Home   »   सेबी ने कृषि जिंसों में व्युत्पन्न...

सेबी ने कृषि जिंसों में व्युत्पन्न व्यापार पर प्रतिबंध लगाया

सेबी ने कृषि जिंसों में व्युत्पन्न व्यापार पर प्रतिबंध लगाया: प्रासंगिकता

  • जीएस 3: भारतीय अर्थव्यवस्था एवं योजना, संसाधन,वृद्धि, विकास एवं रोजगार से संबंधित मुद्दे।

 

सेबी ने कृषि जिंसों में व्युत्पन्न व्यापार पर प्रतिबंध लगाया: प्रसंग

  • हाल ही में, भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने तत्काल प्रभाव से एक वर्ष के लिए नेशनल कमोडिटीज एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज (एनसीडीईएक्स) के फ्यूचर प्लेटफॉर्म पर सात कृषि जिंसों के व्युत्पन्न व्यापार (डेरिवेटिव ट्रेड) पर प्रतिबंध आरोपित कर दिया।

सेबी ने कृषि जिंसों में व्युत्पन्न व्यापार पर प्रतिबंध लगाया_40.1

सेबी ने कृषि जिंसों में व्युत्पन्न व्यापार पर प्रतिबंध लगाया: मुख्य बिंदु

  • प्रतिबंधित वस्तुएं: चना, गेहूं, धान (गैर-बासमती), सोयाबीन एवं इसके व्युत्पाद, सरसों के बीज एवं इसके व्युत्पाद, कच्चा पाम तेल एवं मूंग।
  • सेबी ने पहले क्रमश: 16 अगस्त एवं 8 अक्टूबर को चना तथा सरसों के व्युत्पन्न व्यापार पर प्रतिबंध आरोपित कर दिया था।

 

सेबी ने कृषि जिंसों में व्युत्पन्न व्यापार पर प्रतिबंध लगाया: यह निर्णय क्यों लिया गया?

  • सटोरिया:
    • यह माना जाता है कि सटोरिये कीमतों को तीव्र गति से बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं, जिन्हें महामारी पश्चात की स्थिति में मुद्रास्फीति पर अंकुश लगाने एवं विकास का समर्थन करने हेतु हतोत्साहित किए जाने की आवश्यकता है।
  • मुद्रास्फीति:
    • आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में वृद्धि महंगाई में वृद्धि को तीव्र कर रही है।
    • आरबीआई द्वारा हाल ही में जारी मौद्रिक नीति वक्तव्य के अनुसार, अक्टूबर में सीपीआई मुद्रास्फीति सितंबर में 3% से बढ़कर 4.5% हो गई। इसके अतिरिक्त, आरबीआई ने वित्त वर्ष 2022 के लिए सीपीआई मुद्रास्फीति 5.3% पर अनुमानित की है।
    • जून 2020 से उच्च कोर मुद्रास्फीति का बना रहना नीतिगत चिंता का विषय रहा है क्योंकि मांग के मजबूत होने पर आदान लागत दबाव तीव्र रूप से खुदरा मुद्रास्फीति में स्थानांतरित हो सकते हैं।
    • इसके अतिरिक्त, यह अपेक्षा की जाती है कि शीर्ष (हेडलाइन) मुद्रास्फीति 2021-22 की चौथी तिमाही में चरम पर होगी एवं उसके बाद नरम हो जाएगी।

 

सेबी ने कृषि जिंसों में व्युत्पन्न व्यापार पर प्रतिबंध लगाया: इस निर्णय के प्रभाव

  • भारत वनस्पति तेल का विश्व का सबसे बड़ा आयातक है एवं तेल आयातक तथा व्यापारी अपने जोखिम को कम करने के लिए भारतीय एक्सचेंजों का उपयोग करते हैं।
  • इस कदम से खाद्य तेल आयातकों एवं व्यापारियों के लिए व्यापार करना कठिन हो जाएगा।
  • भविष्य के व्यापार पर प्रतिबंध आरोपित कर, सरकार उत्पादन के प्रायः की भांति अच्छा नहीं होने की स्थिति में आने वाले दिनों में बाजार को अनुभव होने वाले किसी भी मूल्य आघात से बचाने का प्रयत्न कर रही है।

सेबी ने कृषि जिंसों में व्युत्पन्न व्यापार पर प्रतिबंध लगाया_50.1

सेबी ने कृषि जिंसों में व्युत्पन्न व्यापार पर प्रतिबंध लगाया: मुद्दे

  • जबकि चना (बंगाल चना) को तीन महीने पूर्व ही हटा दिया गया है, गेहूं, सरसों एवं मूंग जैसी रबी फसलों को सम्मिलित करने से अनेक प्रश्न उठे हैं।
  • कुछ व्यापारियों का मानना ​​है कि यह निर्णय देश के अनेक भागों में उर्वरकों के अभाव के कारण रबी उत्पादन को लेकर नीतिगत हलकों में घबराहट को दर्शाता है
  • अधिकांश व्यापारियों को प्रतीत हुआ कि यह कदम प्रतिगामी है एवं उन्होंने वर्षों पूर्व कमोडिटी बाजारों में अनुभवहीन व्यापार को अपनाया।

 

एनसीडीईएक्स के बारे में

  • एनसीडीईएक्स एक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म है, जहां क्रेता एवं विक्रेता उन वस्तुओं को विक्रय हेतु रख सकते हैं जिन्हें भविष्यकी तारीख में बंद किया जाना था
  • यदि या तो क्रेता अथवा विक्रेता ने इन अनुबंधों का सम्मान करने से इनकार कर दिया, तो वे एक छोटे से शुल्क का भुगतान करके इससे बाहर निकल सकते हैं
  • भविष्य के अनुबंध वस्तुओं के व्यापार के लिए मूल्य प्रवृत्तियों के बारे में परिशुद्ध जानकारी प्रदान करते हैं एवं प्रतिरक्षण (हेजिंग) हेतु एक मार्गदर्शक के रूप में कार्य करते हैं।

 

डेरिवेटिव क्या हैं?

  • एक व्युत्पाद (डेरिवेटिव) दो पक्षों के मध्य एक अनुबंध है, जहां अनुबंध एक अंतर्निहित परिसंपत्ति से अपना मूल्य/मूल्य प्राप्त करता है।
  • सर्वाधिक सामान्य प्रकार के डेरिवेटिव हैं फॉरवर्ड, फ्यूचर्स, ऑप्शंस एवं स्वैप।
  • अंतर्निहित परिसंपत्तियों में कमोडिटी, स्टॉक, बॉन्ड, ब्याज दरें एवं मुद्राएं सम्मिलित हो सकती हैं।
  • लोग भविष्य में अंतर्निहित परिसंपत्ति के मूल्य पर विचार करके बड़ी संख्या में लाभ अर्जित करने हेतु व्युत्पन्न अनुबंधों में प्रवेश करते हैं।

 

व्युत्पन्न व्यापार/डेरिवेटिव ट्रेडिंग क्या है?

  • व्युत्पन्न व्यापार में, व्यापारी भौतिक परिसंपत्तियों में व्यापार करने की तुलना में अनुबंधों में व्यापार करते हैं।
  • इस प्रकार का व्यापार तब घटित होता है जब व्यापारी लाभ को अधिकतम करने हेतु व्युत्पन्न अनुबंधों के क्रय अथवा विक्रय के माध्यम से किसी परिसंपत्ति की भविष्य की कीमत के बारे में अनुमान लगाते हैं।
  • व्यापारी वर्तमान स्थिति के प्रति जोखिम को कम करने हेतु प्रतिरक्षण (हेजिंग) के लिए डेरिवेटिव का भी उपयोग करते हैं।
विकलांग बच्चों हेतु दीक्षा थार रेगिस्तान में प्रसार एवं भूमि क्षरण भारत की भौतिक विशेषताएं: भारतीय मरुस्थल संपादकीय विश्लेषण: बढ़ती असमानता का क्या अर्थ है
निर्वाचन कानून (संशोधन) विधेयक 2021 वंदे भारतम नृत्य उत्सव जलवायु परिवर्तन पर राष्ट्रीय कार्य योजना (एनएपीसीसी) एकीकृत श्रम कानून के लिए पीएम-ईएसी का आह्वान
अनुच्छेद 32 एवं अनुच्छेद 226: भारतीय संविधान में रिट के प्रकार और उनका विस्तार क्षेत्र  संपादकीय विश्लेषण – आयु एवं विवाह गोल्डन पीकॉक पर्यावरण प्रबंधन पुरस्कार 2021 कोलकाता दुर्गा पूजा यूनेस्को की अमूर्त विरासत सूची में अंकित

 

Sharing is caring!