Home   »   Golden Peacock Environment Management Awards

गोल्डन पीकॉक पर्यावरण प्रबंधन पुरस्कार 2021

गोल्डन पीकॉक पर्यावरण प्रबंधन पुरस्कार- यूपीएससी परीक्षा हेतु प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: विकास प्रक्रियाएं एवं विकास उद्योग- गैर सरकारी संगठनों, स्वयं सहायता समूहों, विभिन्न समूहों एवं संघों, दाताओं, न्यासों, संस्थागत एवं अन्य हितधारकों की भूमिका।
  • जीएस पेपर 3: पर्यावरण- संरक्षण, पर्यावरण प्रदूषण एवं क्षरण

 

गोल्डन पीकॉक पर्यावरण प्रबंधन पुरस्कार- संदर्भ

  • भारतीय इस्पात प्राधिकरण लिमिटेड (सेल) को इंस्टिट्यूट ऑफ़ डायरेक्टर्स द्वारा इस्पात क्षेत्र में वर्ष 2021 के लिए प्रतिष्ठित स्वर्ण मयूर पर्यावरण प्रबंधन पुरस्कार (गोल्डन पीकॉक एनवायरमेंट मैनेजमेंट अवार्ड) से सम्मानित किया गया है।
    • सेल लगातार तीन वर्षों से इस पुरस्कार का विजेता रहा है।

गोल्डन पीकॉक पर्यावरण प्रबंधन पुरस्कार 2021_40.1

गोल्डन पीकॉक पर्यावरण प्रबंधन पुरस्कार- सेल द्वारा पर्यावरण संरक्षण के प्रमुख उपाय

  • सेल को धारणीय एवं पर्यावरणीय रूप से उत्तरदायी इस्पात निर्माण के लिए किए गए प्रयासों हेतु गोल्डन पीकॉक पर्यावरण प्रबंधन पुरस्कार प्रदान किया गया।
  • कंपनी के पर्यावरण सुरक्षा उपाय विभिन्न पर्यावरणीय उपायों को अपनाने पर केंद्रित हैं, जिनमें शामिल हैं-
    • प्रदूषण नियंत्रण सुविधाओं का उन्नयन,
    • शून्य तरल स्राव (जीरो लिक्विड डिस्चार्ज) प्राप्त करने के उद्देश्य से जल संरक्षण के प्रयास,
    • विभिन्न ठोस अपशिष्टों (अर्थात प्रक्रिया अपशिष्ट, हानिकारक अपशिष्ट, कैंटीन/नगरीय अपशिष्ट) का कुशल प्रबंधन,
    • वनीकरण के माध्यम से कार्बन पृथक्करण,
    • खनन किये गये क्षेत्रों का पारिस्थितिकी-पुनर्स्थापना इत्यादि।

 

गोल्डन पीकॉक पर्यावरण प्रबंधन पुरस्कार- प्रमुख बिंदु

  • गोल्डन पीकॉक पर्यावरण प्रबंधन पुरस्कार के बारे में: स्वर्ण मयूर पर्यावरण प्रबंधन पुरस्कार (गोल्डन पीकॉक एनवायरमेंट मैनेजमेंट अवार्ड) 1998 में वर्ल्ड एनवायरनमेंट फाउंडेशन (डब्लूईएफ) द्वारा स्थापित एक वार्षिक पुरस्कार है।
    • गोल्डन पीकॉक एनवायरनमेंट मैनेजमेंट अवार्ड प्रत्येक वर्ष वार्षिक ‘वर्ल्ड कांग्रेस ऑन एनवायरनमेंट मैनेजमेंट’ में प्रदान किया जाता है।
  • पुरस्कार: गोल्डन पीकॉक एनवायरनमेंट मैनेजमेंट अवार्ड उन संगठनों को दिया जाता है, जिन्होंने पर्यावरण प्रबंधन के क्षेत्र में महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल की हैं।
    • पुरस्कार विजेता सभी मुद्रित एवं प्रचार सामग्री पर वर्ष के साथ गोल्डन पीकॉक अवार्ड्स प्रतीक चिन्ह (लोगो) का उपयोग करने हेतु पात्र हैं, जो संगठन द्वारा प्राप्त सर्वोच्च प्रशंसा का प्रमाण है।
    • गोल्डन पीकॉक एनवायरनमेंट मैनेजमेंट अवार्ड भी व्यावसायिक घरानों (कॉरपोरेट्स) को उनके पर्यावरणीय प्रदर्शन के अभिवर्धन हेतु प्रोत्साहित करता है।
  • पात्रता: सभी संस्थान चाहे वे सार्वजनिक, निजी, गैर-लाभकारी, सरकार, व्यवसाय, विनिर्माण एवं सेवा क्षेत्र हों, आवेदन करने के पात्र हैं।

गोल्डन पीकॉक पर्यावरण प्रबंधन पुरस्कार 2021_50.1

स्वर्ण मयूर पर्यावरण प्रबंधन पुरस्कार- प्रमुख विशेषताएं 

  • पुरस्कार में सतर्कतापूर्वक परिभाषित एवं पारदर्शी चयन मानदंड हैं एवं यह एक अत्यधिक विस्तृत एवं स्वतंत्र मूल्यांकन प्रक्रिया द्वारा निर्धारित किया जाता है।
  • यह पुरस्कार कंपनी की ब्रांड इक्विटी एवं संपूर्ण विश्व में उसकी पहचान स्थापित करता है।
  • पुरस्कार विजेता सभी प्रचार साहित्य पर वर्ष के साथ गोल्डन पीकॉक अवार्ड्स लोगो का उपयोग करने के पात्र होते हैं।
  • पुरस्कार आवेदन की तैयारी संपूर्ण कार्यबल को प्रेरित करने एवं संरेखित करने में सहायता करती है एवं व्यवस्था में सुधार की गति को और तीव्र करती है।
  • यदि आप पुरस्कार नहीं जीतते हैं, तो भी तैयारी एवं प्रतिपुष्टि संगठन की रणनीतिक अभिगम की प्रक्रिया को विश्व स्तरीय दर्जा प्राप्त करने के मार्ग पर लाने में सहायता करती है।
कोलकाता दुर्गा पूजा यूनेस्को की अमूर्त विरासत सूची में अंकित एल्गोरिथ्म ट्रेडिंग: सेबी ने एल्गोरिथ्म ट्रेडिंग को विनियमित करने हेतु कहा विश्व व्यापार संगठन समझौते विश्व व्यापार संगठन
तीसरा भारत-मध्य एशिया संवाद: अफगानिस्तान बैठक िस्मृति का अधिकार |व्याख्यायित| चीनी सब्सिडी पर डब्ल्यूटीओ विवाद में भारत हारा संपादकीय विश्लेषणः 9.5% विकास दर प्राप्त करने की चुनौती
जैविक विविधता (संशोधन) विधेयक, 2021 विश्व के घास के मैदान सोलाव रिपोर्ट 2021 नासा पार्कर सोलर प्रोब मिशन

Sharing is caring!