Home   »   Rotterdam Convention   »   Rotterdam Convention

रॉटरडैम अभिसमय 

रॉटरडैम अभिसमय- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • सामान्य अध्ययन III- सूचना प्रौद्योगिकी, अंतरिक्ष, कंप्यूटर, रोबोटिक्स, नैनो-प्रौद्योगिकी, जैव-प्रौद्योगिकी, औषधि क्षेत्र एवं स्वास्थ्य विज्ञान के क्षेत्र में जागरूकता।

रॉटरडैम अभिसमय  -_3.1

रॉटरडैम अभिसमय: चर्चा में क्यों है?

दो नए हानिकारक कीटनाशकों – Iprodione एवं Terbufos – के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार की सिफारिश रॉटरडैम अभिसमय के तहत “पूर्व सूचित सहमति” (प्रायर इनफॉर्म्ड कंसेंट/PIC) प्रक्रिया के लिए की गई है।

  • भारत में, 2015 अनुपम वर्मा समिति की रिपोर्ट द्वारा इन रसायनों के उपयोग की अनुमति मदान की गई थी। देश Terbufos के सबसे बड़े निर्यातकों में से एक है।
  • ये रसायन मनुष्यों एवं जलीय जीवों के लिए अत्यंत हानिकारक हैं।

 

रॉटरडैम अभिसमय

  • रॉटरडैम अभिसमय को औपचारिक रूप से अंतर्राष्ट्रीय व्यापार में कुछ हानिकारक रसायनों एवं कीटनाशकों के लिए पूर्व सूचित सहमति प्रक्रिया से संबंधित अभिसमय के रूप में जाना जाता है।
  • यह हानिकारक रसायनों के आयात के संबंध में साझा जिम्मेदारियों को प्रोत्साहित करने हेतु एक बहुपक्षीय संधि है।
  • अभिसमय सूचना के मुक्त आदान-प्रदान को प्रोत्साहित करता है एवं हानिकारक रसायनों के निर्यातकों को उचित लेबलिंग का उपयोग करने के लिए कहता है, सुरक्षित संचालन पर निर्देश शामिल करता है तथा क्रेताओं को किसी भी ज्ञात प्रतिबंध अथवा निषेध के संबंध में सूचित करता है।
  • हस्ताक्षरकर्ता राष्ट्र यह निर्धारित कर सकते हैं कि संधि में सूचीबद्ध रसायनों के आयात को अनुमति प्रदान की जाए अथवा उन पर प्रतिबंध लगाया जाए एवं निर्यातक देश यह सुनिश्चित करने हेतु बाध्य हैं कि उनके  क्षेत्राधिकार में उत्पादक इनका अनुपालन करते हैं।
  • भारत 161 अन्य पक्षकारों के साथ अभिसमय का एक पक्षकार है।

 

रॉटरडैम अभिसमय: पूर्व सूचित सहमति (पीआईसी) प्रक्रिया

  •  पूर्व सूचित सहमति (प्रायर इनफॉर्म्ड कंसेंट/पीआईसी) प्रक्रिया हानिकारक रसायनों के भविष्य के शिपमेंट प्राप्त करने की इच्छा पर आयात करने वाले पक्षों के निर्णयों को औपचारिक रूप से प्राप्त करने  एवं प्रसारित करने हेतु एक तंत्र है।
  • पीआईसी प्रक्रिया आयात करने वाले पक्षों के निर्णयों को औपचारिक रूप से प्राप्त करने एवं प्रसारित करने के लिए एक तंत्र है कि क्या वे अभिसमय में सूचीबद्ध उन रसायनों के भविष्य के शिपमेंट प्राप्त करना चाहते हैं।
  • अनुलग्नक III में सूचीबद्ध प्रत्येक रसायन के लिए एवं पीआईसी प्रक्रिया के अधीन एक निर्णय मार्गदर्शन दस्तावेज (डिसीजन गाइडेंस डॉक्यूमेंट/डीजीडी) तैयार किया जाता है तथा सभी पक्षकारों को भेजा जाता है।
  • सभी पक्षकारों को यह निर्णय लेने की अनिवार्यता है कि वे अभिसमय के अनुबंध III में प्रत्येक रसायन के भविष्य के आयात की अनुमति प्रदान करेंगे अथवा नहीं।
  • इन निर्णयों को आयात प्रतिक्रिया के रूप में जाना जाता है।

 

रॉटरडैम अभिसमय: नए रसायन

  • Iprodione, लताओं, फलों, वृक्षों एवं सब्जियों पर प्रयुक्त होने वाले कवकनाशी को कैंसर उत्पन्न करने वाले पदार्थ (कार्सिनोजेनिक) एवं प्रजनन के लिए विषाक्त पदार्थ के रूप में वर्गीकृत किया गया है।
  • Terbufos एक मृदा कीटनाशक है जो आमतौर पर ज्वार, मक्का, चुकंदर एवं आलू पर प्रयोग किया जाता है। इसकी विषाक्तता के कारण जलीय जीवों के लिए भी यह हानिकारक पाया गया है।
  • दोनों कीटनाशक, जो कृषि में उपयोग किए जाते हैं, मानव स्वास्थ्य एवं पर्यावरण पर उनके हानिकारक प्रभावों के लिए जाने जाते हैं।

 

भारत-यूएई सीईपीए का भारत-यूएई व्यापार पर प्रभाव द्वेष वाक् (हेट स्पीच) धारावी पुनर्विकास परियोजना पोषण वाटिका या पोषक- उद्यान संपूर्ण देश में स्थापित किए जा रहे हैं
डेफएक्सपो 2022 फ्लाई ऐश संपादकीय विश्लेषण- ओवर द टॉप पर्यावरण मंत्रियों का राष्ट्रीय सम्मेलन 2022
वाराणसी को प्रथम एससीओ पर्यटन एवं सांस्कृतिक राजधानी के रूप में नामित किया गया प्रारूप भारतीय दूरसंचार विधेयक, 2022 संपादकीय विश्लेषण- आंतरिक लोकतंत्र चेतना पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *