UPSC Exam   »   National Exhibition of Arts

62वीं राष्ट्रीय कला प्रदर्शनी 

62वीं राष्ट्रीय कला प्रदर्शनी- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 1: भारतीय इतिहास- भारतीय संस्कृति प्राचीन से आधुनिक काल तक कला रूपों, साहित्य  एवं वास्तुकला के प्रमुख पहलुओं को सम्मिलित करेगी।

62वीं राष्ट्रीय कला प्रदर्शनी _40.1

समाचारों में 62वीं राष्ट्रीय कला प्रदर्शनी

  • हाल ही में, केंद्रीय संस्कृति मंत्री ने एल के ए गैलरी में कला की 62वीं राष्ट्रीय प्रदर्शनी एवं नई दिल्ली के कमानी सभागार में एसएनए पुरस्कार विजेता प्रदर्शन महोत्सव का उद्घाटन किया।
  • अकादमी पुरस्कार विजेताओं को प्रदर्शित करने वाला प्रदर्शन कला उत्सव ग्यारह दिनों की अवधि तक जारी रहेगा।

आजादी के अमृत महोत्सव से स्वर्णिम भारत की ओर | ब्रह्म कुमारियों की सात पहल

62वीं राष्ट्रीय कला प्रदर्शनी

  • 62वीं राष्ट्रीय कला प्रदर्शनी दर्शकों के लिए निम्नलिखित में से प्रदर्शनों की एक मनोरम श्रृंखला लेकर आएगी-
    • देश के कोने-कोने में से तथा
    • संगीत, नृत्य, नाटक, लोक एवं जनजातीय  एवं संबद्ध कला  तथा कठपुतली जैसी शैलियों की एक विस्तृत श्रृंखला में से।
  • 62वीं राष्ट्रीय कला प्रदर्शनी हमारे समय की जीवंतता एवं संस्कृति मंत्रालय के सहयोग से ललित कला अकादमी द्वारा पेश किए गए अवसरों को प्रदर्शित करती है।
  • आजादी का अमृत महोत्सव के विचार का उत्सव मनाने के लिए, ललित कला अकादमी ने जनभागीदारी के शीर्षक के तहत वॉल स्ट्रीट आर्ट लाने का निर्णय लिया है, जहां आम लोगों की भागीदारी इसे आकार देने में एक अभिन्न अंग है।

‘लाभार्थियों से रूबरू’ पहल | आजादी का अमृत महोत्सव

कला की राष्ट्रीय प्रदर्शनी क्या है?

  • राष्ट्रीय कला प्रदर्शनी के बारे में: राष्ट्रीय कला प्रदर्शनी ललित कला अकादमी का  सर्वाधिक प्रतिष्ठित वार्षिक आयोजन है।
  • राष्ट्रीय कला प्रदर्शनी समस्त चयनित प्रतिभागियों एवं पुरस्कार विजेताओं की प्रतिभा को प्रदर्शित करने के  निमित्त है।
  • 1955 में प्रारंभ हुई, कला की राष्ट्रीय प्रदर्शनी वर्ष में दृश्य अग्रिमों को प्रदर्शित करने  एवं उनका प्रतिनिधित्व करने हेतु निर्देशित है।

आजादी का अमृत महोत्सव: जलवायु परिवर्तन जागरूकता अभियान एवं राष्ट्रीय फोटोग्राफी प्रतियोगिता

62वीं राष्ट्रीय कला प्रदर्शनी _50.1

आजादी का अमृत महोत्सव- प्रमुख बिंदु

  • आजादी का अमृत महोत्सव के बारे में: आजादी का अमृत महोत्सव प्रगतिशील भारत के 75 वन एवं इसके लोगों, संस्कृति तथा उपलब्धियों के गौरवशाली इतिहास का  उत्सव मनाने तथा स्मरण करने की एक पहल है।
    • आजादी का अमृत महोत्सव भारत की सामाजिक-सांस्कृतिक, राजनीतिक एवं आर्थिक पहचान के बारे में प्रगतिशील है।
  • भारत के लोगों का उत्सव: आजादी का अमृत महोत्सव भारत के उन लोगों को समर्पित है, जिन्होंने भारत को उसकी विकास यात्रा में यहां तक लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
    • भारत के लोग भी अपने भीतर शक्ति एवं क्षमता रखते हैं, जो भारत 2.0 को सक्रिय करने के प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण को सक्षम बनाता है, जो आत्मनिर्भर भारत की भावना से प्रेरित है।
  • आज़ादी का अमृत महोत्सव का प्रारंभ: “आज़ादी का अमृत महोत्सव” की आधिकारिक यात्रा 12 मार्च 2021 को आरंभ हुई, जो हमारी स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के लिए 75-सप्ताह की उलटी गिनती शुरू करती है।

 

एक्सपेंडिंग हीट रेसिलिएंस रिपोर्ट संपादकीय विश्लेषण: महामारी के आघात में, एमएसएमई के लिए महत्वपूर्ण सबक नेशनल टाइम रिलीज स्टडी (TRS) 2022 भारत-अमेरिका 2+ 2 संवाद 2022
माधवपुर मेला सॉलिड फ्यूल डक्टेड रैमजेट टेक्नोलॉजी वैश्विक पवन रिपोर्ट 2022 अवसर योजना
संपादकीय विश्लेषण- वास्तुकला हेतु सबसे उचित अवसर आरबीआई ने डिजिटल बैंकिंग इकाइयों की स्थापना के लिए दिशानिर्देश जारी किए लक्ष्य जीरो डंपसाइट | एसबीएम-शहरी 2.0 बिरसा मुंडा | बिरसा मुंडा-जनजातीय नायक पुस्तक का विमोचन

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.