UPSC Exam   »   UNWTO and Pochampally village

यूएनडब्ल्यूटीओ ने पोचमपल्ली गांव को विश्व के सर्वश्रेष्ठ पर्यटन गांवों में से एक के रूप में मान्यता दी

यूएनडब्ल्यूटीओ एवं पोचमपल्ली गांव- यूपीएससी परीक्षा हेतु प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 1: भारतीय इतिहास- भारतीय संस्कृति प्राचीन से आधुनिक काल तक कला रूपों, साहित्य एवं वास्तुकला के प्रमुख पहलुओं को कवर करेगी।
  • जीएस पेपर 2: शासन, प्रशासन एवं चुनौतियां- विभिन्न क्षेत्रों में विकास के लिए सरकार की नीतियां एवं अंतः क्षेप तथा उनकी अभिकल्पना एवं कार्यान्वयन से उत्पन्न होने वाले मुद्दे।

 

यूएनडब्ल्यूटीओ एवं पोचमपल्ली गांव- संदर्भ

  • हाल ही में, तेलंगाना के पोचमपल्ली गांव को संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन (यूएनडब्ल्यूटीओ) द्वारा सर्वश्रेष्ठ पर्यटन गांवों में से एक के रूप में चयनित किया गया था।
  • 2 दिसंबर 2021 को मैड्रिड, स्पेन में यूएनडब्ल्यूटीओ महासभा के 24वें सत्र के अवसर पर यह प्रतिष्ठित पुरस्कारप्रदान किया जाएगा।

 

 

यूएनडब्ल्यूटीओ ने पोचमपल्ली गांव को विश्व के सर्वश्रेष्ठ पर्यटन गांवों में से एक के रूप में मान्यता दी_40.1

क्या आपने यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2021 को उत्तीर्ण कर लिया है?  निशुल्क पाठ्य सामग्री प्राप्त करने के लिए यहां रजिस्टर करें

यूएनडब्ल्यूटीओ द्वारा सर्वश्रेष्ठ पर्यटन गांवों की पहल

  • यूएनडब्ल्यूटीओ द्वारा सर्वश्रेष्ठ पर्यटन गांवों की पहल के बारे में: यूएनडब्ल्यूटीओ प्रायोगिक पहल द्वारा सर्वश्रेष्ठ पर्यटन गांवों का उद्देश्य उन गांवों को पुरस्कृत करना है जो ग्रामीण स्थलों के उत्कृष्ट उदाहरण हैं एवं इसके निर्दिष्ट नौ मूल्यांकन क्षेत्रों के अनुरूप अच्छी प्रथाओं का प्रदर्शन करते हैं।
    • इसका उद्देश्य प्रशिक्षण एवं सुधार के अवसरों तक अधिगम के माध्यम से गांवों को उनकी ग्रामीण पर्यटन क्षमता का संवर्धन करने में सहायता करना है।
  • इंडिया एंड बेस्ट टूरिज्म विलेज इनिशिएटिव: पर्यटन मंत्रालय ने भारत से यूएनडब्ल्यूटीओ सर्वश्रेष्ठ पर्यटन गांव प्रविष्टि (बेस्ट टूरिज्म विलेज एंट्री) हेतु तीन गांवों की सिफारिश की। ये थे-
  1. मेघालय में कोंगथोंग,
  2. लधपुरा खास, मध्य प्रदेश
  3. तेलंगाना में पोचमपल्ली: पोचमपल्ली गांव को यूएनडब्ल्यूटीओ द्वारा सम्मानित किया गया।

 

तेलंगाना में पोचमपल्ली: प्रमुख बिंदु

  • पोचमपल्ली गांव के बारे में: पोचमपल्ली, हैदराबाद से 50 किलोमीटर दूर स्थित, तेलंगाना के नलगोंडा जिले का एक शहर है।
  • पोचमपल्ली साड़ी: पोचमपल्ली को प्रायः उत्तम पोचमपल्ली साड़ियों के लिए भारत के रेशम शहर के रूप में जाना जाता है जिसे इकत नामक एक अनूठी शैली के माध्यम से बुना जाता है।
    • पोचमपल्ली साड़ियों को जीआई दर्जा: इस अनूठी शैली, पोचमपल्ली रेशम साड़ियों (इकत) को 2004 में भौगोलिक संकेतक (जीआई स्थिति) प्राप्त हुआ।
  • पोचमपल्ली साड़ी बनाने की प्रक्रिया: इकत में बुने जाने से पहले बंडल किए गए धागे के वर्गों को पूर्व निर्धारित रंग पैटर्न में लपेटने (या बांधने) एवं रंगाई की प्रक्रिया शामिल है।
    • रंग (डाई) खुले भाग में प्रवेश कर जाती है जबकि लपेटा हुआ भाग बिना रंग का रहता है। इस प्रक्रिया में सूत द्वारा निर्मित यह पैटर्न कपड़े में बुना जाता है।
    • इकत एक मलेशियाई, इंडोनेशियाई शब्द है जिसका अर्थ “टाई एंड डाई” होता है।

 

पोचमपल्ली गांव का महत्व:

  • 2015 में, बुनाई तकनीकों की विविधता एवं हमारी समृद्ध हथकरघा परंपरा को पहचानने के लिए, प्रधानमंत्री ने 7 अगस्त को प्रथम राष्ट्रीय हथकरघा दिवस का प्रारंभ किया।
  • राष्ट्रीय हथकरघा दिवस: यह प्रत्येक वर्ष स्वदेशी आंदोलन की औपचारिक उद्घोषणा के सम्मान के रूप में मनाया जाता है जो उसी दिन 1905 में कलकत्ता टाउन हॉल में एक बैठक में किया गया था।
  • भूदान पोचमपल्ली: 18 अप्रैल, 1951 को इस गांव से आचार्य विनोबा भावे द्वारा शुरू किए गए भूदान आंदोलन को मनाने के लिए पोचमपल्ली को भूदान पोचमपल्ली के नाम से भी जाना जाता है।
    • वर्तमान में एक, दो कमरे वाला विनोबा भावे मंदिर गांव के भीतर मौजूद है जो पहले वह स्थान था जहां विनोबा भावे गांव की यात्रा के दौरान निवास करते थे।

 

तेलंगाना में पोचमपल्ली- सरकार द्वारा उठाए गए कदम

  • पर्यटन मंत्रालय ने एक ग्रामीण पर्यटन नीति का प्रारूप तैयार किया है जो न केवल हमारे गांवों के भीतर पर्यटन को बढ़ावा देगी बल्कि स्थानीय कला एवं शिल्प को पुनर्जीवित करेगी तथा ग्रामीण अर्थव्यवस्था को भी प्रोत्साहन प्रदान करेगी।
  • ग्रामीण पर्यटन नीति हमारे गांवों एवं ग्रामीण जीवन के पुनर्विकास एवं पुनर्निर्माण में सहायता करेगी एवं गांवों के निवासियों को भी बाहर के लोगों से जुड़ने एवं अंतः क्रिया करने का अवसर प्राप्त होगा।
  • पोचमपल्ली की अनूठी बुनाई शैलियों एवं पैटर्नों पर भी प्रधानमंत्री के मंत्र के माध्यम से आत्मनिर्भर भारत के एक भाग के रूप में वोकल 4 लोकल पर विशेष ध्यान दिया गया है।

यूएनडब्ल्यूटीओ ने पोचमपल्ली गांव को विश्व के सर्वश्रेष्ठ पर्यटन गांवों में से एक के रूप में मान्यता दी_50.1

संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन (यूएनडब्ल्यूटीओ)

  • यूएनडब्ल्यूटीओ के बारे में: यूएनडब्ल्यूटीओ संयुक्त राष्ट्र की विशिष्ट एजेंसी है जो उत्तरदायी,  धारणीय एवं सार्वभौमिक रूप से सुलभ पर्यटन को प्रोत्साहन प्रदान करने हेतु उत्तरदायी है।
    • संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन (यूएनडब्ल्यूटीओ) की स्थापना 1975 में हुई थी।
    • यूएनडब्ल्यूटीओ मुख्यालय: यूएनडब्ल्यूटीओ का मुख्यालय मैड्रिड, स्पेन में स्थित है।
  • यूएनडब्ल्यूटीओ का प्रमुख अधिदेश: यूएनडब्ल्यूटीओ पर्यटन के लिए वैश्विक आचार संहिता के कार्यान्वयन को प्रोत्साहित करता है, जिसका उद्देश्य पर्यटन के सामाजिक-आर्थिक योगदान को अधिकतम करना एवं इसके संभावित नकारात्मक प्रभावों को कम करना है।
डिजिटल ऋण पर आरबीआई कार्य समूह की रिपोर्ट भारत में एलपीजी सुधार प्रगाढ़ तेल/शेल गैस ग्लोबल इनोवेशन समिट 2021-  औषधि क्षेत्र का पहला वैश्विक नवाचार सम्मेलन
कॉप 26: सतत कृषि यूएनएफसीसीसी का कॉप 26 ग्लासगो शिखर सम्मेलन- भारत की प्रतिबद्धताएं एक जलवायु लाभांश- यूएनएफसीसीसी के कॉप 26 में भारत प्रतिस्कंदी द्वीपीय राज्यों की पहल के लिए आधारिक संरचना
वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) – विशेषज्ञ उप-समिति की एक रिपोर्ट ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान भारतीय मौसम विज्ञान विभाग डब्ल्यूएचओ वैश्विक वायु गुणवत्ता दिशा निर्देश 2021

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *