Home   »   Inequality Kills: A Report by Oxfam International   »   ऑक्सफैम ने ‘फर्स्ट  क्राइसिस, दैन कैटास्ट्रोफे’...

ऑक्सफैम ने ‘फर्स्ट  क्राइसिस, दैन कैटास्ट्रोफे’ रिपोर्ट जारी की

ऑक्सफैम रिपोर्ट: प्रासंगिकता

  • जीएस 2: निर्धनता एवं भूख से संबंधित मुद्दे।

ऑक्सफैम ने ‘फर्स्ट  क्राइसिस, दैन कैटास्ट्रोफे’ रिपोर्ट जारी की_40.1

ऑक्सफैम रिपोर्ट: संदर्भ

  • हाल ही में, ऑक्सफैम इंटरनेशनल ने ‘पहले संकट, फिर तबाही’ (फर्स्ट  क्राइसिस, दैन कैटास्ट्रोफे) शीर्षक से एक रिपोर्ट जारी की है, जिसमें उसने चेतावनी दी है कि 2022 में एक अरब लोगों में से एक चौथाई को अत्यधिक निर्धनता की तिथि में धकेला जा सकता है

 

ऑक्सफैम असमानता रिपोर्ट: प्रमुख बिंदु

  • बहु संकट: यूक्रेन में युद्ध एवं कोविड-19 में अत्यधिक असमानता, अभूतपूर्व खाद्य तथा ऊर्जा मूल्य मुद्रास्फीति के संकट  ऐसे अनेक संकट हैं जो  विश्व के सर्वाधिक निर्धन व्यक्तियों के लिए दुर्गति उत्पन्न करने  हेतु अभिसरण कर रहे हैं।
  • कोविड-19 के संयुक्त प्रभाव, असमानता तथा खाद्य कीमतों में वृद्धि के परिणामस्वरूप इस वर्ष 263 मिलियन अधिक लोग अत्यधिक निर्धनता की स्थिति में जा सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप कुल 860 मिलियन लोग 1.90 डॉलर प्रतिदिन अत्यधिक निर्धनता रेखा से नीचे रह रहे हैं।
  • ये कई संकट पहले से ही गंभीर रूप से विषम विश्व को प्रभावित कर रहे हैं, जो आगे कोविड-19 महामारी से और अधिक क्षतिग्रस्त हो रही है।

 

2022 में आय की असमानता

  • अत्यधिक निर्धनता की स्थिति में भारी वृद्धि की  संभावना: कोविड-19 तथा यूक्रेन में युद्ध के कारण खाद्य पदार्थों एवं ऊर्जा की कीमतों में वृद्धि ने विश्व में निर्धनता की प्रवृत्ति को और तीव्र कर दिया है।
  • गिरती  तथा स्थिर मजदूरी: अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (इंटरनेशनल लेबर ऑर्गेनाइजेशन/ILO) ने पाया है कि कोविड-19 ने श्रमिकों को कम घंटे तथा मजदूरी में कटौती को स्वीकार करने हेतु बाध्य किया है। ऐसी चिंताएं हैं कि 2022 में मुद्रास्फीति वेतन वृद्धि से आगे निकल जाएगी, जिसका अर्थ है कि बढ़ती लागत के मुकाबले श्रमिकों को प्राप्त होने वाले वास्तविक आय में कमी आई है।
  • दिवालिया होने की कगार पर सरकारें: कोविड-19 में संपूर्ण विश्व की सरकारों के वित्त को  अत्यधिक सीमा तक बढ़ा दिया है। महामारी के कारण हुई मंदी की लागत अत्यधिक थी एवं अनेक सरकारों द्वारा लोगों पर पड़ने वाले प्रभावों से निपटने के लिए की गई कार्रवाइयों में अत्यधिक मात्रा में सार्वजनिक धन  का व्यय किया गया एवं सार्वजनिक ऋण के स्तर में वृद्धि हुई।
  • संकट के समय बढ़ता कॉर्पोरेट मुनाफा: ऑक्सफैम ने बताया कि विश्व की 32  सर्वाधिक बड़ी कंपनियों ने 2020 में अपने लाभ में 109 अरब डॉलर की वृद्धि दर्ज की।

ऑक्सफैम ने ‘फर्स्ट  क्राइसिस, दैन कैटास्ट्रोफे’ रिपोर्ट जारी की_50.1

ऑक्सफैम रिपोर्ट: प्रस्तावित समाधान

  • महंगाई से निर्धनों की रक्षा करें: समय की असाधारण मांगों को पूरा करते हुए सरकारों को भोजन तथा ऊर्जा की कीमतों को सीधे नियंत्रित करने का प्रयत्न करना चाहिए।
  • निर्धन देशों को अदेय ऋण रद्द करना: जी 20 को ऋण एजेंडे को प्राथमिकता देनी चाहिए  एवं 2022  तथा 2023 में सभी निम्न  एवं निम्न-मध्यम-आय वाले देशों के लिए सभी ऋण भुगतानों को रद्द करना चाहिए, जिन्हें इसकी आवश्यकता है।
  • संपत्ति पर कर आरोपित करना: देशों को उच्च आय पर आपातकालीन ऐक्य कर अथवा एकमुश्त संपत्ति कर, या पूंजीगत लाभ करों अथवा व्यक्तिगत आय  पर करों में अस्थायी वृद्धि पर विचार करना चाहिए।
  • विशेष आहरण अधिकार पुन: आवंटित एवं पुन: जारी करें: समृद्ध देशों को  अपने एसडीआर का कम से कम 25%  को विकासशील देशों को इस प्रकार से  पुन: आवंटित करना चाहिए जिससे वे ऋण एवं शर्त-मुक्त हों।
  • निर्धन देशों के लिए जीवन रक्षक आपातकालीन सहायता में वृद्धि करें: अपनी वर्तमान सहायता प्रतिबद्धताओं के आधार पर, समृद्ध देश के दाताओं को निम्न-आय वाले देशों को त्वरित रूप से आपातकालीन सहायता प्रदान करनी चाहिए।

 

यूनिवर्सल बेसिक इनकम: परिभाषा, लाभ एवं हानि  भारत-जापान संबंध | विकेन्द्रीकृत घरेलू अपशिष्ट जल प्रबंधन भारत में शुष्क भूमि कृषि ऊर्जा के पारंपरिक तथा गैर-पारंपरिक स्रोत भाग 2 
वित्त वर्ष 2022 के लिए परिसंपत्ति मुद्रीकरण लक्ष्य  को पार कर गया एसडीजी के स्थानीयकरण पर राष्ट्रीय सम्मेलन  स्वनिधि से समृद्धि कार्यक्रम विस्तारित अमृत ​​समागम | भारत के पर्यटन तथा संस्कृति मंत्रियों का सम्मेलन
ऊर्जा के पारंपरिक तथा गैर पारंपरिक स्रोत भाग 1  कावेरी नदी में माइक्रोप्लास्टिक की उपस्थिति मछलियों को हानि पहुंचा रही है तकनीकी वस्त्रों हेतु नई निर्यात संवर्धन परिषद संपादकीय विश्लेषण: भारतीय रेलवे के बेहतर प्रबंधन हेतु विलय

Sharing is caring!