UPSC Exam   »   UP ELECTION RESULT 2022   »   UP Elections 2022

संपादकीय विश्लेषण- पांच राज्यों के चुनाव, उनके संदेश तथा निहितार्थ

पांच राज्यों के चुनाव, उनके संदेश तथा निहितार्थ-यूपीएससी परीक्षा के लिए प्राथमिकता

  • जीएस पेपर 2: भारतीय संविधान– संघवाद- संघ एवं राज्यों के कार्य तथा उत्तरदायित्व।

संपादकीय विश्लेषण- पांच राज्यों के चुनाव, उनके संदेश तथा निहितार्थ_40.1

 समाचारों में पांच राज्यों के चुनाव, उनके संदेश तथा निहितार्थ 

  • भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने हाल ही में संपन्न हुए राज्य विधानसभा चुनावों में से पांच में से चार राज्यों में विजय प्राप्त की है। इन विजयों के साथ, भाजपा का युग चरम पर है एवं अपने लक्ष्य को प्राप्त कर चुका है।

 

उत्तर प्रदेश में भाजपा का लाभ

  • कमजोर विपक्ष: समाजवादी पार्टी ने यद्यपि अपने 2017 के प्रदर्शन से सुधार किया, किंतु यह भाजपा को कोई टक्कर नहीं दे सका जिसने शहरी एवं अर्ध-शहरी सीटों पर अपनी असाधारण बढ़त बनाए रखी।
    • इससे भी अधिक, भाजपा ने 2017 से वोट शेयर में लाभ प्राप्त किया है।
  • कोई सत्ता-विरोध नहीं: केंद्र एवं राज्य के साथ केंद्र में लगभग आठ वर्ष की सत्ता तथा लखनऊ में पूर्ण बहुमत के बावजूद, भाजपा उत्तर प्रदेश चुनाव 2022 में विजय प्राप्त करने में सफल रही।
  • गंभीर आर्थिक संकट का कोई असर नहीं: राज्य के खराब आर्थिक प्रदर्शन के बावजूद, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 1985 के बाद पहली बार सत्ता में  लौटने वाले प्रथम मुख्यमंत्री रहे।
    • युवाओं के मध्य  बेरोजगारी देश में सर्वाधिक है एवं विगत पांच वर्षों में और बढ़ी है, राज्य में 2022 में 2017 की तुलना में 16 लाख कम लोगों को रोजगार प्राप्त हुआ है।
    • 2012-2017 के चरण की तुलना में राज्य के सकल घरेलू उत्पाद में बहुत कम वृद्धि एवं कीमतों में त्वरित वृद्धि, खाद्य बास्केट को प्रभावित करना, ये सभी सांख्यिकीय रिकॉर्ड के मामले हैं।
    • नीति आयोग ने बहुआयामी  निर्धनता सूचकांक में उत्तर प्रदेश को सबसे निचले पायदान पर रखा है।

 

आप (आम आदमी पार्टी) का आविर्भाव

  • विपक्ष का नए तरीके से निर्माण: एकमात्र विपक्षी दल जो सफल हुआ है, वह पंजाब में आम आदमी पार्टी है ।
    • हारने वालों में कांग्रेस के अलावा, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) एवं अकाली दल शामिल होंगे।
  • बीजेपी को चुनौती: आप के पास ग्रैंड ओल्ड पार्टी के जितने मुख्यमंत्री हैं एवं एसपी तथा अन्य पार्टियां बीजेपी को चुनावी चुनौती देने में असमर्थ हैं।
    • यह पूरे ब्रह्मांड के लिए, कम से कम फिलहाल के लिए एक झटके का संकेत है कि 2014 से पहले राजनीति कैसे की जाती थी।

संपादकीय विश्लेषण- पांच राज्यों के चुनाव, उनके संदेश तथा निहितार्थ_50.1

निष्कर्ष

  • इन चुनावों ने यह सिद्ध कर दिया है कि हिंदू राष्ट्रवाद के विचार का मुकाबला करने के लिए  अथवा यह सुनिश्चित करने के लिए कि मतदाता सद्भाव से उत्साहित हैं, या यहां तक ​​​​कि भारतीय राष्ट्रवाद के 21 वीं सदी के संस्करण को, स्मार्ट चुनावी या चातुर्यपूर्ण नाटकों की तुलना में बहुत अधिक की आवश्यकता होगी।

 

नेशनल बैंक फॉर फाइनेंसिंग इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट (एनएबीएफआईडी) यूडीआईएसई+ 2020-21 रिपोर्ट यूट्रोफिकेशन: परिभाषा, कारण और नियंत्रण स्मार्ट ग्रिड नॉलेज सेंटर तथा इनोवेशन पार्क
‘साहित्योत्सव’ महोत्सव | साहित्य महोत्सव 2022 डब्ल्यूएचओ ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन इन इंडिया बीबीआईएन मोटर वाहन समझौते को अंतिम रूप दिया गया संपादकीय विश्लेषण: जल प्रबंधन को एक जल-सामाजिक दृष्टिकोण की आवश्यकता है
भारत में नक्सलवाद: सरकार के कदम एवं सिफारिशें सुंदरबन टाइगर रिजर्व: टाइगर्स रीचिंग कैरिंग कैपेसिटी संपादकीय विश्लेषण- युद्ध से चीन के निहितार्थ  “परम गंगा” सुपर कंप्यूटर | राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन (एनएसएम)

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.