Home   »   The Editorial Analysis   »   Section 375 of IPC

वैवाहिक बलात्कार की व्याख्या – वैवाहिक बलात्कार पर कानून एवं वैवाहिक बलात्कार पर न्यायिक निर्णय 

वैवाहिक बलात्कार की व्याख्या- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: केंद्र तथा राज्यों द्वारा आबादी के कमजोर वर्गों के लिए कल्याणकारी योजनाएं एवं इन योजनाओं का प्रदर्शन;
    • इन कमजोर वर्गों की सुरक्षा तथा बेहतरी के लिए गठित तंत्र, कानून, संस्थान एवं निकाय।

वैवाहिक बलात्कार की व्याख्या – वैवाहिक बलात्कार पर कानून एवं वैवाहिक बलात्कार पर न्यायिक निर्णय _40.1

वैवाहिक बलात्कार समाचारों में

  • हाल ही में, दिल्ली उच्च न्यायालय की दो-न्यायाधीशों की खंडपीठ ने भारतीय दंड संहिता (इंडियन पीनल कोड/आईपीसी) में वैवाहिक बलात्कार को प्रदान किए गए अपवाद को चुनौती देने वाली याचिकाओं के एक बैच में एक विभाजित निर्णय दिया है।
  • वैवाहिक बलात्कार को अपराध घोषित करने के प्रश्न पर दिल्ली उच्च न्यायालय में एक विभाजित निर्णय ने  विवाह के भीतर यौन संबंधों (सेक्स) के लिए सहमति की अवहेलना के लिए विधिक/कानूनी संरक्षण पर विवाद को फिर से जन्म दिया है।

 

वैवाहिक बलात्कार अपवाद क्या है?

  • बलात्कार के लिए कानूनी प्रावधान: भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 375 बलात्कार को परिभाषित करती है एवं सहमति की सात धारणाओं को सूचीबद्ध करती है, जो  यदि भंग होती हैं, तो एक पुरुष द्वारा बलात्कार का अपराध कारित होगा।
  • बलात्कार के प्रावधान के अपवाद: आईपीसी की धारा 375 में एक महत्वपूर्ण उन्मुक्ति समाविष्ट है: “अपनी पत्नी के साथ यौन संबंध या यौन कृत्य, यदि पत्नी की आयु अठारह वर्ष से कम नहीं है, बलात्कार नहीं है।”
    • आईपीसी की धारा 375 का अपवाद अनिवार्य रूप से एक पति को वैवाहिक अधिकार की अनुमति प्रदान करता है जो विधिक स्वीकृति के साथ अपनी पत्नी के साथ सहमति या गैर-सहमति से यौन संबंध स्थापित करने के अपने अधिकार का प्रयोग कर सकता है।

 

वैवाहिक बलात्कार अपवाद पर सरकार का रुख

  • सर्वोच्च न्यायालय में:  सर्वोच्च न्यायालय में चल रहे एक वाद में, केंद्र ने शुरू में बलात्कार के अपवाद का बचाव किया एवं बाद में अपना रुख बदल दिया तथा न्यायालय से कहा कि वह कानून की समीक्षा कर रहा है,  तथा “इस मुद्दे पर व्यापक विचार-विमर्श की आवश्यकता है”।
    • दिल्ली सरकार ने वैवाहिक बलात्कार अपवाद को बरकरार रखने के पक्ष में तर्क दिया।
    • गृह मंत्रालय ने आईपीसी की धारा 375 के अपवाद सहित देश में आपराधिक कानूनों की समीक्षा के लिए एक समिति का गठन किया।
  • सरकार का तर्क: सरकार के तर्क पत्नियों द्वारा पुरुषों को कानून के संभावित दुरुपयोग से बचाने से लेकर विवाह संस्था की रक्षा करने तक विस्तृत हैं।

वैवाहिक बलात्कार की व्याख्या – वैवाहिक बलात्कार पर कानून एवं वैवाहिक बलात्कार पर न्यायिक निर्णय _50.1

वैवाहिक बलात्कार अपवाद पर न्यायपालिका

  • दिल्ली उच्च न्यायालय: दिल्ली उच्च न्यायालय की दो न्यायाधीशों की खंडपीठ ने वैवाहिक बलात्कार अपवाद पर एक विभाजित फैसला सुनाया।
    • जिस बड़ी खंडपीठ को विभाजित निर्णय पर सुनवाई के लिए दिया जा रहा है, वह उच्च न्यायालय की तीन-न्यायाधीशों की पीठ हो सकती है, या सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष अपील की जा सकती है।
    • दिल्ली उच्च न्यायालय पहले ही सर्वोच्च न्यायालय जाने के लिए अपील का प्रमाण पत्र दे चुका है क्योंकि इस मामले में विधि के महत्वपूर्ण प्रश्न सम्मिलित हैं।
  • कर्नाटक उच्च न्यायालय: जबकि उच्च न्यायालय ने वैवाहिक बलात्कार के अपवाद को स्पष्ट रूप से निरस्त नहीं किया, इसने विवाहित व्यक्ति को उसकी पत्नी द्वारा लाए गए बलात्कार के आरोपों पर वाद (मुकदमा) चलाने की अनुमति प्रदान की।
    •  अधीनस्थ न्यायालय (निचली अदालत) द्वारा धारा 376 (बलात्कार के लिए दंड) के तहत अपराध का संज्ञान लेने के पश्चात पति ने उच्च न्यायालय का रुख किया था।
  • सर्वोच्च न्यायालय: सर्वोच्च न्यायालय ने कर्नाटक  उच्च न्यायालय के उस आदेश पर रोक लगाने से इनकार कर दिया, जिसमें पहली बार किसी व्यक्ति पर वैवाहिक बलात्कार का मुकदमा चलाया गया था।
    • आदेश पर रोक लगाने से  सर्वोच्च न्यायालय का इनकार यह दर्शाता है कि उच्चतर न्यायपालिका औपनिवेशिक युग के प्रावधान की गंभीर जांच करने को तैयार है।

वैवाहिक बलात्कार की व्याख्या – वैवाहिक बलात्कार पर कानून एवं वैवाहिक बलात्कार पर न्यायिक निर्णय _60.1

अन्य देशों में वैवाहिक बलात्कार अपवाद

  • ऑस्ट्रेलिया (1981), कनाडा (1983), एवं दक्षिण अफ्रीका (1993) जैसे उपनिवेश पश्चात सामान्य  विधि के देशों में वैवाहिक बलात्कार प्रतिरक्षा को समाप्त कर दिया गया था। इन देशों ने ऐसे कानून निर्मित किए हैं जो वैवाहिक बलात्कार को अपराध मानते हैं।
  • यूनाइटेड किंगडम: 1991 में, आर बनाम आर के नाम से जाने जाने वाले वाद में अपने ऐतिहासिक निर्णय में, लॉर्ड्स ने यह विचार किया कि वह समय आ गया था जब कानून को यह घोषित करना चाहिए कि एक बलात्कारी आपराधिक कानून के अधीन एक बलात्कारी है, उसका पीड़ित के साथ संबंध पर विचार किए बिना ”।
    • यूरोपियन कोर्ट ऑफ जस्टिस ने फैसले की समीक्षा की  एवं लॉर्ड्स के फैसले को कानून के “भविष्य के विकास” के रूप में बरकरार रखा।
    • इसके बाद, 2003 में ब्रिटेन में कानून द्वारा वैवाहिक बलात्कार को गैरकानूनी घोषित कर दिया गया।

 

गगनयान कार्यक्रम: इसरो ने सॉलिड रॉकेट बूस्टर  का सफल परीक्षण किया गति शक्ति संचार पोर्टल एसोसिएशन ऑफ एशियन इलेक्शन अथॉरिटीज (एएईए) – भारत एएईए के अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित संपादकीय विश्लेषण- रोड टू सेफ्टी
प्रथम अतुल्य भारत अंतर्राष्ट्रीय क्रूज सम्मेलन 2022 यूएनसीसीडी के कॉप 15 में भारत इंटरसोलर यूरोप 2022 राष्ट्रीय निवेश एवं अवसंरचना कोष
सीमित एवं गहन पारिस्थितिकीवाद/पर्यावरणवाद- परिभाषा, चिंताएं तथा महत्व स्टेट ऑफ द वर्ल्ड्स बर्ड्स रिपोर्ट 2022 संपादकीय विश्लेषण: फ्रोजन सेडिशन ‘भारत टैप’ पहल

Sharing is caring!