UPSC Exam   »   India-Central Asia Dialogue   »   India and Turkmenistan Relations

आपदा प्रबंधन पर भारत एवं तुर्कमेनिस्तान सहयोग

आपदा प्रबंधन पर भारत एवं तुर्कमेनिस्तान सहयोग- यूपीएससी परीक्षा हेतु प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: अंतर्राष्ट्रीय संबंध- द्विपक्षीय, क्षेत्रीय एवं वैश्विक समूह तथा भारत से जुड़े एवं / या भारत के हितों को प्रभावित करने वाले समझौते।
  • जीएस पेपर 3: आपदा प्रबंधन: आपदा एवं आपदा प्रबंधन।

आपदा प्रबंधन पर भारत एवं तुर्कमेनिस्तान सहयोग_40.1

आपदा प्रबंधन पर भारत एवं तुर्कमेनिस्तान सहयोग- संदर्भ

  • हाल ही में, केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में सहयोग पर भारत एवं तुर्कमेनिस्तान के मध्य समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर करने को स्वीकृति प्रदान की है।
  • भारत एवं तुर्कमेनिस्तान समझौता ज्ञापन एक ऐसी प्रणाली स्थापित करने का प्रयास करता है जिससे भारत एवं तुर्कमेनिस्तान दोनों एक दूसरे के आपदा प्रबंधन तंत्र से लाभान्वित होंगे।

आपदा प्रबंधन पर भारत एवं तुर्कमेनिस्तान सहयोग_50.1

आपदा प्रबंधन पर भारत एवं तुर्कमेनिस्तान सहयोग- सहयोग क्षेत्र

  • आपात स्थिति की निगरानी एवं पूर्वानुमान तथा उनके परिणामों का आकलन;
  • समन्वय: आपदा प्रबंधन में शामिल उपयुक्त संगठनों के मध्य सक्षम अधिकारियों के माध्यम से अंतः क्रिया।
  • आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में अनुसंधान परियोजनाओं की संयुक्त योजना, विकास एवं कार्यान्वयन, वैज्ञानिक तथा तकनीकी प्रकाशनों एवं शोध पत्रों के निष्कर्षों का आदान-प्रदान।
  • इस समझौता ज्ञापन के दायरे में आपसी सहमति से सूचनाओं, पत्रिकाओं या किसी अन्य प्रकाशन, वीडियो एवं फोटो सामग्री के साथ-साथ प्रौद्योगिकियों का आदान-प्रदान
  • संबंधित क्षेत्रों में संयुक्त सम्मेलनों, संगोष्ठियों, कार्यशालाओं के साथ-साथ अभ्यास एवं प्रशिक्षण का आयोजन
  • आपदा प्रबंधन में विशेषज्ञों एवं अनुभवों का आदान-प्रदान
  • खोज एवं बचाव कार्यों में प्रथम प्रतिक्रियादाताओं का प्रशिक्षण एवं क्षमता निर्माण; आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में क्षमता निर्माण की सुविधा हेतु प्रशिक्षुओं एवं विशेषज्ञों का आदान-प्रदान।
  • तकनीकी सुविधाएं और उपकरण प्रदान करने, पूर्व चेतावनी प्रणाली को संवर्धित करने एवं आपदा प्रबंधन में पक्षकारों के क्षमता निर्माण के लिए पारस्परिक रूप से सहमत होने पर सहायता प्रदान करना;
  • आपातकालीन प्रतिक्रिया में, पारस्परिक रूप से सहमत होने पर सहायता प्रदान करना
  • आपदा रोधी आधारिक संरचना (बुनियादी ढांचे) के निर्माण हेतु ज्ञान एवं विशेषज्ञता को साझा करने में पारस्परिक सहायता
  • अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त मानकों के अनुसार पारस्परिक रूप से सहमत गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली प्रदान करना
  • आपदा प्रबंधन से संबंधित कोई अन्य गतिविधियां, जिस पर पक्षकारों के सक्षम प्राधिकारियों द्वारा परस्पर सहमति हो।

आपदा प्रबंधन से संबंधित  मूलभूत बातों को समझने हेतु,  यहां क्लिक करें|

आपदा प्रबंधन: मूल बातों को समझना संपादकीय विश्लेषण: चीन की चुनौती भारत की कमजोरियों को उजागर करती है पूर्वोत्तर क्षेत्र सामुदायिक संसाधन प्रबंधन परियोजना (एनईआरसीओआरएमपी) स्मार्ट सिटीज एंड एकेडेमिया टुवर्ड्स एक्शन एंड रिसर्च (एसएएआर)
एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) योजना ज़मानत बॉन्ड: आईआरडीएआई ने दिशानिर्देश जारी किए आयुर्वेदिक विज्ञान में अनुसंधान हेतु केंद्रीय परिषद (सीसीआरएएस) ने ई- कार्यालय का विमोचन किया राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (एनटीसीए)
गंगा सागर मेला संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने परमाणु प्रसार को रोकने का संकल्प लिया ंपादकीय विश्लेषण- अपर्याप्त प्रतिक्रिया भारत इज़राइल संबंध: भारत इजराइल मुक्त व्यापार समझौता शीघ्र

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.