UPSC Exam   »   Inflation upsc   »   भारत में विभिन्न मुद्रास्फीति सूचकांक

भारत में विभिन्न मुद्रास्फीति सूचकांक

अपने पिछले लेख में, हमने भारत में मुद्रास्फीति की अवधारणा के बारे में विस्तार से चर्चा की थी। यूपीएससी आईएएस की परीक्षा के लिए मुद्रास्फीति एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण टॉपिक है। मुद्रास्फीति टॉपिक महत्वपूर्ण है न केवल इसलिए कि इस टॉपिक से सीधे प्रश्न पूछे जाते हैं, बल्कि इसलिए भी कि द हिंदू जैसे समाचार पत्र पढ़ना  कठिन हो जाता है यदि आप मुद्रास्फीति जैसी अर्थव्यवस्था की कुछ मूलभूत शब्दावलियों को नहीं समझते हैं।

 

मुद्रास्फीति के विभिन्न सूचकांकों में जाने से पहले, आइए पहले जल्दी से पुनर्भ्यास करें कि मुद्रास्फीति क्या है?

मुद्रास्फीति एक आर्थिक शब्द है जो एक अवधि के भीतर वस्तुओं एवं सेवाओं की कीमतों में निरंतर वृद्धि का वर्णन करता है।

भारत में विभिन्न मुद्रास्फीति सूचकांक_40.1

हमने अपने पिछले लेख में देखा है कि ‘स्तर’ के आधार पर जहां वस्तुओं की कीमत की गणना की जाती है, वहां तीन प्रकार की मुद्रास्फीति होती है:

उत्पादक स्तर पर मुद्रास्फीति;

थोक स्तर पर मुद्रास्फीति;

उपभोक्ता स्तर पर मुद्रास्फीति

इन तीन स्तरों पर मुद्रास्फीति की गणना करने के लिए, हमें प्रत्येक स्तर पर पृथक-पृथक विधि से मुद्रास्फीति को मापने  हेतु एक अलग पद्धति की आवश्यकता है।

 

उत्पादक मूल्य सूचकांक

  • पीपीआई उत्पादकों के दृष्टिकोण से मुद्रास्फीति का एक पैमाना है।
  • सामान्य तौर पर, उत्पादक मूल्य सूचकांक एक निश्चित अवधि में वस्तुओं एवं सेवाओं दोनों की कीमतों में औसत परिवर्तन को मापता है।
    • इसकी गणना या तो उत्पादन के स्थान को छोड़ते समय अथवा आगत (इनपुट) उत्पादन प्रक्रिया में प्रवेश करते ही की जा सकती है। जबकि पूर्ववर्ती को निर्गत (आउटपुट) पीपीआई कहा जाता है, बाद वाले को आगत (इनपुट) पीपीआई कहा जाता है।
  • वे किसी भी कर, परिवहन एवं व्यापार लाभ को अपवर्जित करते हैं जिसका क्रेता को भुगतान करना पड़ सकता है।
  • पीपीआई को मुद्रास्फीति का एक बेहतर मापक माना जाता है क्योंकि प्राथमिक एवं मध्यवर्ती स्तर पर मूल्य परिवर्तन को निर्मित वस्तुओं के चरण में स्थानांतरित करने से पूर्व ट्रैक किया जा सकता है।

 

थोक मूल्य सूचकांक

  • थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) खुदरा स्तर से पूर्व के चरणों में वस्तुओं के कीमत में परिवर्तन को मापता है एवं ट्रैक करता है।
  • इसका तात्पर्य है कि डब्ल्यूपीआई उन वस्तुओं को मापता है जिनका विक्रय थोक में  किया जाता है एवं संस्थाओं या व्यवसायों (उपभोक्ताओं के मध्य विक्रय के स्थान पर) के मध्य व्यापार करते हैं।
  • आधार वर्ष: 2011-12।
  • डब्ल्यूपीआई बास्केट में वस्तुओं को तीन समूहों में वर्गीकृत किया गया है
समूह  भारांक
निर्मित उत्पाद 64%
प्राथमिक सामग्रियां 23%
ईंधन एवं ऊर्जा 13%

 

डब्ल्यूपीआई की गणना

  • डब्ल्यूपीआई की गणना वस्तुओं के ज्यामितीय माध्य के आधार पर की जाती है।
  • आर्थिक सलाहकार का कार्यालय, औद्योगिक नीति एवं संवर्धन विभाग, वाणिज्य तथा उद्योग मंत्रालय डब्ल्यूपीआई का संकलन एवं विमोचन करते हैं।

 

डब्ल्यूपीआई का महत्व

  • डब्ल्यूपीआई थोक स्तर पर मुद्रास्फीति को मापता है एवं इस प्रकार मूल्य वृद्धि खुदरा कीमतों को प्रभावित करने से पूर्व सरकार द्वारा समय पर हस्तक्षेप करने में सहायता करता है।
  • वैश्विक निवेशक भी डब्ल्यूपीआई जैसे संकेतकों को ट्रैक करके अपने निवेश का निर्धारण करते हैं।

 

डब्ल्यूपीआई  की सीमा

  • डब्ल्यूपीआई की प्रमुख सीमाओं में से एक यह है कि इसमें सेवाएँ सम्मिलित नहीं हैं।
  • साथ ही, थोक मूल्य पर भी, डब्ल्यूपीआई में अप्रत्यक्ष करों का अपवर्जन वस्तुओं की कीमत की वास्तविक तस्वीर नहीं दे सका।

 

उपभोक्ता मूल्य सूचकांक

  • उपभोक्ता मूल्य सूचकांक समय के साथ कीमतों में औसत परिवर्तन को मापता है जो उपभोक्ता वस्तुओं एवं सेवाओं के एक बास्केट के लिए भुगतान करते हैं
  • अतः, सीपीआई उपभोक्ता स्तर पर कीमतों में औसत परिवर्तन को मापता है।
  • भारत में, हम मौद्रिक नीति के निरूपण के लिए मुद्रास्फीति को मापने हेतु एक संकेतक के रूप में सीपीआई का उपयोग करते हैं।
  • आधार वर्ष: 2012।

 

सीपीआई की गणना

  • सीपीआई की गणना सीएसओ (केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय), सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय द्वारा की जाती है।
  • हम मुद्रास्फीति के 4 अलग-अलग समुच्चयों की गणना करते हैं। वे नीचे दिए गए हैं।

 

सीपीआई के प्रकार

सीपीआई-आईडब्ल्यू (औद्योगिक श्रमिक)

  • यह औद्योगिक श्रमिकों द्वारा उपभोग की जाने वाली वस्तुओं के समूह (बास्केट) की कीमतों में परिवर्तन को मापता है।
  • सरकार इस सूचकांक का उपयोग संगठित क्षेत्रों में मजदूरी की गणना के लिए करती है।
  • आधार वर्ष: 2001
  • इसे श्रम ब्यूरो, श्रम मंत्रालय द्वारा संकलित एवं जारी किया जाता है।

 

सीपीआई-यूएनएमई (शहरी गैर-शारीरिक कर्मचारी)

  • यह गैर-शारीरिक कर्मचारियों द्वारा उपभोग की जाने वाली कमोडिटी बास्केट की कीमतों में परिवर्तन को मापता है।
  • इसे सीएसओ द्वारा प्रकाशित किया जाता था।
  • इसे बंद कर दिया गया है।

 

सीपीआई-एएल (कृषि श्रमिक)

  • यह खेतिहर मजदूरों द्वारा उपभोग की जाने वाली वस्तुओं के समुच्चय की कीमतों में परिवर्तन को मापता है।
  • इसका उपयोग कृषि मजदूरों के लिए न्यूनतम मजदूरी को संशोधित करने के लिए किया जाता है।
  • आधार वर्ष: 1986-87
  • इसे श्रम ब्यूरो, श्रम मंत्रालय द्वारा संकलित एवं जारी किया जाता है।

 

सीपीआई-आरएल (ग्रामीण मजदूर)

  • यह ग्रामीण कारीगरों, कुटीर उद्योग श्रमिकों इत्यादि जैसे ग्रामीण मजदूरों द्वारा उपभोग की जाने वाली वस्तुओं के समुच्चय की कीमतों में  परिवर्तन को मापता है।
  • इसका उपयोग ग्रामीण मजदूरों के लिए न्यूनतम मजदूरी को संशोधित करने के लिए किया जाता है।
  • आधार वर्ष: 1986-87
  • इसे श्रम ब्यूरो, श्रम मंत्रालय द्वारा संकलित एवं जारी किया जाता है।

 

2011 में सीपीआई में संशोधन

  • 2011 में, सरकार ने एक नए सीपीआई की घोषणा की क्योंकि विगत सीपीआई एक राष्ट्रव्यापी विवरण नहीं दे सकती थी।
  • नए सीपीआई में दो सूचकांक – सीपीआई-ग्रामीण एवं सीपीआई-शहरी शामिल हैं।

 

सीपीआई-ग्रामीण

  • आधार वर्ष: 2012
  • इसकी गणना सीएसओ द्वारा की जाती है।

 

सीपीआई-शहरी

  • आधार वर्ष: 2012
  • इसकी गणना सीएसओ द्वारा की जाती है।

भारत में विभिन्न मुद्रास्फीति सूचकांक_50.1

जीडीपी अपस्फीतिकारक

  • जीडीपी अपस्फीतिकारक (डिफ्लेटर) वस्तुओं एवं सेवाओं के मूल्य का अनुपात है जो एक अर्थव्यवस्था किसी विशेष वर्ष में मौजूदा कीमतों पर आधार वर्ष के दौरान प्रचलित कीमतों पर उत्पादित करती है।
  • चूंकि अपस्फीतिकारक अर्थव्यवस्था में उत्पादित वस्तुओं एवं सेवाओं की पूरी श्रृंखला को समाहित करता है,  अतः इसे मुद्रास्फीति के अधिक व्यापक मापक के रूप में देखा जाता है।
  • जीडीपी अपस्फीतिकारक वास्तविक जीडीपी एवं नाममात्र जीडीपी के मध्य के अंतर को मापता है।
  • जीडीपी मूल्य अपस्फीतिकारक खोजने का सूत्र:
    • जीडीपी मूल्य अपस्फीतिकारक = (नाममात्र जीडीपी ÷ वास्तविक जीडीपी) x 100
6 जी हेतु प्रौद्योगिकी नवाचार समूह संपादकीय विश्लेषण: जस्ट व्हाट द  डॉक्टर ऑर्डर्ड फॉर द लाइवस्टोक फार्मर  एफसीआई सुधार के लिए 5 सूत्रीय एजेंडा राष्ट्रीय तकनीकी वस्त्र मिशन
कथक नृत्य | भारतीय शास्त्रीय नृत्य दावोस शिखर सम्मेलन 2022 | विश्व आर्थिक मंच की दावोस कार्य सूची 2022 संरक्षित क्षेत्र: बायोस्फीयर रिजर्व व्याख्यायित भारत में बढ़ रहा सौर अपशिष्ट
भारत-अमेरिका होमलैंड सुरक्षा संवाद नारी शक्ति पुरस्कार 2021 भारत-यूके मुक्त व्यापार समझौता संपादकीय विश्लेषण- फ्रेंड इन नीड

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.
Was this page helpful?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *