UPSC Exam   »   संपादकीय विश्लेषण: चीन की चुनौती भारत...

संपादकीय विश्लेषण: चीन की चुनौती भारत की कमजोरियों को उजागर करती है

भारत चीन संबंध: प्रासंगिकता

  • जीएस 2: भारत एवं उसके पड़ोसी देश- संबंध।

संपादकीय विश्लेषण: चीन की चुनौती भारत की कमजोरियों को उजागर करती है_40.1

भारत-चीन संबंधों में हाल के मुद्दे

  • चीन ने हाल ही में अरुणाचल प्रदेश में 15 स्थानों का नाम परिवर्तित किया है, 2017 में किए गए छह स्थानों के नाम में परिवर्तन के पश्चात।
  • बीजिंग का नया भूमि सीमा कानून: यह पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) को आक्रमण, अतिक्रमण, घुसपैठ, उकसावे के विरुद्ध कदम उठाने एवं चीनी क्षेत्र की रक्षा करने का पूर्ण उत्तरदायित्व प्रदान करता है।
  • यह कानून भारत के साथ अपनी विवादित सीमा के साथ चीन द्वारा 628 स्याओकिंग सीमावर्ती गांवों के निर्माण का समर्थन करता है – एवं पारस्परिक रूप से सुदृढ़ करता है।
  • उपलब्ध उपग्रह चित्रों (सैटेलाइट इमेजरी) के अनुसार, अरुणाचल प्रदेश में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के भारतीय हिस्से में कम से कम दो सीमावर्ती गांवों का निर्माण किया गया है।
  • जब भविष्य में सीमा विवाद को सुलझाने के लिए ‘आबाद क्षेत्रों’ के सिद्धांत को लागू किया जाएगा तो ये गांव बीजिंग के अधिकार क्षेत्र में आ जाएंगे।
  • हाल ही में, चीनी दूतावास के राजनीतिक परामर्शदाता ने निर्वासित तिब्बती सरकार द्वारा आयोजित एक बैठक में भाग लेने के कारण भारतीय संसद सदस्यों को एक पत्र लिखा।
  • क्वाड- ऑस्ट्रेलिया, भारत, जापान एवं यू.एस. के सम्मिलन वाला वाला एक क्षेत्रीय समूह-एक गैर-सैन्य समूह बना हुआ है, जबकि ऑस्ट्रेलिया, यूनाइटेड किंगडम एवं यू.एस. ऑकस, एक सैन्य समझौता है।
  • अफगानिस्तान से सेना की अनियोजित वापसी ने भी भारत को भविष्य में चीन के साथ सीमा मुद्दों के उत्पन्न होने की स्थिति में अमेरिकी रणनीति के प्रति सतर्क कर दिया है।
  • चीनी विनिर्माण पर भारतीय निर्भरता के कारण दोनों देशों के मध्य अधिक मात्रा में एकतरफा व्यापार संबंध हैं, जिससे व्यापार घाटा बढ़ रहा है।

 

भारत चीन संबंध: आगे की राह

  • वुहान शिखर सम्मेलन एवं ज़ियामी घोषणा जैसे अनौपचारिक शिखर सम्मेलन पर रोक नहीं लगाई जानी चाहिए।
  • भारत एवं चीन दोनों विश्व व्यापार संगठन तथा जी 20 जैसे वैश्विक मंचों पर विकासशील देशों के स्वर का प्रतिनिधित्व करते हैं।
  • पी 2 पी एवं सांस्कृतिक आदान-प्रदान को बढ़ाया जाना चाहिए।
  • सिंगापुर के संस्थापक एवं संरक्षक ने प्रसिद्ध रूप से कहा है कि चीन एवं भारत एशियाई विमानों के युगल (जुड़वां) इंजन हैं जो एक साथ संपूर्ण महाद्वीप को विकास के नए पथ पर उठा सकते हैं।

 

पूर्वोत्तर क्षेत्र सामुदायिक संसाधन प्रबंधन परियोजना (एनईआरसीओआरएमपी) स्मार्ट सिटीज एंड एकेडेमिया टुवर्ड्स एक्शन एंड रिसर्च (एसएएआर) एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) योजना ज़मानत बॉन्ड: आईआरडीएआई ने दिशानिर्देश जारी किए
आयुर्वेदिक विज्ञान में अनुसंधान हेतु केंद्रीय परिषद (सीसीआरएएस) ने ई- कार्यालय का विमोचन किया राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए) गंगा सागर मेला संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने परमाणु प्रसार को रोकने का संकल्प लिया
ंपादकीय विश्लेषण- अपर्याप्त प्रतिक्रिया भारत इज़राइल संबंध: भारत इजराइल मुक्त व्यापार समझौता शीघ्र मैलवेयर एवं उसके प्रकार ओमीश्योर | सार्स कोव-2 के ओमिक्रोन वेरिएंट का पता लगाने हेतु परीक्षण किट

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.
Was this page helpful?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *