Home   »   Gaganyaan Mission UPSC   »   Solid Rocket Booster

गगनयान कार्यक्रम: इसरो ने सॉलिड रॉकेट बूस्टर  का सफल परीक्षण किया

सॉलिड रॉकेट बूस्टर यूपीएससी: प्रासंगिकता

  • जीएस 3: विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में भारतीयों की उपलब्धियां; प्रौद्योगिकी का स्वदेशीकरण तथा नवीन तकनीक विकसित करना।

गगनयान कार्यक्रम: इसरो ने सॉलिड रॉकेट बूस्टर  का सफल परीक्षण किया_40.1

गगनयान कार्यक्रम यूपीएससी: प्रसंग

  • हाल ही में, इसरो ने HS200 (मानव-रेटेड ठोस रॉकेट बूस्टर) का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है, जिससे हम गगनयान मानवयुक्त अंतरिक्ष यान मिशन के एक और कदम और करीब आ गए हैं।

 

सॉलिड रॉकेट बूस्टर इसरो: प्रमुख बिंदु

  • परीक्षण सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र, श्रीहरिकोटा में आयोजित किया गया था।
  • HS200 बूस्टर को तिरुवनंतपुरम में विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर (VSSC) द्वारा दो वर्षों में डिजाइन तथा विकसित किया गया था।
  • यह भू तुल्यकाली उपग्रह प्रक्षेपण यान (जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल) Mk-III (GSLV Mk-III) पर प्रयोग किया जाने वाला रॉकेट बूस्टर है, जिसे LVM3 भी कहा जाता है।
  • LVM3 के तीन प्रणोदन चरणों में से, दूसरे चरण के मानव-रेटेड संस्करण, जिन्हें तरल प्रणोदक के साथ L110-G के रूप में जाना जाता है तथा निम्नतापी (क्रायोजेनिक) प्रणोदक के साथ तीसरे चरण C25-G के रूप में जाना जाता है, अर्हता के अंतिम चरण में हैं, जिसमें स्थैतिक फायरिंग के साथ परीक्षण सम्मिलित हैं।

 

रॉकेट बूस्टर क्या है?

  • GSLV Mk-III रॉकेट, जिसका उपयोग गगनयान मिशन के लिए किया जाएगा, में दो HS200 बूस्टर होंगे जो लिफ्ट-ऑफ के लिए प्रणोद की आपूर्ति करेंगे।
  • HS200 3.2 मीटर के व्यास के साथ 20 मीटर लंबा बूस्टर है एवं ठोस प्रणोदक का उपयोग करने वाला विश्व का दूसरा सबसे बड़ा परिचालन बूस्टर है।
  • चूंकि गगनयान एक चालक दल मिशन है, इसलिए GSLV Mk-III में ‘मानव रेटिंग’ की आवश्यकताओं को  प्राप्त करने हेतु विश्वसनीयता एवं सुरक्षा बढ़ाने के लिए सुधार होंगे।

गगनयान कार्यक्रम: इसरो ने सॉलिड रॉकेट बूस्टर  का सफल परीक्षण किया_50.1

जीएसएलवी रॉकेट के बारे में 

  • जीएसएलवी रॉकेट के बारे में: यह इसरो द्वारा विकसित तीन चरणों वाला वजनी प्रक्षेपण यान है। वे भारत द्वारा विकसित सबसे बड़े प्रक्षेपण यान हैं।
    • जीएसएलवी रॉकेटों के लिए विकास 2000 के दशक की शुरुआत में आरंभ हुआ, जिसमें पहला प्रक्षेपण 2009-2010 के लिए आयोजित होना था।
    • एक जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (GSLV) रॉकेट में तीन चरण होते हैं।
  1. पहला चरण: एक ठोस रॉकेट मोटर और चार तरल स्ट्रैप-ऑन होते हैं।
  2. दूसरा चरण: विकास इंजन/इंजन (तरल ईंधन से चलने वाले रॉकेट इंजनों का एक कुल, जिसे 1970 के दशक में तरल प्रणोदन प्रणाली केंद्र द्वारा अवधारणा तथा अभिकल्पित किया गया था) शामिल हैं।
  3. तीसरा चरण: स्वदेशी रूप से विकसित (तरल प्रणोदन प्रणाली केंद्र/लिक्विड प्रोपल्शन सिस्टम्स सेंटर द्वारा) क्रायोजेनिक इंजन शामिल है।
  • जीएसएलवी मार्क- II रॉकेट: यह चौथी पीढ़ी का प्रक्षेपण यान है।
    • नीतभार वहन करने की क्षमता: यह 2500 किलोग्राम के उपग्रह को भू-तुल्यकाली कक्षा में  एवं 5000 किलोग्राम उपग्रह को पृथ्वी की निचली कक्षा में स्थापित कर सकता है।
    • पहला सफल प्रक्षेपण: GSLV-D5 (2014 में प्रक्षेपित किया गया) स्वदेशी रूप से विकसित क्रायोजेनिक इंजन का उपयोग करके GSLV मार्क-II की पहली सफल उड़ान थी।
  • जीएसएलवी मार्क-III रॉकेट: यह भारत के पास उपलब्ध सर्वाधिक सक्षम प्रक्षेपण यान है। इसके तीन चरणों में सॉलिड बूस्टर, लिक्विड मोटर एवं क्रायोजेनिक ऊपरी चरण सम्मिलित हैं।
    • नीतभार वहन क्षमता: यह 4 टन के संचार उपग्रह को भू-तुल्यकालिक स्थानांतरण कक्षा (जीटीओ) में एवं 10 टन उपग्रह को निम्न पृथ्वी कक्षा (लोअर अर्थ ऑर्बिट/एलईओ) में स्थापित करने में सक्षम है।
    • पहली सफल उड़ान: दिसंबर 2014 में ली गई जब इसने क्रू मॉड्यूल को 120 किमी की ऊंचाई तक सफलतापूर्वक पहुंचाया।
    • जीएसएलवी मार्क-III द्वारा कुछ सफल उड़ानें:
      • केयर (क्रू मॉड्यूल एटमॉस्फेरिक री-एंट्री मिशन), दिसंबर 2014।
      • जीसैट – 19 मिशन, जून 2017 में प्रक्षेपित किया गया।
      • जीसैट – 29 मिशन, नवंबर 2018 में पक्के मित्र किया गया।
      • चंद्रयान 2 मिशन, 2019।

गगनयान कार्यक्रम: इसरो ने सॉलिड रॉकेट बूस्टर  का सफल परीक्षण किया_60.1

गगनयान मिशन के बारे में

  • गगनयान कार्यक्रम में अल्पावधि में पृथ्वी की निचली कक्षा (एलईओ) के लिए मानव अंतरिक्ष उड़ान के प्रदर्शन की परिकल्पना की गई है तथा यह लंबे समय में एक सतत भारतीय मानव अंतरिक्ष अन्वेषण कार्यक्रम की नींव रखेगा।
  • गगनयान कार्यक्रम का उद्देश्य पृथ्वी की निचली कक्षा (एलईओ) को मानवयुक्त अंतरिक्ष उड़ान मिशन  प्रारंभ करने  हेतु स्वदेशी क्षमता का प्रदर्शन करना है।
  • इस कार्यक्रम के एक भाग के रूप में, दो मानव रहित मिशन तथा एक मानवयुक्त मिशन भारत सरकार (भारत सरकार) द्वारा अनुमोदित हैं।
  • गगनयान कार्यक्रम की कुल लागत लगभग 9023 करोड़ रुपये है।

 

गति शक्ति संचार पोर्टल एसोसिएशन ऑफ एशियन इलेक्शन अथॉरिटीज (एएईए) – भारत एएईए के अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित संपादकीय विश्लेषण- रोड टू सेफ्टी प्रथम अतुल्य भारत अंतर्राष्ट्रीय क्रूज सम्मेलन 2022
यूएनसीसीडी के कॉप 15 में भारत इंटरसोलर यूरोप 2022 राष्ट्रीय निवेश एवं अवसंरचना कोष सीमित एवं गहन पारिस्थितिकीवाद/पर्यावरणवाद- परिभाषा, चिंताएं तथा महत्व
स्टेट ऑफ द वर्ल्ड्स बर्ड्स रिपोर्ट 2022 संपादकीय विश्लेषण: फ्रोजन सेडिशन ‘भारत टैप’ पहल संपादकीय विश्लेषण- सहमति का महत्व

Sharing is caring!