UPSC Exam   »   भारत में खनिज एवं खनिज उद्योगों...

भारत में खनिज एवं खनिज उद्योगों का वितरण

भारत में खनिजों का वितरण: प्रासंगिकता

  • जीएस 1: संपूर्ण विश्व में प्रमुख प्राकृतिक संसाधनों का वितरण

 

भारत में खनिज

अपनी विविध भूगर्भीय संरचना के कारण, भारत खनिज संसाधनों की एक समृद्ध विविधता से संपन्न है। उत्तर भारत, जो जलोढ़ मैदानी क्षेत्रों से आच्छादित है, खनिजों  अथवा आर्थिक उपयोग से रहित है। खनिज संसाधन देश को औद्योगिक विकास के लिए आवश्यक आधार प्रदान करते हैं

भारत में खनिज एवं खनिज उद्योगों का वितरण_40.1

भारत में खनिजों का वितरण

भारत में खनिज सामान्यतः तीन व्यापक क्षेत्रों (पेटियों) में केंद्रित हैं।

  • उत्तर-पूर्वी पठार क्षेत्र: इसमें छोटानागपुर (झारखंड), ओडिशा का पठार, पश्चिम बंगाल एवं छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्से शामिल हैं।
  • दक्षिण-पश्चिमी पठारी क्षेत्र: कर्नाटक, गोवा एवं समीपस्थ तमिलनाडु की उच्च भूमि एवं केरल।
  • उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र: अरावली का राजस्थान में एवं गुजरात का हिस्सा तथा खनिज धारवाड़ प्रणाली की चट्टानों से संबंधित हैं।

 

भारत में महत्वपूर्ण खनिजों के वितरण के लिए नीचे दी गई सूची है।

 

क्रम संख्या खनिज स्थान
1. बॉक्साइट ओडिशा, आंध्र प्रदेश, गुजरात, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, झारखंड एवं महाराष्ट्र
2. क्रोमाइट 95 प्रतिशत संसाधन उड़ीसा में स्थित हैं, 5% संसाधन मणिपुर एवं कर्नाटक में वितरित हैं।
3. कॉपर सर्वाधिक वृहद निक्षेप: राजस्थान, मध्य प्रदेश, झारखंड। इसके अतिरिक्त आंध्र प्रदेश, गुजरात, हरियाणा, कर्नाटक, महाराष्ट्र, मेघालय, ओडिशा, सिक्किम, तमिलनाडु, उत्तराखंड एवं पश्चिम बंगाल में भी।
4. स्वर्ण सर्वाधिक वृहद निक्षेप: बिहार, कर्नाटक, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश। धातु की मात्रा के मामले में, कर्नाटक, राजस्थान, पश्चिम बंगाल एवं बिहार।
5. लौह अयस्क हेमेटाइट का सर्वाधिक वृहद निक्षेप:: ओडिशा, झारखंड, छत्तीसगढ़, कर्नाटक एवं गोवा
6. सीसा-जस्ता राजस्थान, बिहार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, गुजरात, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, सिक्किम, तमिलनाडु एवं मेघालय
7. मैंगनीज सर्वाधिक वृहद निक्षेप: ओडिशा, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, झारखंड एवं गोवा।
8. निकल सर्वाधिक वृहद निक्षेप: ओडिशा, झारखंड, नागालैंड, कर्नाटक
9. हीरा मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़
10. जिप्सम राजस्थान, जम्मू एवं कश्मीर, गुजरात तथा तमिलनाडु।
11. ग्रेफाइट अरुणाचल प्रदेश, जम्मू एवं कश्मीर, झारखंड, तमिलनाडु, ओडिशा
12. चूना पत्थर कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, गुजरात, राजस्थान, मेघालय, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, ओडिशा, महाराष्ट्र एवं उत्तराखंड।
13. अभ्रक आंध्र प्रदेश, झारखंड, महाराष्ट्र, बिहार एवं राजस्थान।
14. मैग्नेसाइट उत्तराखंड, राजस्थान, टीएन, आंध्र प्रदेश,  हिमाचल प्रदेश, जम्मू एवं कश्मीर, कर्नाटक  तथा केरल।
15. कोयला गोंडवाना अवसाद मुख्य रूप से प्रायद्वीपीय भारत के पूर्वी एवं मध्य भागों में पाए जाते हैं। तृतीय महाकल्प के कोयला के विस्तार वाले अवसाद असम, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड एवं मेघालय में पाए जाते हैं।

 

भारत में खनिज एवं खनिज उद्योगों का वितरण_50.1

भारत में खनिज उद्योग

  • भारत में धात्विक, अधात्विक एवं लघु खनिजों को शामिल करते हुए खनिज उत्पादन का मूल्य 1947 के बाद से पिछले 7 दशकों से 2017-18 में 1,12,632 करोड़ रुपये के स्तर को छू गया।
  • 2017-18 के दौरान कोयला, लिग्नाइट, पेट्रोलियम (कच्चा), बॉक्साइट, क्रोमाइट, तांबा अयस्क, लौह अयस्क, सीसा एवं जस्ता, मैंगनीज अयस्क, चांदी, हीरा, चूना पत्थर इत्यादि जैसे प्रमुख खनिजों का उत्पादन बढ़ा है जबकि यह 1947 की तुलना में सोना, कायनाइट इत्यादि के मामले में गिरावट आई।
  • 1947 के बाद से खनन क्षेत्र में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है।
  • 2017-18 में 675 मिलियन टन कोयले का उत्पादन 1947 में इसके उत्पादन 31 मिलियन टन के 22 गुना से अधिक था।
  • विगत 70 वर्षों के दौरान सोने को छोड़कर सभी धात्विक खनिजों के उत्पादन में अभूतपूर्व वृद्धि दर्ज की गई है।
  • गैर- धात्विक खनिजों में, चूना पत्थर का उत्पादन 2017-18 में 339 मिलियन टन था जो 1947 में इसके उत्पादन का लगभग 100 गुना था।
दुग्ध उत्पादों की अनुरूपता मूल्यांकन योजना का लोगो संपादकीय विश्लेषण-ड्राइंग ए लाइन स्टॉकहोम कन्वेंशन ओलिव रिडले टर्टल: ओलिव रिडले टर्टल का जूलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जेडएसआई) द्वारा टैगिंग 
बेल्ट एवं रोड पहल: निवेश क्यों घट रहे हैं? 2021 में रुपये का अवमूल्यन संपादकीय विश्लेषण: वन अधिकार अधिनियम से परे देखना डेरिवेटिव्स: परिभाषा, अवधारणा एवं प्रकार
बाल विवाह निषेध (संशोधन) विधेयक 2021- विवाह में स्वीय विधि भारतीय रेलवे पर सीएजी की रिपोर्ट भरतनाट्यम- भारतीय शास्त्रीय नृत्य बीज ग्राम योजना: बीज ग्राम कार्यक्रम

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *