UPSC Exam   »   स्पॉटलाइट पहल: प्रभाव रिपोर्ट 2020-21

स्पॉटलाइट पहल: प्रभाव रिपोर्ट 2020-21

स्पॉटलाइट इनिशिएटिव: प्रासंगिकता

  • जीएस 2: महत्वपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय संस्थान, एजेंसियां ​​एवं मंच – उनकी संरचना, अधिदेश।

स्पॉटलाइट पहल: प्रभाव रिपोर्ट 2020-21_40.1

क्या आपने यूपीएससी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2021 को उत्तीर्ण कर लिया है?  निशुल्क पाठ्य सामग्री प्राप्त करने के लिए यहां रजिस्टर करें

 

स्पॉटलाइट इनिशिएटिव: प्रसंग

  • हाल ही में, 2020-21 के लिए स्पॉटलाइट इनिशिएटिव की प्रभाव रिपोर्ट जारी की गई थी, जहां यह बताया गया था कि कोविड-19 लॉकडाउन एवं प्रतिबंधों के बावजूद, लगभग 650,000 महिलाओं एवं बालिकाओं के प्रति लिंग आधारित हिंसा की गईं।

 

स्पॉटलाइट इनिशिएटिव: प्रमुख निष्कर्ष

सकारात्मक निष्कर्ष

  • 1000 से अधिक स्थानीय एवं जमीनी स्तर के महिला अधिकार संगठनोंके पास महिलाओं एवं बालिकाओं के प्रति हिंसा को समाप्त करने के लिए कार्य करने हेतु व्यापक प्रभाव एवं एजेंसी होने की सूचना प्राप्त हुई।
  • लिंग आधारित हिंसा को समाप्त करने के लिए समर्पित राष्ट्रीय बजट के प्रतिशत में 32% की वृद्धि हुई।
  • लिंग आधारित हिंसा के दोषी अपराधियों की संख्या में विगत वर्ष की तुलना में 22% की वृद्धि हुई है।
  • 17 देशों में 84 कानूनों एवं नीतियों पर हस्ताक्षर किए गए हैं या उन्हें अधिक सशक्त किया गया है।
  • 1 मिलियन युवा विद्यालय के अंदर एवं बाहर के कार्यक्रमों में सम्मिलित हुए।
  • 880,000 32% पुरुषों एवं बालकों को सकारात्मक पुरुषत्व, सम्मानजनक पारिवारिक संबंध, अहिंसक संघर्ष समाधान एवं पालन-पोषण पर शिक्षित किया गया।
  • 15 से अधिक भाषाओं में 80 स्थानीय रूप से अनुकूलित व्यवहार परिवर्तन मल्टीमीडिया अभियानों के माध्यम से 65 मिलियन लोगों तक पहुँचा गया।

नकारात्मक निष्कर्ष

  • कोविड-19 वैश्विक महामारी ने 2020 को एक अतुलनीय वर्ष बना दिया। राष्ट्रीय लॉकडाउन एवं गतिशीलता प्रतिबंधों एवं स्वास्थ्य तथा सहायता सेवाओं के बंद अथवा सीमित होने के साथ, महिलाओं एवं बालिकाओं के प्रति हिंसा एक चौंका देने वाली दर से बढ़ी है।
  • वैश्विक चिंता एवं स्थिति की गंभीरता के बढ़ते साक्ष्यों के आधार बावजूद, महिलाओं एवं बालिकाओं के प्रति पुरुष हिंसा का संकट और गहन हुआ है।
  • कोविड-19  ने संपूर्ण विश्व के समुदायों को तबाह करना जारी रखा है, एवं महिलाओं के अधिकारों में उल्लेखनीय कमी आई है।
  • महिलाओं को बेरोजगारी की सर्वाधिक मार पड़ी है, उन्हें निर्धनता में जाने हेतु बाध्य किया गया है एवं व्यापक रूप से अवैतनिक देखभाल जिम्मेदारियों के बढ़े हुए क्षति को वहन करती हैं – ये सभी व्यापक हिंसा एवं शोषण के प्रति  संवेदनशीलता में वृद्धि करते हैं।
  • विगत एक वर्ष में, जैसे-जैसे जीवन तीव्र गति से ऑनलाइन की ओर स्थानांतरित हुआ है, वैसे-वैसे हिंसा, उत्पीड़न एवं दुर्व्यवहार में भी वृद्धि हुई है।
  • जो लड़कियां विवाह करती हैं एवं विद्यालय जाना बंद कर देती हैं, वे आम तौर पर कम अवसरों के साथ जीवन व्यतीत करती हैं एवं घरेलू हिंसा एवं स्वास्थ्य समस्याओं के अधिक जोखिम का सामना कर सकती हैं – जिसमें मातृ मृत्यु भी शामिल है – जो आने वाली पीढ़ियों के लिए उत्पीड़न, क्षति एवं निर्धनता के एक हानिकारक चक्र का पोषण करती हैं।

स्पॉटलाइट पहल: प्रभाव रिपोर्ट 2020-21_50.1

स्पॉटलाइट पहल के बारे में

  • स्पॉटलाइट इनिशिएटिव दुनिया भर में महिलाओं एवं बालिकाओं के अधिकारों को सशक्त बनाने,  प्रोत्साहन प्रदान करने एवं उनकी रक्षा करने के लिए 2017 से यूरोपीय संघ एवं संयुक्त राष्ट्र (यूएन महिला) का एक संयुक्त सहयोग है।
  • स्पॉटलाइट इनिशिएटिव 500 मिलियन यूरो का एक कार्यक्रम है जो अफ्रीका, एशिया, कैरिबियन, लैटिन अमेरिका एवं प्रशांत क्षेत्र में लक्षित, व्यापक स्तर पर निवेश को परिनियोजित करता है।
  • इसका उद्देश्य 2030 तक महिलाओं एवं बालिकाओं के प्रति सभी प्रकार की हिंसा को समाप्त करना है।
मनामा डायलॉग सिडनी डायलॉग स्वच्छ सर्वेक्षण 2021- स्वच्छ सर्वेक्षण पुरस्कार 2021 घोषित भारत के बायोम 2021
भारत निर्यात पहल एवं इंडिया-एक्सपोर्ट्स 2021 पोर्टल एसवीईपी के अंतर्गत अंतर्गत एसएचजी को प्रदान किया गया सामुदायिक उद्यम कोष (सीईएफ) अखिल भारतीय त्रैमासिक प्रतिष्ठान आधारित रोजगार सर्वेक्षण ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग की समाप्ति
पेटेंट (संशोधन) नियम, 2021 नौकरशाही की डिजिटल चुनौती व्यक्तिगत डेटा संरक्षण विधेयक 2019 रणनीतिक मानव संसाधन प्रबंधन

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *