UPSC Exam   »   Important International Reports and Indices   »   विश्व रोजगार एवं सामाजिक दृष्टिकोण 2022

विश्व रोजगार एवं सामाजिक दृष्टिकोण 2022

विश्व रोजगार एवं सामाजिक दृष्टिकोण 2022: प्रासंगिकता

  • जीएस 2: स्वास्थ्य, शिक्षा, मानव संसाधन से संबंधित सामाजिक क्षेत्र/सेवाओं के विकास एवं प्रबंधन से संबंधित मुद्दे।

विश्व रोजगार एवं सामाजिक दृष्टिकोण 2022_40.1

विश्व रोजगार एवं सामाजिक दृष्टिकोण 2022: संदर्भ

  • हाल ही में, अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन/आईएलओ) ने वर्ल्ड एंप्लॉयमेंट फॉर सोशल आउटलुक 2022 जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि वैश्विक बेरोजगारी 2022 में 200 मिलियन का आंकड़ा पार कर जाएगी।

 

विश्व रोजगार एवं सामाजिक दृष्टिकोण 2022: प्रमुख बिंदु

  • आईएलओ ने कहा है कि यह संख्या 2019- कोविड-19 महामारीके आरंभ होने से पूर्व की तुलना में 21 मिलियन अधिक है।
  • 2022 में वैश्विक कार्य के घंटे उनके महामारी-पूर्व स्तर से लगभग दो प्रतिशत कम होंगे जो कि 52 मिलियन पूर्णकालिक रोजगार की हानि के समतुल्य है।
  • 2022 के पूर्वानुमान में अवनति (गिरावट) विश्व में रोजगार परिदृश्यों पर कोविड-19 के नए संस्करणों के प्रभाव कोप्रदर्शित करती है।
  • रिपोर्ट में यह भी अनुमान लगाया गया है कि 2022 में लगभग 40 मिलियन लोग वैश्विक श्रम बल में भाग नहीं लेंगे।
  • रिपोर्ट में यह भी अनुमान लगाया गया है कि 2022 में, अतिरिक्त 30 मिलियन वयस्क अत्यधिक निर्धनता के दायरे में आ जाएंगे
    • अति निर्धनता: क्रय शक्ति समता में प्रतिदिन 90 डॉलर से कम पर जीवन यापन करने वाले लोग।
  • अत्यधिक कार्यशील निर्धनों की संख्या में आठ मिलियन की वृद्धि हुई है।
  • कई निम्न एवं मध्यम आय वाले देशों में कोविड-19 रोधी टीकों तक पहुंच कम है। इसके अतिरिक्त, उनके पास संकट से निपटने के लिए सरकारी बजट का विस्तार करने की सीमित संभावना है।
  • जबकि अधिकांश देश अपने श्रम बाजार में सुधार के लिए गंभीर नकारात्मक जोखिम का सामना कर रहे हैं जो महामारी के जारी प्रभाव से उत्पन्न हुई है।
  • यद्यपि, लैटिन अमेरिका एवं कैरिबियन तथा दक्षिण पूर्व एशिया के लिए दृष्टिकोण सर्वाधिक नकारात्मक है।
  • यात्रा एवं पर्यटन जैसे क्षेत्र व्यापक पैमाने पर प्रभावित हुए हैं, जबकि सूचना प्रौद्योगिकी जैसे क्षेत्र समृद्ध हुए हैं।
  • श्रम बाजार में जारी संकट से महिलाएं बुरी तरह प्रभावित हुई हैं।
  • महामारी प्रेरित लॉकडाउन के कारण शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थानों के बंद होने का युवाओं पर, विशेष रूप से उन लोगों के लिए, जिनके पास इंटरनेट तक पहुंचे नहीं है, दीर्घकालिक प्रभाव पड़ेगा

विश्व रोजगार एवं सामाजिक दृष्टिकोण 2022_50.1

विश्व रोजगार एवं सामाजिक दृष्टिकोण 2022: सुझाव

  • श्रम बाजार में व्यापक आधार वाले सुधारों की आवश्यकता है – पुनर्प्राप्ति मानव-केंद्रित, समावेशी, सतत एवं लोचशील होनी चाहिए।
  • पुनर्प्राप्ति स्वास्थ्य एवं सुरक्षा, समानता, सामाजिक सुरक्षा एवं सामाजिक संवाद सहित – कार्य की उचित दशाओं के सिद्धांतों पर आधारित होनी चाहिए

 

संपादकीय विश्लेषण- आईएएस संवर्ग नियम संशोधन वापस लेना आर्द्रभूमियों पर रामसर अभिसमय ज्वालामुखी के प्रकार: ज्वालामुखियों का वर्गीकरण उदाहरण सहित ब्रह्मोस मिसाइल- विस्तारित परिसर ब्रह्मोस उड़ान-परीक्षण
राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग ओबीसी कोटा: सर्वोच्च न्यायालय ने नीट में ओबीसी कोटा बरकरार रखा आईयूसीएन एवं आईयूसीएन रेड डेटा बुक बैंकों का राष्ट्रीयकरण
फिशरीज स्टार्टअप ग्रैंड चैलेंज 5जी बनाम विमानन सुरक्षा आजादी के अमृत महोत्सव से स्वर्णिम भारत की ओर | ब्रह्म कुमारियों की सात पहल संपादकीय विश्लेषण: नगरीय सरकारों का लोकतंत्रीकरण एवं उन्हें सशक्त बनाना

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.
Was this page helpful?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *