Home   »   COP 26: Key Takeaways   »   कॉप 26: सतत कृषि

कॉप 26: सतत कृषि

प्रासंगिकता

  • जीएस 2: द्विपक्षीय, क्षेत्रीय एवं वैश्विक समूह एवं भारत से जुड़े एवं / या भारत के हितों को प्रभावित करने वाले समझौते।

 

प्रसंग

  • हाल ही में कॉप 26 की बैठक में, भारत सहित 27 देशों ने कृषि को अधिक धारणीय एवं कम प्रदूषणकारी बनाने के लिए नई प्रतिबद्धताएं  निर्धारित की हैं।

कॉप 26: सतत कृषि_40.1

क्या आपने यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2021 को उत्तीर्ण कर लिया है?  निशुल्क पाठ्य सामग्री प्राप्त करने के लिए यहां रजिस्टर करें

 

मुख्य बिंदु

  • सस्टेनेबल एग्रीकल्चर पॉलिसी एक्शन एजेंडा फॉर द ट्रांजिशन टू सस्टेनेबल एग्रीकल्चर एवं ग्लोबल एक्शन एजेंडा फॉर इनोवेशन इन एग्रीकल्चर’ यूएनएफसीसीसी केकॉप 26 में भाग लेने वाले देशों द्वारा किए जाने वाले प्रमुख कार्रवाई संकल्पों में से एक था।
  • देशों ने धारणीय कृषि के लिए आवश्यक, विज्ञान में निवेश करने एवं दो एक्शन एजेंडा में निर्धारित जलवायु परिवर्तन के विरुद्ध खाद्य आपूर्ति की सुरक्षा हेतु प्रतिबद्ध किया है।
  • यूके ने वर्ल्ड लीडर्स समिट के दौरान प्रारंभ किए गए वन, कृषि एवं कमोडिटी ट्रेड (फैक्ट) रोडमैप के कार्यान्वयन का समर्थन करने के लिए 500 मिलियन पाउंड के वित्त पोषण की घोषणा की है।
    • यहां 28 देश विकास एवं व्यापार को बढ़ावा देते हुए वनों की रक्षा के लिए मिलकर कार्य कर रहे हैं।

यूएनएफसीसीसी का कॉप 26 ग्लासगो शिखर सम्मेलन- भारत की प्रतिबद्धताएं

इस एजेंडे के अनुरूप राष्ट्रीय प्रतिबद्धताएं

  • ब्राज़ील ने अपने एबीसी+ निम्न कार्बन कृषि कार्यक्रम को 72 मिलियन हेक्टेयर तक बढ़ाने की योजना बनाई है, जिससे 2030 तक 1 बिलियन टन उत्सर्जन की बचत होगी।
  • जर्मनी की 2030 तक भूमि उपयोग से होने वाले उत्सर्जन को 25 मिलियन टन कम करने की योजना है।
  • यूके का लक्ष्य 2030 तक 75% कृषकों को निम्न कार्बन प्रथाओं में सम्मिलित करना है।

 

एक जलवायु लाभांश- यूएनएफसीसीसी के कॉप 26 में भारत

कृषि सुधार एवं नवाचार:

  • 2030 तक निवल शून्य एवं प्रकृति सकारात्मक नवाचारों के साथ खाद्य प्रणाली परिवर्तन के केंद्र में 100 मिलियन कृषकों तक पहुंच हेतु एक नवीन वैश्विक पहल प्रारंभ की गई।
  • धारणीय कृषि में संक्रमण के लिए नीति कार्य एजेंडा मार्ग एवं कार्य निर्धारित करता है जो देश इन परिणामों को वितरित करने एवं एक न्यायपूर्ण ग्रामीण संक्रमण को सक्षम करने हेतु सार्वजनिक नीतियों एवं खाद्य तथा कृषि को समर्थन देने के लिए अपना सकते हैं।
  • विश्व के अग्रणी कृषि विज्ञान एवं नवोन्मेष संगठन सीजीआईएआर को 2 वर्षों में 5 मिलियन पाउंड का नया यूके फंडिंग प्राप्त होगा।
    • सीजीआईएआर को पहले अंतर्राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान पर सलाहकार समूह कहा जाता था।
    • इसका उद्देश्य जलवायु, प्रकृति, स्वास्थ्य, लिंग एवं आर्थिक प्रभाव उत्पन्न करने वाली नई फसलों एवं प्रौद्योगिकियों को निर्मित करना एवं उनका उन्नयन करना है।
  • अनुसंधान एवं नवाचार के माध्यम से जलवायु-प्रतिस्कंदी खाद्य प्रणालियों को रूपांतरित करने हेतु यूके की एक नवीन पहल।
    • गिल्बर्ट इनिशिएटिव एक खाद्य प्रणाली का समर्थन करने हेतु साक्ष्य निर्माण, प्रौद्योगिकी विकास एवं वितरण में निवेश का समन्वय करेगा जो 2030 तक 9 बिलियन लोगों को पौष्टिक, सुरक्षित खाद्य पदार्थ उपलब्ध कराएगी।

प्रतिस्कंदी द्वीपीय राज्यों की पहल के लिए आधारिक संरचना

सतत उत्पादन एवं उपभोग

  • सेन्सबरी, यूके के बिग 5 सुपरमार्केट की ओर से, डब्ल्यूडब्ल्यूएफ के साथ एक नई साझेदारी के माध्यम से 2030 तक औसत यूके शॉपिंग बास्केट के पर्यावरणीय प्रभाव को आधा करने के लिए प्रतिबद्ध होगा, जिसे बास्केट उपाय कहा जाता है।

 

महासागर संरक्षण

  • यूके ने अपने ब्लू प्लैनेट फंड के एक भाग के रूप में विश्व बैंक के प्रो ब्लू में 6 मिलियन पाउंड के निवेश की घोषणा की, जो छोटे द्वीप विकासशील राज्यों (सीड्स) एवं तटीय अल्प विकसित देशों में विकास के प्रमुख चालक के रूप में कार्य करने हेतु नीली अर्थव्यवस्था के विकास का समर्थन करता है।
  • तटीय प्राकृतिक संसाधनों में निवेश को प्रोत्साहन प्रदान करने हेतु डिज़ाइन किया गया एक बहु-क्षेत्रीय सहयोग, द ओशन रिस्क एंड रेसिलिएंस एक्शन एलायंस, ने एक गोलमेज सम्मेलन की मेजबानी की, जिसमें कम से कम 20 मिलियन अमेरिकी डॉलर सुरक्षित करने हेतु साझेदारी के लक्ष्य के प्रति प्रतिबद्धता देखी गई।

जलवायु सुभेद्यता सूचकांक

कॉप 26: सतत कृषि_50.1

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.