UPSC Exam   »   The Editorial Analysis: Sri Lankan Lessons for India   »   Crisis in Sri Lanka

श्रीलंका में संकट- श्रीलंकाई प्रधानमंत्री ने त्यागपत्र दिया

महिंदा राजपक्षे का त्यागपत्र- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: अंतर्राष्ट्रीय संबंध- भारत के हितों पर विकसित एवं विकासशील देशों की नीतियों तथा राजनीति का प्रभाव।

श्रीलंका में संकट- श्रीलंकाई प्रधानमंत्री ने त्यागपत्र दिया_40.1

समाचारों में श्रीलंका के प्रधानमंत्री ने त्यागपत्र दिया

  • हाल ही में श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने अपने पद से त्यागपत्र दे दिया।
    • इससे पूर्व, उनके समर्थकों ने द्वीप में बदतर होते आर्थिक संकट के मध्य शांतिपूर्ण सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों पर बेरहमी से हमला किया था।
  • एक गजट अधिसूचना के अनुसार, श्रीलंका के प्रधानमंत्री का त्यागपत्र स्वीकार कर लिया गया था।
  • परिणाम स्वरूप, श्रीलंकाई संविधान के अनुसार श्रीलंकाई मंत्रिमंडल विघटित हो गई है।

 

श्रीलंका में विरोध

  • श्रीलंका में जारी आर्थिक तथा राजनीतिक संकट और गहरा गया है। कोलंबो में बड़ी संख्या में श्रीलंकाई नागरिक सरकार के विरुद्ध प्रदर्शन कर रहे हैं।
  • राजधानी के बाहर हुई झड़पों में तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि कोलंबो में कम से कम 150 लोग घायल हो गए।
  • सरकार के सांसद अमर कीर्ति अथुकोरला ने पड़ोसी गमपाहा जिले में भीड़ से घिरे होने के बाद कथित तौर पर दो लोगों को गोली मार दी तथा फिर स्वयं को गोली मार ली।
  • राष्ट्रपति ने उनके भाई एवं वित्त मंत्री तुलसी राजपक्षे को उनके पद से हटा दिया।

श्रीलंका में आर्थिक आपातकाल

श्रीलंका में आर्थिक संकट

  • विदेशी मुद्रा भंडार में कमी के कारण श्रीलंका एक तीव्र आर्थिक संकट से गुजर रहा है जिसके परिणामस्वरूप देश में ईंधन, भोजन, दवाओं, सीमेंट तथा अन्य आवश्यक वस्तुओं का अभाव हो गया है।
  • ईंधन, रसोई गैस के लिए लंबी लाइन, आवश्यक वस्तुओं की कम आपूर्ति तथा घंटों बिजली कटौती से जनता महीनों से परेशान है।
  • विगत सप्ताह श्रीलंका में जनता के गुस्से के कारण राष्ट्रव्यापी विरोध प्रारंभ हुआ और बाद में राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे द्वारा द्वीप राष्ट्र में सार्वजनिक आपातकाल की घोषणा की गई।

श्रीलंका में संकट- श्रीलंकाई प्रधानमंत्री ने त्यागपत्र दिया_50.1

श्रीलंका के आर्थिक संकट के पीछे प्रमुख कारण

विदेशी मुद्रा भंडार की कमी

  • उत्तरोत्तर सरकारों के आर्थिक कुप्रबंधन ने श्रीलंका के विदेशी मुद्रा भंडार के 70 प्रतिशत को समाप्त कर दिया है, केवल 2.31 बिलियन डॉलर के शेष बचे विदेशी मुद्रा भंडार  के साथ 4 बिलियन डॉलर से अधिक के ऋण पुनर्अदायगी शेष है।
  • चीनी, दालों एवं अनाज जैसी आवश्यक वस्तुओं के आयात पर श्रीलंका की उच्च निर्भरता आर्थिक मंदी में ईंधन को जोड़ती है क्योंकि द्वीप राष्ट्र के पास अपने आयात बिलों का भुगतान करने के लिए विदेशी मुद्रा भंडार की कमी है।

 

महामारी  का प्रभाव

  • पर्यटन एवं विदेशी प्रेषण पर द्वीपीय राष्ट्र की व्यापक निर्भरता को कोविड-19 महामारी द्वारा समाप्त कर दिया गया था जिसने वर्तमान संकट का बहाना बनाया।
  • पर्यटन, जो श्रीलंका के सकल घरेलू उत्पाद का 10 प्रतिशत से अधिक गठित करता है, तीन प्रमुख देशों: भारत, रूस  एवं ब्रिटेन के आगंतुकों को खोने के बाद दुष्प्रभावित हुआ था।

 

रूस-यूक्रेन युद्ध-प्रेरित मुद्रास्फीति

  • चल रहे रूस-यूक्रेन युद्ध के परिणामस्वरूप कच्चे तेल, सूर्यमुखी तेल एवं गेहूं की कीमतों में भारी मुद्रास्फीति हुई।
  • कच्चे तेल की कीमतें 14 वर्षों में रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गईं एवं कीमतें संकट के चरम पर 125 डॉलर प्रति बैरल से अधिक बढ़ गईं।
  • भारत को 500 मिलियन डॉलर की लाइन ऑफ क्रेडिट के वादे के तहत 40,000 मीट्रिक टन डीजल की आपूर्ति करके कदम उठाना पड़ा। भारत ने विगत 50 दिनों में अब तक 2,00,000 मीट्रिक टन से अधिक ईंधन की आपूर्ति की है।

 

कृषि क्षेत्र का संकट

  • कृषि को 100 प्रतिशत जैविक बनाने हेतु विगत वर्ष सभी रासायनिक उर्वरकों पर प्रतिबंध लगाने के राजपक्षे सरकार के निर्णय ने देश के कृषि उत्पादन को बुरी तरह प्रभावित किया, विशेष रूप से चावल  एवं चीनी उत्पादन में इस निर्णय को उलटने के लिए बाध्य किया।

 

एफडीआई में तीव्र गिरावट

  • सरकारी आंकड़ों के अनुसार, 2019 तथा 2018 में क्रमशः 793 मिलियन डॉलर एवं 1.6 बिलियन  डॉलर की तुलना में 2020 में  विदेशी प्रत्यक्ष निवेश 548 मिलियन डॉलर था।

 

भारत में जूट उद्योग: इतिहास, मुद्दे तथा सरकार द्वारा उठाए गए कदम खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2021 प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक 2022 राष्ट्रीय युवा नीति प्रारूप
संपादकीय विश्लेषण- वॉच द गैप इंटरनेट के भविष्य पर वैश्विक घोषणा  नॉर्थ ईस्ट फेस्टिवल 2022 राष्ट्रीय फिल्म विरासत मिशन
एनएफएचएस-5 रिपोर्ट जारी ग्रीन इंडिया मिशन (जीआईएम) स्वदेश दर्शन योजना- हेरिटेज सर्किट थीम के अंतर्गत स्वीकृत नवीन परियोजनाएं प्लास्टइंडिया 2023

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.