Home   »   यूट्रोफिकेशन: परिभाषा, कारण और नियंत्रण   »   यूट्रोफिकेशन: परिभाषा, कारण और नियंत्रण

यूट्रोफिकेशन: परिभाषा, कारण और नियंत्रण

यूट्रोफिकेशन यूपीएससी

 

यूट्रोफिकेशन/सुपोषण क्या है?

  • यूट्रोफिकेशन का अर्थ:  सुपोषण अथवा यूट्रोफिकेशन प्रदूषण की एक प्रक्रिया है जो तब घटित होती है जब एक झील अथवा जल स्रोत पौधों के पोषक तत्वों से अति समृद्ध हो जाती है, जिससे शैवाल एवं अन्य जलीय पौधों की अतिवृद्धि होती है।
  • सुपोषण से हानिकारक शैवाल प्रस्फुटन, मृत क्षेत्र एवं मछलियों की मृत्यु जैसे परिणाम सामने आते हैं।
  • यह अधिक व्यापक रूप से मानवजनित गतिविधियों के संबंध में जाना जाता है जहां पौधों के पोषक तत्वों के कृत्रिम समावेश से सामुदायिक परिवर्तन होते हैं एवं स्वच्छ जल के अनेक पारिस्थितिक तंत्रों में जल की गुणवत्ता में गिरावट आती है।

Uncategorised

सुपोषण के कारण

  • जब जल निकाय नाइट्रोजन एवं फास्फोरस जैसे पोषक तत्वों से अत्यधिक समृद्ध होते हैं; शैवाल, प्लवक  तथा अन्य साधारण पौधे आच्छादित हो जाते हैं, जिससे अन्य समुद्री जीवों का जीवन प्रभावित हो रहा है।
  • किस प्रकार जल पोषक तत्वों से अत्यधिक समृद्ध हो जाता है?
  • पौधे के जीवन में, फास्फोरस को प्राथमिक सीमित कारकों में से एक माना जाता है। फास्फोरस के कुछ स्रोत हैं:
    • उर्वरक
    • अनुपचारित सीवेज
    • फास्फोरस युक्त डिटर्जेंट
    • औद्योगिक अपशिष्ट का विसर्जन।

 

 सुपोषण के परिणाम

  • सांस्कृतिक यूट्रोफिकेशन का सर्वाधिक दृश्य प्रभाव दुर्गंधयुक्त फाइटोप्लांकटन के सघन प्रस्फुटन का निर्माण है जो  जल की स्वच्छता को घटाता है एवं जल की गुणवत्ता को  हानि पहुंचाता है।
  • शैवालीय प्रस्फुटन (अल्गल ब्लूम्स) प्रकाश के अंतर्वेधन को सीमित करते हैं, विकास को कम करते हैं  एवं पौधों के एक-एक कर मृत होने का कारण बनते हैं, जबकि परभक्षियों की सफलता को भी कम करते हैं जिन्हें शिकार का पीछा करने तथा पकड़ने के लिए प्रकाश की आवश्यकता होती है।
  • साथ ही, यूट्रोफिकेशन से संबंधित प्रकाश संश्लेषण की उच्च दर घुलित अकार्बनिक कार्बन को समाप्त कर सकती है तथा दिन की अवधि के दौरान पीएच मान को चरम स्तर तक बढ़ा सकती है।
  • जब सघन शैवालीय प्रस्फुटन अंततः मृत हो जाते हैं, सूक्ष्मजैविक अपघटन घुलित ऑक्सीजन को गंभीर रूप से कम कर देता है, जिससे अधिकांश जीवों का समर्थन करने के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन के अभाव वाला हाइपोक्सिक या अनोक्सिक मृत क्षेत्रनिर्मित हो जाता है।
  • इसके अतिरिक्त, इस प्रकार की हाइपोक्सिक घटनाएं विशेष रूप से बड़ी, पोषक तत्वों से समृद्ध नदियों के आसपास के समुद्री तटीय वातावरण में आम हैं।
  • यूट्रोफिकेशन के परिणामस्वरूप हाइपोक्सिया एवं एनोक्सिया, संपूर्ण विश्व में आकर्षक वाणिज्यिक एवं मनोरंजक मत्स्य पालन के लिए खतरा बना हुआ है।
  • यदि एक पोषक तत्व की कमी वाला जल निकाय अकस्मात रूप से  पोषक तत्वों  से समृद्ध हो जाता है, तो कई अन्य प्रतिस्पर्धी प्रजातियां जल निकाय में स्थानांतरित हो सकती हैं तथा पारिस्थितिकी तंत्र के मूल निवासियों से प्रतिस्पर्धा कर सकती हैं। उदाहरण: कॉमन कार्प।

Uncategorised

यूट्रोफिकेशन का नियंत्रण

  • अतिरिक्त पोषक तत्वों का विपथन
  • पोषक तत्वों का अनुपात परिवर्तन
  • भौतिक मिश्रण
  • अपारदर्शी अस्तर अथवा जल आधारित दागों के साथ जल निकायों को छायांकित करना
  • शक्तिशाली शैवाल एवं शाकनाशी का अनुप्रयोग
  • बायोमैनीपुलेशन: पारिस्थितिकी तंत्र को पुनर्स्थापित करने  हेतु एक खाद्य जाल का परिवर्तन

 

स्मार्ट ग्रिड नॉलेज सेंटर तथा इनोवेशन पार्क ‘साहित्योत्सव’ महोत्सव | साहित्य महोत्सव 2022 डब्ल्यूएचओ ग्लोबल सेंटर फॉर ट्रेडिशनल मेडिसिन इन इंडिया बीबीआईएन मोटर वाहन समझौते को अंतिम रूप दिया गया
संपादकीय विश्लेषण: जल प्रबंधन को एक जल-सामाजिक दृष्टिकोण की आवश्यकता है भारत में नक्सलवाद: सरकार के कदम एवं सिफारिशें सुंदरबन टाइगर रिजर्व: टाइगर्स रीचिंग कैरिंग कैपेसिटी संपादकीय विश्लेषण- युद्ध से चीन के निहितार्थ 
“परम गंगा” सुपर कंप्यूटर | राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन (एनएसएम) सूर्य के ऊपर घटित होने वाले प्लाज्मा के जेट || व्याख्यायित || इंडो बांग्लादेश प्रोटोकॉल रूट भारत में नक्सलवाद: भारत में नक्सलवाद की उत्पत्ति, विचारधारा एवं प्रसार के कारण

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *