UPSC Exam   »   Shale Gas UPSC

प्रगाढ़ तेल/शेल गैस

प्रगाढ़ तेल: प्रासंगिकता

  • जीएस 3: आधारिक अवसंरचना: ऊर्जा, बंदरगाह, सड़कें, हवाई अड्डे, रेलवे इत्यादि।

 

प्रगाढ़ तेल: प्रसंग

  • हाल ही में, केयर्न ऑयल एंड गैस ने घोषणा की है कि वह राजस्थान के लोअर बाड़मेर हिल फॉर्मेशन में शेल का अन्वेषण प्रारंभ करने हेतु यूएस-आधारित हॉलीबर्टन के साथ सहयोग कर रही है।

प्रगाढ़ तेल/शेल गैस_40.1

क्या आपने यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2021 को उत्तीर्ण कर लिया है?  निशुल्क पाठ्य सामग्री प्राप्त करने के लिए यहां रजिस्टर करें

शेल तेल क्या है?

  • प्रगाढ़ तेल एक प्रकार का तेल है जो अपारगम्य शेल एवं चूना पत्थर की चट्टानी निक्षेपों में पाया जाता है।
  • इसे “शेल ऑयल” के रूप में भी जाना जाता है, प्रगाढ़ तेल को पारंपरिक तेल की भांति गैसोलीन, डीजल एवं जेट ईंधन में संसाधित किया जाता है – किंतु हाइड्रोलिक फ्रैक्चरिंग, या “फ्रैकिंग” का उपयोग करके निष्कर्षित किया जाता है।

 

शेल/प्रगाढ़ तेल बनाम पारंपरिक तेल

  • शेल तेल एवं पारंपरिक कच्चे तेल के मध्य महत्वपूर्ण अंतर यह है कि शेल तेल छोटे प्रचयों (बैचों) में पाया जाता है, एवं पारंपरिक कच्चे तेल की तुलना में गहराई में उपस्थित होता है।
  • शेल गैस निष्कर्षण के लिए हाइड्रोलिक फ्रैकिंग नामक प्रक्रिया के माध्यम से हाइड्रोकार्बन को मुक्त करने दो तेल एवं गैस समृद्ध शेल में भंजन (फ्रैक्चर) के निर्माण की आवश्यकता होती है।

 

शेल गैस उत्पादन

  • रूस एवं अमेरिका विश्व के सर्वाधिक वृहद शेल तेल उत्पादकों में से हैं।
  • यद्यपि, अमेरिका में शेल गैस के उत्पादन ने 2019 में देश को कच्चे तेल के आयातक से शुद्ध निर्यातक बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

 

शेल गैस उत्पादन: भारत

  • अभी तक, भारत में शेल तेल एवं गैस का व्यापक पैमाने पर व्यावसायिक उत्पादन नहीं हुआ है।
  • 2013 में, ओएनजीसी (तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम) ने अन्वेषण कार्य प्रारंभ किया।
  • ओएनजीसी ने गुजरात में खंभात बेसिन एवं आंध्र प्रदेश में कृष्णा गोदावरी बेसिन में शेल तेल का मूल्यांकन किया।
  • ओएनजीसी ने निष्कर्ष निकाला कि “इन बेसिनों में देखे गए तेल प्रवाह की मात्रा” “व्यावसायिकता” का संकेत नहीं देती है एवं भारतीय शेल्स की सामान्य विशेषताएं उत्तरी अमेरिकी से अत्यंत भिन्न हैं।

प्रगाढ़ तेल/शेल गैस_50.1

शेल गैस उत्पादन: चुनौतियां

  • ओएनजीसी ने विगत कुछ वर्षों में शेल अन्वेषण प्रयासों में सीमित सफलता प्राप्त करने के बाद निवेश को कम कर किया है।
  • प्राकृतिक गैस को एकत्रित करने एवं उसका विपणन करने की तकनीक उपलब्ध है, किंतु आवश्यक बुनियादी ढांचे को स्थापित करने के स्थान पर, कंपनियां प्रायः कुएं की जगह पर अतिरिक्त गैस जलाती हैं एवं मात्र तरल जीवाश्म ईंधन का विक्रय  करती हैं।
  • इसे संस्फुरण (फ्लेयरिंग) के रूप में जाना जाता है, यह प्रक्रिया शेल ऑयल से जुड़े वैश्विक तापन उत्सर्जन को अत्यधिक सीमा तक बढ़ा देती है (कुछ क्षेत्रों में फ्लेयरिंग इतनी विस्तीर्ण है कि नॉर्थ डकोटा के फ्लेयरिंग स्थलों को अंतरिक्ष से देखा जा सकता है)।
  • क्षणभंगुर मीथेन उत्सर्जन – जो तब घटित होता है जब प्राकृतिक गैस का रिसाव होता है अथवा छिद्रित होता है – एक अन्य परिहार्य जलवायु परिवर्तन योगदानकर्ता हैं।
  • प्रगाढ़ तेल का वेधन (ड्रिलिंग) स्थलों के आसपास जल, वायु एवं ध्वनि प्रदूषण पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है एवं ट्रकों, ट्रेनों तथा पाइपों द्वारा तेल अधिप्लावन (फैलने) का जोखिम होता है जो निकाले गए शेल तेल को तेल शोधन शालाओं (रिफाइनरियों) तक पहुंचाते हैं।
मनी लॉन्ड्रिंग  ग्लोबल इनोवेशन समिट 2021-  औषधि क्षेत्र का पहला वैश्विक नवाचार सम्मेलन नए कृषि कानून निरस्त: पीएम मोदी ने निरस्त किया फार्म बिल 2020 डिजिटल इंडिया भूमि अभिलेख आधुनिकीकरण कार्यक्रम
वैश्विक मीथेन संकल्प राष्ट्रीय हाइड्रोजन मिशन भारत में अक्षय ऊर्जा संस्थिति- ऊर्जा अर्थशास्त्र एवं वित्तीय विश्लेषण संस्थान द्वारा एक रिपोर्ट हिमालय में जल विद्युत परियोजनाएं
भारत में शहरी नियोजन क्षमता में सुधारों पर रिपोर्ट शहरी जल संतुलन योजना भारत में विशेष आर्थिक क्षेत्र भारत एवं एसडीजी 12

 

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.
Was this page helpful?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *