UPSC Exam   »   भारत की भौतिक विशेषताएं: हिमालय 2021

भारत की भौतिक विशेषताएं: हिमालय 2021

 

हिमालय 2021: प्रासंगिकता

  • जीएस 1: विश्व भर में प्रमुख प्राकृतिक संसाधनों का वितरण (दक्षिण एशिया एवं भारतीय उपमहाद्वीप सहित)।

भारत की भौतिक विशेषताएं: हिमालय 2021_40.1

क्या आपने यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2021 को उत्तीर्ण कर लिया है?  निशुल्क पाठ्य सामग्री प्राप्त करने के लिए यहां रजिस्टर करें

 

भारत की भौतिक विशेषताएं

  • भारत की भौतिक विशेषताओं को प्रमुख रूप से 6 भागों में विभाजित किया जा सकता है:
    • उत्तरी एवं उत्तर-पूर्वी पर्वत
    • उत्तरी मैदान
    • प्रायद्वीपीय पठार
    • भारतीय मरुस्थल
    • तटीय मैदान
    • द्वीप समूह।
  • इस लेख में, हम अपनी चर्चा को उत्तरी एवं उत्तर-पूर्वी पर्वतों तक सीमित रखेंगे, जो हिमालय पर्वत श्रृंखला का हिस्सा हैं।

 

हिमालय 2021

  • हिमालय विश्व की सर्वाधिक ऊंची एवं सर्वाधिक युवा (नवीन) वलित पर्वत श्रृंखलाएं हैं।
  • भूगर्भीय रूप से, हिमालय युवा, अदृढ़ एवं लचीला है क्योंकि इसका उत्थान एक सतत प्रक्रिया है।
  • यह विशिष्ट विशेषता इसे विश्व के सर्वाधिक भूकंप संभावित क्षेत्रों में से एक बनाती है।

 

हिमालय 2021: हिमालय का निर्माण

  • हिमालय का निर्माण 50 मिलियन वर्ष पूर्व हुआ था जब भारतीय प्लेट यूरेशियन प्लेट से टकराई थी।
  • भारतीय प्लेट का घनत्व अधिक होने के कारण भारतीय प्लेट यूरेशियन प्लेट से नीचे खिसक गई।
    • इसने यूरेशियन प्लेट को विभिन्न पर्वत श्रृंखलाओं में विखंडित कर दिया एवं उभारा जो अब हिमालय का हिस्सा हैं।

 

हिमालय 2021: हिमालय पर्वतमाला

  • हिमालय समानांतर पर्वत श्रृंखलाओं की एक श्रृंखला से मिलकर निर्मित हुआ है।
  • कुछ महत्वपूर्ण पर्वत मालाएं महान हिमालय श्रेणी हैं, जिनमें वृहद हिमालय एवं शिवालिक शामिल हैं।

 

हिमालय 2021: हिमालय की ओर उन्मुखीकरण

  • इन श्रेणियों का सामान्य अभिविन्यास भारत के उत्तर-पश्चिमी भाग में उत्तर-पश्चिम से दक्षिण-पूर्व दिशा की ओर है।
  • दार्जिलिंग एवं सिक्किम क्षेत्रों में हिमालय पूर्व – पश्चिम दिशा में स्थित है, जबकि अरुणाचल प्रदेश में वे दक्षिण-पश्चिम से उत्तर-पश्चिम दिशा में स्थित हैं।
  • नागालैंड, मणिपुर एवं मिजोरम में, वे उत्तर दक्षिण दिशा में स्थित हैं।

 

हिमालय का महत्व

  • हिमालय भारतीय उपमहाद्वीप एवं मध्य तथा पूर्वी एशियाई देशों के मध्य एक मजबूत एवं लंबी दीवार की भांति खड़ा है।
  • हिमालय न केवल भौतिक अवरोध हैं, बल्कि वे एक जलवायु, जल निकासी एवं सांस्कृतिक विभाजन भी हैं।

 

हिमालय 2021: हिमालय का उप – विभाजन

उच्चावच, पर्वतमाला के संरेखण एवं अन्य भू-आकृति संबंधी विशेषताओं के आधार पर, हिमालय को निम्नलिखित उपखंडों में विभाजित किया जा सकता है:

कश्मीर या उत्तर पश्चिमी हिमालय

  • कश्मीर हिमालय करेवा संरचनाओं के लिए प्रसिद्ध है, जो केसर की एक स्थानीय किस्म जाफरान की खेती के लिए उपयोगी हैं।
  • पर्वतमाला: काराकोरम, लद्दाख, जास्कर एवं पीर पंजाल।
  • महत्वपूर्ण दर्रे: महान हिमालय पर ज़ोजी ला, पीर पंजाल पर बनिहाल, जास्कर पर फोटू ला एवं लद्दाख श्रेणी पर खारदुंग ला।
  • महत्वपूर्ण झीलें: डल एवं वुलर जैसी स्वच्छ जल की झीलें एवं पैंगोंग त्सो तथा त्सो मोरीरी जैसी खारे पानी की झीलें।
  • झेलम का विसर्पण: झेलम, युवावस्था में होने के बावजूद, पूर्ववर्ती वृहद झील, जिसमें वर्तमान डल झील एक छोटा हिस्सा है, द्वारा प्रदान किए गए स्थानीय आधार स्तर के कारण विसर्प (मियाण्डर) का निर्माण करती है।

 

हिमाचल एवं उत्तराखंड हिमालय

  • यह भाग लगभग पश्चिम में रावी एवं पूर्व में काली (घाघरा की एक सहायक नदी) के मध्य स्थित है
  • यह भारत की दो प्रमुख नदी प्रणालियों– सिंधु एवं गंगा द्वारा अपवाहित होती है।
  • हिमाचल हिमालय का सर्वाधिक उत्तरी भाग लद्दाख के ठंडे मरुस्थल का विस्तार है, जो जिला लाहौल एवं स्पीति के स्पीति उपखंड में स्थित है।
  • ग्रेट हिमालयन रेंज में, घाटियों में अधिकांशतः भोटिया का निवास है।
  • भोटिया खानाबदोश समूह हैं जो ग्रीष्म ऋतु के महीनों के दौरान बुग्याल (ऊंचे इलाकों में गर्मियों के घास के मैदान) में चले जाते हैं एवं शीत ऋतु के दौरान घाटियों में लौट आते हैं।
  • महत्वपूर्ण गंतव्य स्थल: ‘फूलों की घाटी’, गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ, बद्रीनाथ एवं हेमकुंड साहिब।

 

भारत की भौतिक विशेषताएं: हिमालय 2021_50.1

दार्जिलिंग एवं सिक्किम हिमालय

  • वे पश्चिम में नेपाल हिमालय एवं पूर्व में भूटान हिमालय से घिरे हैं।
  • यह कंचनजंगा (कंचन गिरि), तेज बहने वाली नदियों जैसे तीस्ता एवं गहरी घाटियों जैसी ऊंची पर्वत चोटियों का क्षेत्र है।
  • दुआर निर्माण: इनका उपयोग चाय बागानों के विकास के लिए भी किया गया है।

 

अरुणाचल हिमालय

  • ये भूटान हिमालय के पूर्व से पूर्व में दीफू दर्रे तक विस्तृत हैं।
  • महत्वपूर्ण पर्वत चोटियाँ: कांगटू एवं नामचा बरवा।
  • महत्वपूर्ण नदियाँ: कामेंग, सुबनसिरी, दिहांग, दिबांग एवं लोहित।
  • ये वर्षण की उच्च दर के साथ बारहमासी हैं, इस प्रकार, देश में उच्चतम जल-विद्युत क्षमता से युक्त हैं।

 

पूर्वी पहाड़ियाँ एवं पर्वत।

  • ये हिमालय पर्वत प्रणाली का हिस्सा हैं, जिनका उत्तर से दक्षिण दिशा में सामान्य संरेखण है।
  • झूम कृषि: तराई क्षेत्रों में निवास करने वाले आदिवासी स्थानांतरण कृषि कार्य करते हैं जिसे स्थानीय रूप से झूम खेती कहा जाता है।
  • लोकतक झील: मणिपुर की भौगोलिक स्थिति विशिष्ट है क्योंकि इसके केंद्र में ‘लोकतक’ झील के नाम से जानी जाने वाली एक बड़ी झील है, जो चारों तरफ से  पर्वतों से घिरी हुई है।
  • मोलेसिस बेसिन: मिजोरम को ‘मोलेसिस बेसिन’ के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यह नरम असंगठित निक्षेपों से निर्मित है।

यूपीएससी के लिए अन्य उपयोगी लेख

विश्व सामाजिक सुरक्षा रिपोर्ट 2020-22

व्यापार एवं विकास रिपोर्ट 2021

उपभोक्ता विश्वास सर्वेक्षण (सीसीएस)

समग्र शिक्षा योजना 2.0

नीति आयोग: विद्यालयी शिक्षा में सुधार हेतु 11 उपाय

अंतर्राष्ट्रीय विधि आयोग

संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए)- के बारे में, संरचना एवं प्रमुख कार्य

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी)

अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए)

लंबा कार्यकाल, बेहतर प्रभाव- सीबीआई एवं  ईडी के कार्यकाल का विस्तार
केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई)- के बारे में, संरचना, नियुक्ति और क्षेत्राधिकार

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी)

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *