Home   »   Azadi Ke Amrit Mahotsav se Swarnim...   »   Azadi Ka Amrit Mahotsav

‘लाभार्थियों से रूबरू’ पहल | आजादी का अमृत महोत्सव

लाभार्थियों से रूबरूपहल- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: शासन, प्रशासन एवं चुनौतियां- विभिन्न क्षेत्रों में विकास के लिए सरकार की नीतियां एवं अंतः क्षेप तथा उनकी अभिकल्पना एवं कार्यान्वयन से उत्पन्न होने वाले मुद्दे।

‘लाभार्थियों से रूबरू’ पहल | आजादी का अमृत महोत्सव_40.1

लाभार्थियों से रूबरूपहल- संदर्भ

  • हाल ही में, सचिव, एमओएचयूए ने आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय (मिनिस्ट्री आफ हाउसिंग एंड अर्बन अफेयर्स/एमओएचयूए) की ‘लाभार्थियों से रूबरू’ पहल की अध्यक्षता की।
  • ‘लाभार्थियों से रूबरू’ पहल के अंतर्गत, असम, झारखंड एवं केरल के प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के लाभार्थियों के साथ आभासी वार्ता आयोजित की गई।

आजादी के अमृत महोत्सव से स्वर्णिम भारत की ओर | ब्रह्म कुमारियों की सात पहल

लाभार्थियों से रूबरूपहल- प्रमुख बिंदु

  • पृष्ठभूमि: मंत्रालय द्वारा सितंबर 2021 में ‘लाभार्थियों से रूबरू’ पहल प्रारंभ की गई थी।
    • विभिन्न राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों के लाभार्थियों के साथ मंत्रालय द्वारा आयोजित कार्यक्रम का यह 22वां संस्करण था।
  • लाभार्थियों से रूबरूपहल के बारे में: लाभार्थियों के साथ प्रत्यक्ष अंतः क्रिया करके मिशन के अंतर्गत परियोजनाओं की प्रगति के अनुश्रवण हेतु ‘लाभार्थियों से रूबरू’ पहल प्रारंभ की गई है।
    • आजादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में ‘लाभार्थियों से रूबरू’ की योजना निर्मित की गई है।
  • उद्देश्य: ‘लाभार्थियों से रूबरू’ पहल के प्रमुख उद्देश्य हैं-
    • परियोजनाओं की प्रगति का अनुश्रवण करना,
    • लाभार्थियों के साथ प्रत्यक्ष संपर्क द्वारा सक्षम शासन एवं पारदर्शिता लाना,
    • एमओएचयूए एवं संबंधित राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों के अधिकारियों के लिए उनके संबंधित शहरों में  आवासों के निर्माण को सुगम बनाने एवं तेजी लाने हेतु एक मंच तैयार करना तथा
    • लाभार्थियों में समावेश की भावना उत्पन्न करना।

आजादी का अमृत महोत्सव: जलवायु परिवर्तन जागरूकता अभियान एवं राष्ट्रीय फोटोग्राफी प्रतियोगिता

‘लाभार्थियों से रूबरू’ पहल | आजादी का अमृत महोत्सव_50.1

आज़ादी का अमृत महोत्सव- प्रमुख बिंदु 

  • आजादी का अमृत महोत्सव के बारे में: आजादी का अमृत महोत्सव प्रगतिशील भारत के 75 वर्ष एवं इसके लोगों, संस्कृति तथा उपलब्धियों के गौरवशाली इतिहास का उत्सव मनाने एवं स्मरण करने की एक पहल है।
    • आजादी का अमृत महोत्सव भारत की सामाजिक-सांस्कृतिक, राजनीतिक  एवं आर्थिक पहचान के बारे में जो भी प्रगतिशील है, उसका मूर्त रूप है।
  • भारत के लोगों का उत्सव मनाना: आजादी का अमृत महोत्सव भारत के उन लोगों को समर्पित है, जिन्होंने भारत को उसकी विकास यात्रा में इस स्थान तक लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
    • भारत के लोग भी आत्मनिर्भर भारत की भावना से प्रेरित होकर भारत 2.0 को सक्रिय करने के प्रधान मंत्री के दृष्टिकोण को सक्षम करने की शक्ति एवं क्षमता रखते हैं।
  • आजादी के अमृत महोत्सव का प्रारंभ: “आजादी का अमृत महोत्सव” की आधिकारिक यात्रा 12 मार्च 2021 को आरंभ हुई, जो हमारी आजादी की 75वीं वर्षगांठ के लिए 75-सप्ताह की उलटी गिनती को प्रारंभ करती है।

 

Sharing is caring!