UPSC Exam   »   The Editorial Analysis   »   Russia-Ukraine War

संपादकीय विश्लेषण- भारत के लिए रूस से सबक

भारत के लिए रूस से सबक- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: अंतर्राष्ट्रीय संबंध- द्विपक्षीय, क्षेत्रीय एवं वैश्विक समूह  तथा भारत से जुड़े  एवं/या भारत के हितों को प्रभावित करने वाले समझौते।

संपादकीय विश्लेषण- भारत के लिए रूस से सबक_40.1

समाचारों में भारत के लिए रूस से सबक

  • यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के अनेक प्रभाव हुए हैं, किंतु एक क्षेत्र जो अधिक ध्यान देने योग्य है, वह यह है कि क्या इसने युद्ध के प्रति हमारी समझ को बदलने के लिए पर्याप्त प्रभाव उत्पन्न किया है।

 

भारत के लिए रूस से सबक- युद्ध में महत्वपूर्ण बदलाव

  • टैंकों की प्रासंगिकता: युद्धक टैंकों को, रूसी टी -90 पर विनाशकारी आक्रमण करने में अमेरिकी निर्मित जैवलिन अथवा उन्नत टैंक- रोधी अस्त्र प्रणाली जैसे टैंक-विरोधी मिसाइलों के अत्यधिक प्रभावी प्रदर्शन के कारण अप्रचलित कर दिया गया है।
    • किंतु टैंक विगत शोक संदेशों का कारण रहे हैं।
    • मौलिक रूप से, सामरिक स्तर पर, टैंक के प्रभावी होने के लिए बख्तरबंद संचालन के निकट सहयोग में पैदल सेना के उपयोग की आवश्यकता होती है।
    • जैसा कि पिछले युद्धों में हुआ था जिसमें टैंकों को नुकसान हुआ था, यह अभी भी रूस की रणनीति में अनुपस्थित है, जो बताता है कि रूसियों को टैंकों का इतना भारी टैंक नुकसान क्यों हुआ है।
    • एक स्वयं को सिद्ध करने वाली (स्टैंडअलोन) क्षमता के रूप में, टैंक तत्वों की एक त्रिमूर्ति – युद्धक शक्ति, गतिशीलता तथा सुरक्षा के रूप में लाभ प्रदान करता है।
    • जमीनी अभियानों के लिए कोई भी अस्त्र मंच विश्वसनीय विकल्प के रूप में कार्य नहीं कर सकता है।
  • युद्ध में नई प्रौद्योगिकियों की भूमिका: साइबर एवं डिजिटल प्रौद्योगिकी,  कृत्रिम प्रज्ञान (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) इत्यादि जैसी उदीयमान प्रौद्योगिकियों ने लड़ाकू विमानों, युद्धपोतों एवं तोपखाने हथियारों जैसे अप्रचलित  पारंपरिक प्लेटफार्मों को प्रस्तुत किया है।यद्यपि-
    • उदीयमान प्रौद्योगिकियां पारंपरिक प्लेटफार्मों का विकल्प नहीं हो सकतीं; वे उनके प्रदर्शन को सर्वोत्तम रूप से बढ़ा सकते हैं।
    • यदि प्रतिकूल लक्ष्यों के विरुद्ध सटीक मारक क्षमता प्रदान की जानी है, तो आयुध के प्रक्षेपण हेतु पारंपरिक प्रणाली महत्वपूर्ण होगी।
    • बटालियन टैक्टिकल ग्रुप्स में संचालित ड्रोन तथा टैंक-रोधी हमलों से रूसी जमीनी बलों द्वारा किए गए विनाशकारी नुकसान, जिसमें बड़े पैमाने पर कवच तथा तोपखाने इकाइयाँ एवं छोटी पैदल सेना शामिल हैं, ने समर्थकों को आश्वस्त किया है कि युद्ध की प्रकृति में बदलाव आया है।
    • पैदल सेना किसी भी आगे बढ़ने वाले टैंक कॉलम को सुरक्षा प्रदान करने और खतरे में पड़ने पर जवाबी कार्रवाई करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।
    • यह युद्ध में किसी परिवर्तन का प्रारंभ नहीं करता है, यह सिर्फ खराब रणनीति है।
  • वायु शक्ति की भूमिका: वायु शक्ति को प्रभावी ढंग से लागू करने में रूसियों की विफलता ने आक्रमण को आरंभ से ही विफल कर दिया।
    • इसने समर्थकों को आश्वस्त किया है कि वायु शक्ति परिणामी नहीं है।
    • वास्तव में, शत्रु वायु रक्षा का दमन किसी भी हमलावर बल के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण आवश्यकता होनी चाहिए।
    • यूक्रेन की हवाई सुरक्षा को बेअसर करने में रूस की विफलता एक स्पष्ट कमजोरी बनी हुई है।

संपादकीय विश्लेषण- भारत के लिए रूस से सबक_50.1

रूस-यूक्रेन युद्ध से भारत के लिए महत्वपूर्ण निष्कर्ष 

  • युद्ध प्रौद्योगिकियों में निवेश: भारत को सेंसर, इलेक्ट्रॉनिक युद्ध, व्यापक डिजिटलीकरण, उपग्रह संचार  तथा मानव रहित प्रणालियों में न केवल टोही एवं निगरानी के लिए, बल्कि मिशन पर भी अधिक निवेश करना चाहिए।
    • इसके लिए पारंपरिक मंचों को समाप्त करने की आवश्यकता नहीं है, बल्कि उन्हें अधिक घातक  एवं प्रभावी बनाने की आवश्यकता है।
  • आक्रामक क्षमता विकसित करना: भारत को अपनी आक्रामक क्षमता बढ़ाने के लिए अधिक मिसाइल बलों की भी आवश्यकता होगी।
    • भारतीय सशस्त्र बलों को संयुक्त शस्त्र युद्ध में दक्ष होने की आवश्यकता होगी।
  • मनोबल एवं नेतृत्व की भूमिका: निम्न मनोबल एवं प्रशिक्षण, कमजोर कमान, खराब युद्ध कौशल तथा रणनीति के लिए उन्नत तकनीक की कोई भी मात्रा प्रतिस्थापित या क्षतिपूर्ति नहीं कर सकती है।

 

ब्रिक्स संस्कृति मंत्रियों की 7वीं बैठक अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) मॉनिटर रिपोर्ट का 9वां संस्करण निवेश प्रोत्साहन समझौता डब्ल्यूएचओ महानिदेशक का ग्लोबल हेल्थ लीडर्स अवार्ड
संपादकीय विश्लेषण: भारत में एक हार्वर्ड शाखा, संभावनाएं एवं चुनौतियां जैविक अनुसंधान नियामक अनुमोदन पोर्टल पीएम युवा योजना- पात्रता, मुख्य विशेषताएं तथा महत्व विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) | भारत डब्ल्यूईएफ 2022 में भाग लेगा
भारत को वित्त वर्ष 2021-22 में सर्वाधिक एफडीआई प्रवाह प्राप्त हुआ आजादी का अमृत महोत्सव (AKAM) के तहत मनाई जाएगी राजा राममोहन राय की 250वीं जयंती प्रभावी ऊर्जा संक्रमण 2022 को प्रोत्साहित करना जीनोम संपादित पौधों के सुरक्षा आकलन के लिए दिशानिर्देश 2022

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.