Home   »   Global COVID Virtual Summit 2022   »   Global COVID Virtual Summit 2022

दूसरा वैश्विक कोविड आभासी सम्मेलन 2022

ग्लोबल कोविड वर्चुअल समिट-यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: अंतर्राष्ट्रीय संबंध- द्विपक्षीय, क्षेत्रीय एवं वैश्विक समूह तथा भारत से जुड़े एवं/या भारत के हितों को प्रभावित करने वाले समझौते।

दूसरा वैश्विक कोविड आभासी सम्मेलन 2022_30.1

समाचारों में कोविड वैश्विक आभासी शिखर सम्मेलन

  • हाल ही में, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने यू.एस.ए. के राष्ट्रपति जोसेफ आर. बाइडेन के निमंत्रण पर दूसरे वैश्विक कोविड आभासी शिखर सम्मेलन में भाग लिया।
    • प्रधान मंत्री ने 22 सितंबर 2021 को राष्ट्रपति बिडेन द्वारा आयोजित पहले वैश्विक COVID आभासी शिखर सम्मेलन में भी भाग लिया था।
  • प्रधानमंत्री ने शिखर सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में ‘महामारी की थकान को रोकना एवं साथ पढ़ता को प्राथमिकता देना’ विषय पर अपनी टिप्पणी दी।

दूसरा वैश्विक कोविड आभासी सम्मेलन 2022_40.1

ग्लोबल कोविड वर्चुअल समिट- भारत द्वारा मुकाबला करने हेतु उठाए गए कदम

  • जन केंद्रित दृष्टिकोण: प्रधानमंत्री ने इस बात पर प्रकाश डाला कि भारत ने महामारी से निपटने के लिए एक जन केंद्रित रणनीति अपनाई है  एवं इस वर्ष अपने स्वास्थ्य बजट के लिए अब तक का सर्वाधिक आवंटन किया है।
  • टीकाकरण अभियान: पीएम ने कहा कि भारत विश्व में सर्वाधिक वृहद टीकाकरण अभियान संचालित कर रहा है।
    • भारत ने अपनी वयस्क आबादी के नब्बे प्रतिशत के करीब तथा पचास मिलियन से अधिक बच्चों को टीका लगाया था।
  • एक जिम्मेदार वैश्विक नेता: प्रधानमंत्री ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि वैश्विक समुदाय के एक जिम्मेदार सदस्य के रूप में
    • भारत अन्य देशों के साथ अपनी कम लागत वाली स्वदेशी COVID शमन प्रौद्योगिकियों, टीकों तथा चिकित्सा विज्ञान को साझा करके सक्रिय भूमिका निभाना जारी रखेगा।
  • वैश्विक अवेक्षण में भूमिका: भारत अपने जीनोमिक निगरानी संघ का विस्तार करने के लिए कार्यरत है।
  • पारंपरिक चिकित्सा का उपयोग: भारत ने पारंपरिक चिकित्सा का व्यापक रूप से उपयोग किया है एवं एवं इस ज्ञान को विश्व के समक्ष उपलब्ध कराने के लिए भारत में पारंपरिक चिकित्सा के लिए डब्ल्यूएचओ केंद्र की नींव रखी है।
    • भारतीय प्रधान मंत्री ने एक सशक्त एवं अधिक लोचशील वैश्विक स्वास्थ्य सुरक्षा वास्तुकला निर्मित करने के लिए डब्ल्यूएचओ को  सशक्त एवं सुधार करने का आह्वान किया।

दूसरा वैश्विक कोविड आभासी सम्मेलन 2022_50.1

वैश्विक कोविड आभासी सम्मेलन के बारे में प्रमुख बिंदु

  • वैश्विक कोविड आभासी सम्मेलन के बारे में: वैश्विक कोविड आभासी सम्मेलन (वर्चुअल ग्लोबल कोविड समिट) महामारी को समाप्त करने  एवं भविष्य के जैविक खतरों को रोकने तथा इनसे प्रतिरोध हेतु तैयार करने के लिए बेहतर स्वास्थ्य सुरक्षा के निर्माण पर केंद्रित है।
    • संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति बिडेन द्वारा 22 सितंबर, 2021 को पहला वैश्विक कोविड आभासी सम्मेलन  आयोजित किया गया था।
  • भागीदारी: अन्य प्रतिभागियों में कार्यक्रम के सह-मेजबान के रूप में सम्मिलित थे-
    • कैरिकॉम के अध्यक्ष के रूप में बेलीज के राज्य / सरकार के प्रमुख, अफ्रीकी संघ के अध्यक्ष के रूप में सेनेगल, जी 20 के अध्यक्ष के रूप में इंडोनेशिया तथा जी 7 के अध्यक्ष के रूप में जर्मनी।
  • संयुक्त राष्ट्र के महासचिव, विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने भी  इस सम्मेलन में भाग लिया।
  • उद्देश्य: ग्लोबल कोविड वर्चुअल समिट ने इस महामारी को समाप्त करने  तथा आगामी संभावित महामारी की रोकथाम एवं उससे मुक़ाबला करने हेतु तैयारी के लिए तीन महत्वपूर्ण क्षेत्रों में महत्वाकांक्षी लक्ष्य  प्रस्तुत किए-
    •  संपूर्ण विश्व का टीकाकरण (वैक्सीनेट द वर्ल्ड);
    • अब जीवन बचाएं ( सेव लाइव्स नाउ);  तथा
    • वापस बेहतर बनाएँ (बिल्ड बैक बेटर)।

 

प्रमुख बंदरगाहों पर अटकी परियोजनाओं को हल करने के लिए सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी) दिशानिर्देश मिशन अमृत सरोवर इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट ट्रस्ट्स मरुस्थलीकरण का मुकाबला करने के लिए संयुक्त राष्ट्र अभिसमय (यूएनसीसीडी)- यूएनसीसीडी का कॉप15
राष्ट्रीय शारीरिक साक्षरता मिशन: खेल को एक मौलिक अधिकार बनाना संपादकीय विश्लेषण- द लर्निंग ग्राउंड्स ऑफ यूक्रेन सरकार देशद्रोह कानून (आईपीसी की धारा 124) पर पुनर्विचार करेगी  प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन की समीक्षा की
संपादकीय विश्लेषण: प्रवासियों का महत्व पैंटानल आर्द्रभूमि के विनष्ट होने का खतरा है, वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी श्रीलंका में संकट- श्रीलंकाई प्रधानमंत्री ने त्यागपत्र दिया भारत में जूट उद्योग: इतिहास, मुद्दे तथा सरकार द्वारा उठाए गए कदम

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *