Home   »   IPCC report’s Sixth Assessment Report   »   climate transparency report upsc

जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट 2021

जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट 2021: प्रासंगिकता

  • जीएस 3: संरक्षण, पर्यावरण प्रदूषण एवं क्षरण, पर्यावरणीय प्रभाव मूल्यांकन।

 

जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट 2021: प्रसंग

  • हाल ही में, क्लाइमेट ट्रांसपेरेंसी ने क्लाइमेट ट्रांसपेरेंसी रिपोर्ट 2021 जारी की है, जिसमें जी 20 देशों की निवल-शून्य उत्सर्जन अर्थव्यवस्था की दिशा में उनकी यात्रा का व्यापक अवलोकन प्रदान किया गया है।

जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट 2021_3.1

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी हेतु निशुल्क वीडियो प्राप्त कीजिए एवं आईएएस/ आईपीएस/ आईआरएस बनने के अपने सपने को साकार कीजिए

 

जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट 2021: मुख्य बिंदु

  • रिपोर्ट नवीनतम उत्सर्जन के आंकड़ों पर आधारित है एवं इसमें कार्बनीकरण, जलवायु नीतियां, वित्त एवं जलवायु परिवर्तन के प्रभावों के प्रति संवेदनशीलता पर 100 संकेतक शामिल हैं।
  • समीक्षा अनुकूलन, शमन एवं वित्त के लिए 100 संकेतकों पर आधारित है एवं इसका उद्देश्य अच्छी प्रथाओं एवं अंतराल को पारदर्शी बनाना है।

स्वच्छ पर्यावरण का अधिकार

जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट 2021: प्रमुख निष्कर्ष

  • कनाडा, फ्रांस, यूरोपीय संघ एवं जर्मनी को हरित पुनः स्थापन के ‘वर्तमान नेतृत्व’ के रूप में पहचाना जाता है।
  • गैर-ओईसीडी जी 20 सदस्यों को अनेक संकटों के बाद पुनर्निर्माण के लिए व्यापक चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, उन्हें दीर्घकालिक समस्याओं एवं असमानताओं जैसे कि धन की पहुंच, ऋण के अभाव एवं अत्यधिक निर्धनता से जूझना पड़ता है।
  • आईपीसीसी एआर6 द्वारा विचार किए गए लगभग सभी उत्सर्जन परिदृश्यों में वैश्विक तापन 2030 के दशक के प्रारंभ में 5 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाएगी या उससे अधिक हो जाएगी।

 

जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट 2021: जी 20 उत्सर्जन

  • जी 20 भूमि उपयोग परिवर्तन एवं वानिकी सहित वैश्विक हरितगृह गैसों (जीएचजी) के लगभग 75% भाग के लिए उत्तरदायी है।
  • अप्रैल 2021 तक राष्ट्रीय स्तर पर मूल्यांकन किए गए निर्धारित योगदान (एनडीसी) लक्ष्यों का संयुक्त शमन प्रभाव पर्याप्त नहीं है एवं इससे सदी के अंत तक तापन 4 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जाएगा।
  • यूके एकमात्र जी 20 सदस्य है जिसका घरेलू लक्ष्य जो 2030 में 5°C मॉडल वाले घरेलू मार्ग के अनुरूप है।

 

पारिस्थितिक संकट रिपोर्ट 2021

जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट 2021: जीवाश्म ईंधन

  • जी 20 ने जीवाश्म ईंधन उद्योग में धन प्रवाह जारी रखा है, जनवरी 2020 से अगस्त 2021 तक सहायिकी में कुल 298 बिलियन अमरीकी डॉलर की प्रतिबद्धता है, जो कि जी 20 के 300 बिलियन अमरीकी डालर के कुल हरित पुनः स्थापन (ग्रीन रिकवरी) आवंटन के लगभग बराबर है।

 

जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट 2021: ऊर्जा क्षेत्र

  • ऊर्जा क्षेत्र से कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन समस्त हरित गृह गैसों  के उत्सर्जन (भूमि उपयोग परिवर्तन एवं वानिकी सहित) का 78% है, जिसमें सर्वाधिक अनुपात ऊर्जा क्षेत्र से आता है।

शहरों द्वारा जलवायु कार्रवाई को अपनाना

जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट 2021: निवल शून्य लक्ष्य

  • कनाडा, यूरोपीय संघ, फ्रांस, जर्मनी, जापान, दक्षिण कोरिया एवं यूके – वैश्विक हरित गृह गैसों के 14% के लिए   उत्तरदायी है – ने कानून में अपने लक्ष्य को सुनिश्चित किया है।
  • दूसरी ओर, ऑस्ट्रेलिया, भारत, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, तुर्की ने अब तक किसी लक्ष्य की घोषणा नहीं की है।

 

जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट 2021: महत्वाकांक्षा  अंतराल

  • एम्बिशन गैप एनडीसी एवं 5 डिग्री सेल्सियस संगत सीमा के मध्य का अंतर है जैसा कि 1.5 डिग्री सेल्सियस नेशनल पाथवे एक्सप्लोरर द्वारा तैयार किया गया है।

इंटरगवर्नमेंटल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (आईपीसीसी) वर्किंग ग्रुप I की छठी आकलन रिपोर्ट

 

जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट 2021: कैट रेटिंग

  • यहां कैट रेटिंग एक नवीन, समग्र रेटिंग है जो नीतियों एवं कार्यों, घरेलू तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समर्थित लक्ष्यों, ‘उचित- अंश’ लक्ष्य एवं जलवायु वित्त में योगदान के अनेक अलग-अलग श्रेणीकृत तत्वों को जोड़ती है।

 

जलवायु पारदर्शिता रिपोर्ट 2021: सुझाव

  • जी20 सदस्य जिन्होंने अभी तक ऐसा नहीं किया है, उन्हें कानून में सन्निहित मध्य-शताब्दी के निवल शून्य लक्ष्यों को अंगीकृत करने की आवश्यकता है।
  • जी20 सदस्य जो अभी भी जीवाश्म ईंधन उद्योगों का समर्थन कर रहे हैं, उन्हें क्षेत्र परिवर्तन एवं अक्षय ऊर्जा तथा अन्य हरित क्षेत्रों में निवेश हेतु सहायिकी को पुनर्निर्देशित करने की आवश्यकता है।
  • शक्ति: जीवाश्म ईंधन को तीव्र रूप से चरणबद्ध रूप से समाप्त करने हेतु प्रतिबद्ध होने के साथ-साथ नवीकरणीय ऊर्जा में वृद्धि को और प्रोत्साहित करना एवं बढ़ाना।
  • परिवहन: ईंधन को अल्प-कार्बन वाले ईंधन में परिवर्तित करने, व्यापक पैमाने पर विद्युतीकरण एवं रूपात्मक विस्थापन के उद्देश्य से नीतियों एवं उपायों को प्रारंभ करें। तापमान को 5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित करने के लिए 2035 तक आंतरिक दहन इंजन (आईसीई) वाहनों की बिक्री पर प्रतिबंध आरोपित कर दिया जाना चाहिए
  • कृषि: वैश्विक वनों की कटाई को रोकने एवं लगभग 2030 तक निवल शून्य कार्बन डाइऑक्साइड निष्कासन में परिवर्तित करने की आवश्यकता है
    • मीथेन उत्सर्जन (मुख्य रूप से आंत्र किण्वन) को 2030 तक 10% एवं 2050 तक (2010 के स्तर से) 35% तक कम करने की आवश्यकता है। नाइट्रस ऑक्साइड उत्सर्जन (मुख्य रूप से उर्वरकों एवं खाद से) को 2030 तक 10% एवं 2050 तक 20% (2010 के स्तर से) कम करने की आवश्यकता है।

 

 

 

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *