UPSC Exam   »   Statue of Equality

श्री रामानुजाचार्य |प्रधानमंत्री स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी का अनावरण करेंगे

श्री रामानुजाचार्य- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 1: भारतीय इतिहास- भारतीय संस्कृति प्राचीन से आधुनिक काल तक कला रूपों, साहित्य एवं वास्तुकला के मुख्य पहलुओं को समाहित करेगी।

श्री रामानुजाचार्य |प्रधानमंत्री स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी का अनावरण करेंगे_40.1

श्री रामानुजाचार्य- प्रसंग

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रामानुजाचार्य की 216 फुट ऊंची प्रतिमा का अनावरण करेंगे। 5 फरवरी को हैदराबाद में श्री रामानुजाचार्य की प्रतिमा को ‘समानता की प्रतिमा’ के रूप में वर्णित किया गया।

 

समानता की प्रतिमा/ स्टैचू ऑफ इक्वलिटी- प्रमुख बिंदु

  • समानता की प्रतिमा/ स्टैचू ऑफ इक्वलिटी के बारे में: स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी 11वीं सदी के संत एवं समाज सुधारक श्री रामानुजाचार्य की 216 फीट ऊंची प्रतिमा है।
  • अवस्थिति: स्टैच्यू ऑफ इक्वेलिटी हैदराबाद शहर, तेलंगाना के बाहरी इलाके शमशाबाद में 45 एकड़ के परिसर में स्थित है।
  • वित्त पोषण: स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी 1000 करोड़ रुपये की एक परियोजना है जो पूर्ण रूप से संपूर्ण विश्व के श्रद्धालुओं के दान से वित्त पोषित है।
  • प्रमुख विशेषताएं:
    • रामानुजाचार्य का आंतरिक गर्भगृह 120 किलोग्राम सोने से निर्मित है, जो संत के इस पृथ्वी पर गमन के 120 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में है।
    • 216 फुट की बाह्य प्रतिमा, बैठी हुई मुद्रा मेंसर्वाधिक ऊंची प्रतिमाओं में से एक होगी।
    • स्टैचू आफ इक्वलिटी ‘पंचलोहा’ से निर्मित है, जो पांच धातुओं – सोना, चांदी, तांबा, पीतल तथा जस्ता का मिश्रण है।
    • स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी संकुल में 108 दिव्य देशमों, अलवार, रहस्यवादी तमिल संतों की रचनाओं में उल्लिखित 108 अलंकृत नक्काशीदार विष्णु मंदिर के समरूप पुनर्निर्माण हैं।

श्री रामानुजाचार्य |प्रधानमंत्री स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी का अनावरण करेंगे_50.1

श्री रामानुजाचार्य- प्रमुख बिंदु

  • जन्म: श्री रामानुजाचार्य, जिन्हें इलैया पेरुमल भी कहा जाता है, का जन्म 1017 ईस्वी में तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में हुआ था।
    • इलैया पेरूमलशब्द का अर्थ है दीप्तिमान।
  • श्री रामानुजाचार्य के बारे में: श्री रामानुजाचार्य एक समाज सुधारक थे जिन्होंने समाज से सामाजिक, सांस्कृतिक, लैंगिक, शैक्षिक एवं आर्थिक भेदभाव को समाप्त करने के लिए कार्य किया।
  • विश्वास: श्री रामानुजाचार्य ने इस मूलभूत दृढ़ विश्वास के साथ लाखों लोगों को मुक्त किया कि राष्ट्रीयता, लिंग, नस्ल, जाति या पंथ की परवाह किए बिना प्रत्येक मनुष्य समान है।
  • विशिष्टाद्वैत: श्री रामानुजाचार्य वेदांत की एक उप- विधा विशिष्टाद्वैत के एक प्रसिद्ध प्रस्तावक थे।
  • भक्ति आंदोलन: भक्ति आंदोलन श्री रामानुजाचार्य की भक्तिवाद की दार्शनिक शिक्षाओं से अत्यंत प्रभावित था।
  • मंदिर प्रवेश: श्री रामानुजाचार्य ने अत्यधिक भेदभाव के शिकार लोगों सहित सभी लोगों के लिए मंदिरों के द्वार खोल दिए।
  • साहित्यिक योगदान: श्री रामानुजाचार्य के साहित्यिक योगदान में ब्रह्मसूत्र पर भाष्य एवं भगवद गीता, सभी कृतियां संस्कृत में रचित हैं।
बीटिंग रिट्रीट समारोह संपादकीय विश्लेषण: एक शक्तिशाली भारत-जर्मन साझेदारी हेतु आगे बढ़ना राष्ट्रीय जल विकास अभिकरण (एनडब्ल्यूडीए) जलीय कृषि में एएमआर वृद्धि 
डिजिटल भुगतान सूचकांक सुभाष चंद्र बोस- इंडिया गेट पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा स्थापित होगी महासागरीय धाराएं: गर्म एवं ठंडी धाराओं की सूची-2 विश्व रोजगार एवं सामाजिक दृष्टिकोण 2022
संपादकीय विश्लेषण- आईएएस संवर्ग नियम संशोधन वापस लेना आर्द्रभूमियों पर रामसर अभिसमय ज्वालामुखी के प्रकार: ज्वालामुखियों का वर्गीकरण उदाहरण सहित ब्रह्मोस मिसाइल- विस्तारित परिसर ब्रह्मोस उड़ान-परीक्षण

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.
Was this page helpful?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *