UPSC Exam   »   S-400 Triumf Missile System   »   Russia- Turkey Economic Cooperation Agreement

रूस-तुर्की आर्थिक सहयोग- यूरोप के लिए सरोकार 

रूस-तुर्की आर्थिक सहयोग- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: अंतर्राष्ट्रीय संबंध- द्विपक्षीय, क्षेत्रीय एवं वैश्विक समूह तथा भारत से जुड़े एवं/या भारत के हितों को प्रभावित करने वाले समझौते।

रूस-तुर्की आर्थिक सहयोग- यूरोप के लिए सरोकार _40.1

रूस-तुर्की आर्थिक सहयोग चर्चा में क्यों है

  • हाल ही में रूस  एवं टर्की, रूस के सोची शहर में आयोजित एक बैठक में आर्थिक सहयोग बढ़ाने पर सहमत हुए।
  • अमेरिका ने 2020 में मास्को से एस-400 वायु रक्षा प्रक्षेपास्त्र प्रणाली का क्रय करने हेतु अपने काउंटरिंग अमेरिकन एडवर्सरीज थ्रू सेंक्शंस एक्ट (CAATSA) के तहत तुर्की को स्वीकृति प्रदान की।
    • भारत ने भी इस प्रणाली का क्रय किया है किंतु अमेरिकी सरकार द्वारा सीएएटीएसए लागू करने से एक अपवाद प्राप्त हुआ है।

 

रूस-तुर्की आर्थिक सहयोग समझौता

  • रूस-तुर्की ने तुर्की को गैस के निर्यात पर पर चर्चा की थी । तुर्की भी गैस के निर्यात के लिए आंशिक रूप से रूसी मुद्रा, रूबल में भुगतान करने पर सहमत हुआ।
  • ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार, पांच तुर्की बैंकों ने रूबल में भुगतान के लिए रूस की मीर भुगतान प्रणाली को अपनाया है।
  • वे “अर्थव्यवस्था एवं ऊर्जा पर एक दूसरे की अपेक्षाओं को पूरा करने” के लिए भी सहमत हुए।
  • बाद में जारी एक संयुक्त प्रेस वक्तव्य में उल्लेखित सहयोग के अन्य क्षेत्रों में परिवहन, वाणिज्य, कृषि, उद्योग, वित्त, पर्यटन एवं निर्माण सम्मिलित थे।

 

रूस-तुर्की आर्थिक सहयोग- यूरोप के लिए सरोकार _50.1

यूरोपीय देशों की संबद्ध चिंताएं

  • रूस-यूक्रेन युद्ध: यह यूरोप के लिए चिंता का विषय है, विशेष रूप से ऐसे समय में जब पश्चिमी देशों ने यूक्रेन में जारी युद्ध को लेकर रूस के साथ अपने आर्थिक संबंधों के दायरे को कम करने की मांग की है।
  • वित्तीय प्रणाली: चिंता का एक अन्य स्रोत रूस की मीर भुगतान प्रणाली हो सकती है जिसे 5 तुर्की बैंकों द्वारा अपनाया गया है।
    • यूक्रेन पर आक्रमण के पश्चात से वीजा एवं मास्टरकार्ड ने रूस में अपने संचालन को निलंबित कर दिया है, तुर्की में रूसी पर्यटक अब अपने मीर कार्ड का उपयोग कर सकते हैं, कुछ पश्चिमी प्रतिबंधों को प्रभावी ढंग से दरकिनार कर सकते हैं।
  • नाटो के सदस्य: रूस एवं तुर्की के मध्य घनिष्ठता नाटो देशों के लिए चिंता का विषय है, जिनमें से एक सदस्य तुर्की भी है।
    • यह एक गंभीर चिंता का विषय है, विशेष रूप से जब रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण पश्चिमी एवं यूरोपीय देशों के साथ रूस के संबंध अपने निम्न स्तर से गुजर रहे हैं।
    • यह स्वीडन एवं फ़िनलैंड को नाटो में प्रवेश की अनुमति देने की कुंजी भी रखता है, जो गठबंधन यूक्रेन में होने वाली घटनाओं को देखते हुए करने के लिए उत्सुक हो सकता है।
  • यूरोप के लिए तुर्की का महत्व: कुल मिलाकर, तुर्की पश्चिमी देशों के साथ एक महत्वपूर्ण भागीदार है एवं इसके विरुद्ध कार्रवाई करने से पश्चिम के लिए मुद्दों की एक नवीन श्रृंखला का उदय हो सकता है। उदाहरण के लिए-
    • सीरियाई शरणार्थी संकट से निपटने में तुर्की की महत्वपूर्ण भूमिका।
    • तुर्की ने यूरोपीय संघ के साथ एक समझौते के एक भाग के रूप में लगभग 3.7 मिलियन सीरियाई लोगों की मेजबानी की एवं “यूरोप में प्रवासियों के प्रवाह को रोकने में सहायता” की।

 

एशियन रीजनल फोरम मीट- चुनावी लोकतंत्र के लिए सम्मेलन उच्च शिक्षा का अंतर्राष्ट्रीयकरण  22 वां भारत रंग महोत्सव 2022 (आजादी खंड) भारत में आर्द्रभूमियां- सरकार द्वारा उठाए गए कदम
संपादकीय विश्लेषण-रैंकिंग दैट मेक नो सेंस पीएम आदि आदर्श ग्राम योजना (पीएमएजीवाई) सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम का कार्य संचालन  सब्जियों के लिए भारत-इजरायल उत्कृष्टता केंद्र 
भारतीय चिकित्सा एवं होम्योपैथी के लिए भेषज आयोग (फार्माकोपिया कमीशन फॉर इंडियन मेडिसिन एंड होम्योपैथी) संपादकीय विश्लेषण- कूलिंग द टेंपरेचर्स ग्रैंड ओनियन चैलेंज हर घर तिरंगा अभियान

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.