UPSC Exam   »   Azadi Ka Amrit Mahotsav- Celebrating 75...

जलवायु परिवर्तन जागरूकता अभियान एवं राष्ट्रीय फोटोग्राफी प्रतियोगिता

आजादी का अमृत महोत्सव- यूपीएससी परीक्षा हेतु प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: शासन, प्रशासन और चुनौतियां- विभिन्न क्षेत्रों में विकास के लिए सरकार की नीतियां एवं अंतः क्षेप तथा उनकी अभिकल्पना एवं कार्यान्वयन से उत्पन्न होने वाले मुद्दे।

जलवायु परिवर्तन जागरूकता अभियान एवं राष्ट्रीय फोटोग्राफी प्रतियोगिता_40.1

आजादी का अमृत महोत्सव- प्रसंग

  • आवास एवं शहरी मामलों का मंत्रालय (एमओएचयूए) जलवायु परिवर्तन जागरूकता अभियान एवं राष्ट्रीय फोटोग्राफी प्रतियोगिता का आयोजन कर रहा है।
  • यह प्रतियोगिता 26 जनवरी, 2022 तक सभी प्रतिभागियों के लिए खुली रहेगी, जो ‘आज़ादी का अमृत महोत्सव- स्मार्ट शहर: स्मार्ट शहरीकरण’ कार्यक्रम के लिए कार्यक्रम-पूर्व गतिविधियों के एक भाग के रूप में अग्रणी होगी।
  • मुख्य उद्देश्य: जलवायु परिवर्तन जागरूकता अभियान एवं राष्ट्रीय फोटोग्राफी प्रतियोगिता दोनों के निम्नलिखित उद्देश्य हैं-
    • जलवायु परिवर्तन से उत्पन्न चुनौतियों के प्रति संवेदनशील बनाना,
    • समाधान हेतु विचारों के साथ प्रतिभागियों को समृद्ध करना, एवं
    • शहरों में जलवायु कार्रवाई को बढ़ावा देना।
  • मुख्य कार्यक्रम: शहर अपने शहरों में निम्नलिखित में से एक या अधिक गतिविधियों का आयोजन करेंगे, जो इस आयोजन से पहले होंगे-
    • जलवायु परिवर्तन जागरूकता अभियान
    • जलवायु परिवर्तन पर सोशल मीडिया अभियान
    • फोटोग्राफी प्रतियोगिता को प्रोत्साहन देना

 

जलवायु परिवर्तन जागरूकता अभियान- प्रमुख बिंदु

  • जलवायु परिवर्तन जागरूकता अभियान के बारे में: जलवायु परिवर्तन जागरूकता अभियान में नगर आयुक्तों एवं शहरी स्थानीय निकायों के प्रमुख व्यक्तियों एवं स्मार्ट सिटी सीईओ की भागीदारी शामिल होगी।
  • मुख्य अधिदेश: जलवायु परिवर्तन जागरूकता अभियान का उद्देश्य उनके शहरों के विद्यालयों एवं महाविद्यालयों सहित सभी शैक्षणिक संस्थानों में जागरूकता उत्पन्न करना है।
  • जलवायु परिवर्तन जागरूकता अभियान का उद्देश्य शहरी जलवायु परिवर्तन एवं धारणीयता से जुड़ी चुनौतियों एवं समाधानों के प्रति युवाओं के मस्तिष्क को संरेखित करना है।

 

राष्ट्रीय फोटोग्राफी प्रतियोगिता- प्रमुख बिंदु

  • राष्ट्रीय फोटोग्राफी प्रतियोगिता के बारे में: राष्ट्रीय फोटोग्राफी प्रतियोगिता एक शहर स्तर की फोटोग्राफी प्रतियोगिता है जो जलवायु परिवर्तन की विषय वस्तु पर आधारित होगी।
  • प्रक्रिया: प्रतिभागियों को उन तस्वीरों को प्रस्तुत करने के लिए आमंत्रित किया जाता है जो या तो भारतीय शहरों पर जलवायु परिवर्तन के प्रभावों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं एवं जलवायु परिवर्तन को अनुकूलित/शमन करने हेतु व्यक्तियों, समुदायों अथवा शहर के अधिकारियों द्वारा की गई कार्रवाइयों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।
    • तस्वीरों का चयन विषय वस्तु, संरचना एवं तकनीक पर केंद्रित होगा।
  • प्रतिभागिताः प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए फोटो दो श्रेणियों में जमा करने होंगे:
    • शहरों में जलवायु प्रभाव
    • शहरों में जलवायु कार्रवाईयां

 

जलवायु परिवर्तन पर सोशल मीडिया अभियान- प्रमुख बिंदु

  • शहर के अधिकारी एक सोशल मीडिया जागरूकता अभियान चलाएंगे जहां शहर के नेता जैसे मेयर/नगर आयुक्त/स्मार्ट सिटी सीईओ जलवायु कार्यों के बारे में बात करेंगे जिन्हें उनके शहर के भीतर क्रियान्वित किया जा सकता है।
  • वे वृक्षारोपण अभियान, जल निकायों की सफाई, ई-अपशिष्ट के पुनर्चक्रण, आवासीय एवं वाणिज्यिक भवनों के भीतर सौर ऊर्जा को अपनाने को बढ़ावा देने अथवा कोई अन्य पहल जो जलवायु अनुकूलन या शमन कार्यों को बढ़ावा देती है, जैसी गतिविधियां संपादित करेंगे।

जलवायु परिवर्तन जागरूकता अभियान एवं राष्ट्रीय फोटोग्राफी प्रतियोगिता_50.1

आजादी का अमृत महोत्सव- प्रमुख बिंदु

  • आजादी का अमृत महोत्सव के बारे में: आजादी का अमृत महोत्सव प्रगतिशील भारत के 75 वर्ष एवं इसके लोगों, संस्कृति एवं उपलब्धियों के गौरवशाली इतिहास का उत्सव मनाने एवं अभिनंदन करने की एक पहल है।
    • आज़ादी का अमृत महोत्सव भारत की सामाजिक-सांस्कृतिक, राजनीतिक एवं आर्थिक पहचान के बारे में जो भी प्रगतिशील है, उसका मूर्त रूप है।
  • भारत के लोगों का उत्सव मनाना: आजादी का अमृत महोत्सव भारत के उन लोगों को समर्पित है, जिन्होंने भारत को उसकी विकासमूलक यात्रा में अब तक लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
    • भारत के लोग भी अपने भीतर शक्ति और क्षमता रखते हैं, जो भारत 0 को सक्रिय करने के प्रधान मंत्री के दृष्टिकोण को सक्षम बनाता है, जो आत्मनिर्भर भारत की भावना से प्रेरित है।
  • आज़ादी का अमृत महोत्सव की शुरुआत: “आज़ादी का अमृत महोत्सव” की आधिकारिक यात्रा 12 मार्च 2021 को प्रारंभ हुई, जो हमारी स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के लिए 75-सप्ताह की उलटी गिनती शुरू करती है।
सॉलिड स्टेट लिथियम मेटल बैटरी भुगतान संतुलन हरित हाइड्रोजन की प्राकृतिक गैस के साथ सम्मिश्रण की सरकार की योजना जिला सुशासन सूचकांक (डीजीजीआई) | जम्मू-कश्मीर में होगा जिला स्तरीय शासन सूचकांक
संपादकीय विश्लेषण- क्रिप्टो परिसंपत्ति समस्या घरेलू व्यवस्थित रूप से महत्वपूर्ण बीमाकर्ता हड़प्पा सभ्यता के प्रमुख स्थल आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) कोटा: ईडब्ल्यूएस के निर्धारण पर समिति की संस्तुतियां
संयुक्त राष्ट्र आरईडीडी एवं संयुक्त राष्ट्र आरईडीडी+ भारतीय पैंगोलिन नवाचार उपलब्धियों पर संस्थानों की अटल रैंकिंग (एआरआईआईए) 2021 उपभोक्ता संरक्षण (प्रत्यक्ष बिक्री) नियम, 2021

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.