UPSC Exam   »   Farm Loan Waiver in India: A Report by NABARD   »   Farmer Distress Index

किसान संकट सूचकांक

किसान संकट सूचकांक यूपीएससी: प्रासंगिकता

  • जीएस 3: प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष कृषि सब्सिडी से संबंधित मुद्दे

किसान संकट सूचकांक_40.1

किसान संकट सूचकांक नाबार्ड: संदर्भ

  • हाल ही में, नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट (नाबार्ड) ने सूचित किया है कि वह वास्तविक जरूरतमंद पता संकटग्रस्त किसानों को ट्रैक करने, उनकी पहचान करने एवं उनका समर्थन करने के लिए एक किसान संकट सूचकांक (फार्मर डिस्ट्रेस इंडेक्स/FDI) तैयार करने की योजना बना रहा है।

 

किसान संकट सूचकांक क्या है?

  • नाबार्ड के अनुसार, किसान संकट सूचकांक एक गतिशील सूचकांक होगा जिसे वास्तविक जरूरतमंद एवं संकटग्रस्त किसानों को ट्रैक करने, पहचानने तथा समर्थन करने हेतु तैयार किया जा सकता है।
  • यह सूचकांक संपूर्ण देश में एक समान नहीं होगा क्योंकि यह तनाव के स्तर के आधार पर एक स्थान से दूसरे स्थान पर परिवर्तित होता रहता है।
  • संकट के प्रकार एवं गंभीरता के आधार पर, बिना शर्त अनुदान, ऋण पुनर्गठन एवं/या पूर्ण ऋण माफी के संयोजन के रूप में सहायता दी जा सकती है।
  • सूचकांक में किसानों के ऋण के वर्तमान स्तर, फसल बीमा तक उनकी पहुंच के संकेतक भी होंगे।

 

किसान संकट सूचकांक: क्यों महत्वपूर्ण है?

  • भारत में कृषि ऋण माफी पर हाल ही में प्रकाशित रिपोर्ट में, नाबार्ड ने कहा कि ऋण माफी का डिज़ाइन ऐसा है कि जिन लोगों का ऋण माफ किया जाना चाहिए था, उनका एक बड़ा वर्ग इस प्रक्रिया से लाभ नहीं उठा पा रहा था।
  • परिणाम स्वरूप, जरूरतमंद एवं संकटग्रस्त किसान, जो अधिकांशतः मामलों में छोटे  तथा सीमांत किसान हैं, उन्हें ऋण माफी से सहायता प्राप्त नहीं हो पा रही है
  • एक किसान के संकट को उसकी फसल के नुकसान की सीमा से मापने की सामान्य पद्धति ने अन्य क्षेत्रों में बहुत से संकटग्रस्त किसानों को लाभार्थी के दायरे से बाहर कर दिया है

किसान संकट सूचकांक_50.1

किसान संकट सूचकांक के लाभ

  • सूचकांक संकट पैकेज के जरूरतमंद लाभार्थियों के अभिनिर्धारण में सहायता करेगा। संकट के स्तर के आधार पर, सरकार एवं वित्तीय संस्थान सहायता के उपयुक्त पैकेज पर निर्णय ले सकते हैं।
    • यह पूरे बोर्ड के सभी किसानों को संकट पैकेज देने की वर्तमान प्रथा के विपरीत है।
  • इससे संपूर्ण वित्तीय क्षेत्र, सरकारी विभागों एवं बीमा कंपनियों को भी सहायता प्राप्त होगी
  • किसान संकट सूचकांक प्रमुख कृषि चर पर उपलब्ध उच्च आवृत्ति डेटा जैसे मानसून की वर्षा का विचलन, तापमान एवं मृदा की नमी में परिवर्तन, जिले में प्रमुख फसलों की उपज, किसान के लिए उपलब्ध विपणन अवसर, इत्यादि को एकीकृत कर सकता है
  • इस सूचकांक का उपयोग नीति निर्माताओं तथा सरकार द्वारा संकटग्रस्त किसानों को समर्थन देने के लिए समय पर एवं लक्षित पद्धति की योजना निर्मित करने एवं डिजाइन करने के लिए किया जा सकता है।

 

संपादकीय विश्लेषण: अफस्पा की समाप्ति आरबीआई ने वित्त वर्ष 2021-22 के लिए मुद्रा एवं वित्त पर रिपोर्ट जारी की भारत में अर्धचालक निर्माण: सेमीकॉन इंडिया कॉन्फ्रेंस 2022 अटल न्यू इंडिया चैलेंज 2.0 का शुभारंभ
संपादकीय विश्लेषण: एक कदम जो भाषा फोनोसाइड को प्रेरित करेगा राष्ट्रीय पाठ्यक्रम की रूपरेखा के लिए अधिदेश दस्तावेज़ जारी किया गया AQEES: क्यूईएस रिपोर्ट का तीसरा दौर जारी यूनिफ़ॉर्म कार्बन ट्रेडिंग मार्केट की भारत की योजना 
2030 तक मलेरिया उन्मूलन अर्थोपाय अग्रिम: आरबीआई ने राज्यों के लिए सीमा कम की जलवायु प्रतिस्कंदी कृषि: एपीडा ने एनआरडीसी के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए एमएसएमई सस्टेनेबल (जेडईडी) योजना विमोचित

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.