खाद्य तेल पर राष्ट्रीय मिशन- ऑयल पाम बिजनेस समिट का आयोजन किया जा रहा है।
    • यह मिशन का दूसरा ऐसा शिखर सम्मेलन है, पहला इस वर्ष अक्टूबर के प्रारंभ में पूर्वोत्तर राज्यों हेतु गुवाहाटी में आयोजित किया गया था।
  • उद्देश्य: खाद्य तेल पर राष्ट्रीय मिशन- ऑयल पाम बिजनेस समिट का उद्देश्य खाद्य तेलों पर नई प्रारंभ की गई केंद्र प्रायोजित योजनाओं के बारे में व्यापक जानकारी प्रदान करना है।

 

भारत में ताड़ के तेल की खेती

  • वर्तमान में भारत में लगभग 3 लाख हेक्टेयर भूमि ताड़ के तेल की खेती के अंतर्गत आती है, जबकि अध्ययनों से ज्ञात हुआ है कि देश में लगभग 28 लाख हेक्टेयर भूमि पाम तेल की खेती हेतु उपयुक्त है।
  • सरकार ने विभिन्न मिशनों के माध्यम से भारत को खाद्य तेल में आत्मनिर्भर बनाने के लिए 28 लाख हेक्टेयर भूमि को खेती के अंतर्गत लाने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

 

खाद्य तेल पर राष्ट्रीय मिशन- पाम ऑयल योजना: प्रमुख बिंदु

  • खाद्य तेल पर राष्ट्रीय मिशन- पाम तेल योजना का पूर्वोत्तर क्षेत्र तथा अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह पर विशेष ध्यान है।
  • नेशनल मिशन ऑन एडिबल ऑयल- ऑयल पॉम योजना के तहत वर्ष 2025-26 तक पाम ऑयल के लिए 5 लाख हेक्टेयर (हे.) के अतिरिक्त क्षेत्र को आच्छादित करने एवं फलस्वरूप 10 लाख हेक्टेयर के लक्ष्य तक पहुंचने का प्रस्ताव है।
  • कच्चे पाम तेल (सीपीओ) का उत्पादन 2025-26 तक 20 लाख टन एवं 2029-30 तक 28 लाख टन तक पहुंचने की संभावना है।
  • देश में सीपीओ के क्षेत्र एवं उत्पादन को बढ़ाने के लिए राष्ट्रीय खाद्य तेल-तेल पाम योजना प्रस्तावित की गई है।
  • राष्ट्रीय खाद्य तेल मिशन-तेल पाम योजना राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन- ताड़ का तेल कार्यक्रम में शामिल हो जाएगी।

खाद्य तेल पर राष्ट्रीय मिशन- ऑयल पाम बिजनेस समिट_50.1

खाद्य तेल पर राष्ट्रीय मिशन- पाम ऑयल योजना: वित्त पोषण एवं मूल्य निर्धारण तंत्र

  • व्यवहार्यता मूल्य: केंद्र ताड़ का तेल के किसानों को अंतरराष्ट्रीय बाजार के उतार-चढ़ाव से सुरक्षित करने हेतु मूल्य आश्वासन प्रदान करेगा।  इसे व्यवहार्यता मूल्य के रूप में जाना जाएगा।
    • यह विगत 5 वर्षों का वार्षिक औसत मूल्य होगा जिसे थोक मूल्य सूचकांक के साथ समायोजित करके 3 प्रतिशत से गुणा किया जाएगा।
  • सूत्र/फॉर्मूला मूल्य: एक फॉर्मूला मूल्य भी निर्धारित किया जाएगा जो कच्चे ताड़ का तेल की कीमत का 3 प्रतिशत होगा एवं मासिक आधार पर तय किया जाएगा।
  • व्यवहार्यता अंतराल वित्तपोषण/वायबिलिटी गैप फंडिंग: वायबिलिटी गैप फंडिंग व्यवहार्यता मूल्य एवं फॉर्मूला मूल्य के मध्य का अंतर होगा तथा आवश्यकता पड़ने पर इसका भुगतान सीधे किसानों को किया जाएगा।
जेम्स वेब टेलीस्कोप संपादकीय विश्लेषण- राजनीतिक इच्छाशक्ति का अभाव विदेशी अंशदान विनियमन अधिनियम नीति आयोग का राज्य स्वास्थ्य सूचकांक
शहरी भारत को ‘कचरा मुक्त’ बनाने हेतु रोडमैप विमोचित प्रमुख बंदरगाहों में पीपीपी परियोजनाओं हेतु टैरिफ दिशा निर्देश संपादकीय विश्लेषण: प्लास्टिक अपशिष्ट से निपटने की योजना में खामियां विश्व व्यापार संगठन मंत्रिस्तरीय सम्मेलन
डंपिंग रोधी शुल्क: भारत ने 5 चीनी उत्पादों पर डंपिंग रोधी शुल्क लगाया ईएसजी फंड: पर्यावरण सामाजिक एवं शासन कोष संपादकीय विश्लेषण: बुजुर्ग संपत्ति हैं, आश्रित नहीं भारत में खनिज एवं खनिज उद्योगों का वितरण

Sharing is caring!