Home   »   Impact of Russia Ukraine War on Indian Economy   »   Fall of Mariupol

संपादकीय विश्लेषण: मारियुपोल का पतन

रूस यूक्रेन युद्ध यूपीएससी: प्रासंगिकता

  • जीएस 2: भारत के हितों, भारतीय प्रवासियों पर विकसित एवं विकासशील देशों की नीतियों तथा राजनीति का प्रभाव।

संपादकीय विश्लेषण: मारियुपोल का पतन_40.1

रूस यूक्रेन संघर्ष: प्रसंग

  • हाल ही में, मारियुपोल में छिपे हुए अनुमानित 1,000 रक्षात्मक बलों के आत्मसमर्पण की संभावना पूर्वी यूक्रेनी शहर में युद्ध के अंत का प्रतीक है जो एक लंबी रूसी घेराबंदी के अधीन रहा है।

 

मारियुपोल का पतन: प्रमुख बिंदु

  • इससे पूर्व रूस ने कुछ सप्ताह पूर्व शहर पर नियंत्रण स्थापित करने करने की घोषणा की थी। किंतु सैकड़ों यूक्रेनी लड़ाके मारियुपोल की इस्पात मिल में बने रहे।
  • उनमें से कई ने लड़ाई समाप्त कर दी तथा स्वयं को डोनबास के रूस-नियंत्रित क्षेत्रों में सुरक्षित स्थानों पर ले गए, अब पूरा शहर रूसियों के नियंत्रण में है।

 

मारियुपोल के बारे में 

  • युद्ध के प्रारंभ होने से पूर्व मारियुपोल की आबादी आधा मिलियन थी, जिनमें से अधिकांश रूसी भाषी थे।
  • 2014 में, रूस के क्रीमिया पर नियंत्रण स्थापित करने के शीघ्र पश्चात, 2014 में रूस समर्थक अलगाववादियों द्वारा इस क्षेत्र पर कब्जा कर लिया गया था।
  • हालांकि, नव-नाजी आज़ोव बटालियन सहित यूक्रेनी राष्ट्रवादी शक्तियों ने शहर को वापस अपने नियंत्रण में ले लिया  तथा अलगाववादियों को पूर्व की ओर पलायन करने हेतु बाध्य कर दिया
  • तब से, यह शहर यूक्रेन के नागरिक संघर्ष में एक हिंसात्मक क्षेत्र (फ्लैशपॉइंट) – यूक्रेनी राष्ट्रवादियों के लिए, प्रतिरोध का एक प्रतीक, हिंदू रूस समर्थित डोनबास मिलिशिया के लिए, उनके दावा किए गए क्षेत्रों का एक हिस्सा बन गया है।
  • रूस की बेहतर सुसज्जित सेना को मारियुपोल पर कब्जा करने में लगभग तीन महीने लग गए, जो यूक्रेन के प्रतिरोध के बारे में बहुत कुछ बताता है।

 

रूस के लिए नाकामयाबी 

  • रूस ने तीन मोर्चों पर युद्ध प्रारंभ किया किंतु उत्तर तथा पूर्व में इसे यूक्रेन के उग्र प्रतिरोध का सामना करना पड़ा
  • बाद में, रूस ने कीव को उत्तरी मोर्चे पर घेरने के अपने प्रयासों को छोड़ दिया एवं कम से कम अभी के लिए, उत्तर पूर्वी शहर खारकीव से पीछे हट गया
  • इसका युद्धक्षेत्र पर ध्यान अब लगभग पूर्ण रूप से डोनबास क्षेत्र पर है जहां रूसी सैनिक आगे की ओर वृद्धिशील हैं।
  • आक्रमण ने पहले ही फिनलैंड तथा स्वीडन को, जो ऐतिहासिक रूप से सैन्य गठबंधनों से बाहर रहे हैं, औपचारिक रूप से नाटो सदस्यता लेने के लिए प्रेरित किया है

संपादकीय विश्लेषण: मारियुपोल का पतन_50.1

यूक्रेन के लिए झटका

  • यूक्रेन की त्रासदी यह है कि वह पश्चिम तथा रूस के मध्य एक वृहद शक्ति प्रतिद्वंद्विता में फंस गया है।
  • पश्चिम के भारी वित्तीय तथा सैन्य समर्थन के बावजूद, यूक्रेन अपने क्षेत्रों को खोता जा रहा है

 

रूस यूक्रेन युद्ध: निष्कर्ष

  • अतः, आक्रमण प्रारंभ होने के तीन माह से भी कम समय में, कोई स्पष्ट विजेता नहीं हैं।
  • जबकि यूक्रेन अपने क्षेत्र खो रहा है, रूस नाटो के विस्तार का एक और दौर देख रहा है।
  • जारी युद्ध के कारण, मुद्रास्फीति एवं एक ऊर्जा संकट के साथ, यूरोप को लंबे समय तक अस्थिरता तथा संघर्ष का सामना करना पड़ सकता है।

 

हंसा-एनजी | भारत का प्रथम उड्डयन प्रशिक्षक  भारत में असमानता की स्थिति की रिपोर्ट महापरिनिर्वाण मंदिर संपादकीय विश्लेषण- सिंबॉलिज्म एंड बियोंड 
कैबिनेट ने जैव ईंधन पर राष्ट्रीय नीति 2018 में संशोधन को स्वीकृति दी वैवाहिक बलात्कार की व्याख्या – वैवाहिक बलात्कार पर कानून एवं वैवाहिक बलात्कार पर न्यायिक निर्णय  गगनयान कार्यक्रम: इसरो ने सॉलिड रॉकेट बूस्टर  का सफल परीक्षण किया गति शक्ति संचार पोर्टल
एसोसिएशन ऑफ एशियन इलेक्शन अथॉरिटीज (एएईए) – भारत एएईए के अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित संपादकीय विश्लेषण- रोड टू सेफ्टी प्रथम अतुल्य भारत अंतर्राष्ट्रीय क्रूज सम्मेलन 2022 यूएनसीसीडी के कॉप 15 में भारत

Sharing is caring!