Home   »   SBM 2.0 and AMRUT 2.0   »   Swachh Certification Protocols

स्वच्छ भारत मिशन शहरी 2.0: संशोधित स्वच्छ प्रमाणन प्रोटोकॉल का विमोचन किया किया

स्वच्छ प्रमाणन प्रोटोकॉल: प्रासंगिकता

  • जीएस 2: विभिन्न क्षेत्रों में विकास के लिए सरकारी नीतियां एवं अंतः क्षेप  तथा उनकी अभिकल्पना एवं कार्यान्वयन से उत्पन्न होने वाले मुद्दे।

स्वच्छ भारत मिशन शहरी 2.0: संशोधित स्वच्छ प्रमाणन प्रोटोकॉल का विमोचन किया किया_3.1

स्वच्छ भारत मिशन शहरी 2.0: प्रसंग 

  • हाल ही में, आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय ने स्वच्छ भारत मिशन-शहरी 2.0 के  अंतर्गत ओडीएफ, ओडीएफ+, ओडीएफ++ तथा जल+ प्रमाणन के लिए संशोधित स्वच्छ प्रमाणन प्रोटोकॉल का विमोचन किया है।

 

स्वच्छ प्रमाणन प्रोटोकॉल: प्रमुख बिंदु

संशोधित प्रोटोकॉल स्वच्छ भारत मिशन-2.0 उद्देश्यों के अनुरूप है एवं यह निम्नलिखित को सुनिश्चित करने हेतु डिज़ाइन किया गया है:

  • कोई भी उपयोग किया गया अनुपचारित जल अथवा मल कीचड़ पर्यावरण में नहीं स्रावित नहीं किया जाता है तथा समस्त उपयोग किए गए जेल (सीवरेज एवं सेप्टेज, धूसर जल/ग्रे वाटर तथा कृष्ण जल सहित) 1 लाख से कम आबादी वाले सभी शहरों में सुरक्षित रूप से निहित, परिवहन तथा उपचारित किया जाता है।
  • सभी वैधानिक कस्बों में खुले में शौच मुक्त स्थिति बनाए रखना

 

स्वच्छ प्रमाणन प्रोटोकॉल

  • स्वच्छ प्रमाणन प्रोटोकॉल प्रमाणन प्रक्रियाओं को अधिक व्यापक बनने हेतु निरंतर विकसित होने की आवश्यकता पर बल देता है।
  • संशोधित स्वच्छ प्रमाणन प्रोटोकॉल अधिक कार्यात्मकता उन्मुख है तथा इसे अधिकारियों एवं नागरिकों के लिए इसे बेहतर ढंग से समझने हेतु सरल बनाया गया है।
  • प्रोटोकॉल का उद्देश्य न केवल शहरों की रैंकिंग में सुधार करना है बल्कि मिशन की भावना को प्राप्त करने हेतु शहरों को प्रेरित करना है।

 

प्रत्येक प्रमाणीकरण के विरुद्ध प्रमुख हस्तक्षेप

  • ओडीएफ – सर्वेक्षण प्रतिदर्श आकार एवं अवस्थिति प्रकारों की संख्या में वृद्धि करके सुदृढ़ अनुश्रवण तंत्र सुनिश्चित किया गया।
  • ओडीएफ+ –  दीर्घकाल में उनकी धारणीयता के लिए सीटी / पीटी  एवं अभिनव ओ एंड एम  व्यापार प्रतिमान (बिजनेस मॉडल) की कार्यक्षमता पर ध्यान केंद्रण।
  • ODF++ – सेप्टिक टैंक तथा सीवर की मशीनीकृत सफाई पर बल देना। उपयोग किए गए जल के सुरक्षित संग्रह तथा उपचारण के साथ-साथ मल कीचड़ का सुरक्षित प्रबंधन।
  • जल+ – पर्यावरण प्रदूषण को रोकने के लिए उपयोग किए गए जल तथा मल कीचड़ दोनों के संग्रह, परिवहन, उपचारण तथा पुन: उपयोग पर ध्यान केंद्रित किया गया है।

 

एसबीएम 2.0 का उद्देश्य

  • सभी वैधानिक शहर न्यूनतम ओडीएफ+ हो जाएंगे; एवं <1 लाख आबादी वाले सभी शहर ओडीएफ++।
  • प्रणालियां तथा प्रक्रियाएं उचित स्थान पर होंगी ताकि समस्त अपशिष्ट जल को सुरक्षित रूप से उपचारित किया जा सके तथा बेहतर ढंग से पुन: उपयोग किया जा सके एवं कोई भी अनुपचारित अपशिष्ट जल जल निकायों को प्रदूषित न करे।
  • ठोस अपशिष्ट प्रबंधन (सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट) के संबंध में, यह अपेक्षा की जाती है कि सभी शहर SBM-U 2.0 के तहत कम से कम 3-स्टार कचरा मुक्त प्रमाणन (गारबेज फ्री सर्टिफिकेशन) हासिल करेंगे।

स्वच्छ भारत मिशन शहरी 2.0: संशोधित स्वच्छ प्रमाणन प्रोटोकॉल का विमोचन किया किया_4.1

एसबीएम की उपलब्धियां

  • स्वच्छ भारत मिशन ने 3,300 से अधिक शहरों में स्थायी स्वच्छता हासिल की है  एवं 950 से अधिक शहरों को क्रमशः ODF+ एवं ODF++ प्रमाणित किया गया है।
  • इसके अतिरिक्त, 9 शहरों को जल+ प्रमाणित किया गया है, जिसमें अपशिष्ट जल का उपचारण तथा इसका इष्टतम पुन: उपयोग करना आवश्यक है।
  • वैज्ञानिक अपशिष्ट प्रबंधन पर बल भारत में अपशिष्ट प्रसंस्करण 2014 में 18% से चार गुना बढ़कर आज 70% हो जाने से स्पष्ट है।
  • इसे 97% वार्डों में 100% डोर-टू-डोर कचरा संग्रह तथा 85% वार्डों में नागरिकों द्वारा शब्दशः कचरे के स्रोत पृथक्करण के माध्यम से सहायता प्रदान की गई है।
  • कार्यक्रम में 20 करोड़ नागरिकों (भारत की शहरी आबादी का 50% से अधिक सम्मिलित) की सक्रिय भागीदारी ने मिशन को एक जन आंदोलन, एक वास्तविक जन आंदोलन में सफलतापूर्वक परिवर्तित कर दिया है।

 

यूएनजीए ने आंतरिक विस्थापन पर कार्य एजेंडा का विमोचन किया सतत विकास रिपोर्ट 2022 संपादकीय विश्लेषण- चांसलर कांउंड्रम खाड़ी सहयोग परिषद के साथ भारत के व्यापार में तीव्र वृद्धि
राज्य खाद्य सुरक्षा सूचकांक 2022 विकलांगता क्षेत्र में भारत का अंतर्राष्ट्रीय सहयोग- एक सिंहावलोकन भारत में इथेनॉल सम्मिश्रण: भारत ने निर्धारित समय से पूर्व 10% का लक्ष्य प्राप्त किया तालिबान शासन पर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट: अल-कायदा का  फोकस अब भारत पर 
भारत-गैबॉन संबंध एनटीपीसी ने जैव विविधता नीति 2022 जारी की भारत-अमेरिका व्यापार संबंध- अमेरिका भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार बना ई-श्रम पोर्टल: भारत में अनौपचारिक क्षेत्र के बारे में चिंताजनक तथ्य

Sharing is caring!