Home   »   World TB Report 2021   »   National TB Elimination Programme (NTEP)

प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान का शुभारंभ

पीएम टीबी मुक्त भारत अभियान- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: शासन, प्रशासन एवं चुनौतियां– केंद्र एवं राज्यों द्वारा आबादी के कमजोर वर्गों के लिए कल्याणकारी योजनाएं तथा इन योजनाओं का प्रदर्शन।

प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान का शुभारंभ -_3.1

प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान

  • हाल ही में, भारत की राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मू ने आभासी रूप से प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान  का शुभारंभ किया।
    • राष्ट्रपति ने नि-क्षय मित्र पहल की भी शुरुआत की।

 

पीएम टीबी मुक्त भारत अभियान

  • पृष्ठभूमि: प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने मार्च 2018 में ‘दिल्ली एंड टीबी समिट’ में  सतत विकास लक्ष्य ( सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स/एसडीजी) लक्ष्य 2030 से पांच वर्ष पूर्व देश में टीबी को समाप्त करने का आह्वान किया था।
  • प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान के बारे में: प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान की परिकल्पना समस्त सामुदायिक हितधारकों को एक साथ लाने हेतु की गई है ताकि टीबी उपचार पर लोगों को सहयोग प्रदान करने हेतु किया जा सके तथा टीबी उन्मूलन की दिशा में देश की प्रगति में तेजी लाई जा सके।
  • उद्देश्य: प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान का उद्देश्य 2025 तक देश से टीबी उन्मूलन के मिशन को पुनः जीवंत करना है।
  • भागीदारी: पीएम टीबी मुक्त भारत अभियान पहल के तहत, व्यक्ति, संगठन, व्यावसायिक घराने , सहकारी संगठन, निर्वाचित नेता एवं गैर सरकारी संगठन टीबी से प्रभावित व्यक्तियों को गोद लेकर सहायता प्रदान कर सकते हैं।
  • महत्व: विमोचन समारोह का उद्देश्य एक सामाजिक दृष्टिकोण की आवश्यकता को प्रकट करना है जो 2025 तक देश से टीबी को समाप्त करने के महत्वाकांक्षी लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु सभी पृष्ठभूमि के लोगों को एक जन आंदोलन में एक साथ लाता है।
    • प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान रोगी केंद्रित स्वास्थ्य प्रणाली की दिशा में सामुदायिक समर्थन जुटाने की दिशा में एक कदम है।

 

नि-क्षय मित्र पहल 

  • नि-क्षय मित्र पहल के बारे में: नि-क्षय मित्र पहल पीएम टीबी मुक्त भारत का एक महत्वपूर्ण घटक है।
  • नि-क्षय मित्र पोर्टल: यह दाताओं को टीबी के उपचाराधीन व्यक्तियों को विभिन्न प्रकार की सहायता प्रदान करने हेतु एक मंच प्रदान करता है।
  • कार्यकरण: नि-क्षय मित्र पहल त्रि-आयामी समर्थन प्रदान करती है जिसमें सम्मिलित हैं-
    • पोषण संबंधी सहायता,
    • अतिरिक्त नैदानिक ​​सहायता,  एवं
    • व्यावसायिक समर्थन।
  • नि-क्षय मित्र: दानकर्ता, जिन्हें नि-क्षय मित्र कहा जाता है, निर्वाचित प्रतिनिधियों, राजनीतिक दलों,  व्यावसायिक घरानों, गैर सरकारी संगठनों तथा व्यक्तियों से लेकर हितधारकों की एक विस्तृत श्रृंखला हो सकती है।

 

राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रम (एनटीईपी) 

  • राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रम (एनटीईपी) के बारे में: सरकार ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (नेशनल हेल्थ मिशन/एनएचएम) के तत्वावधान में राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रम (नेशनल टीवी एलिमिनेशन प्रोग्राम/एनटीईपी) लागू किया है।
  • उद्देश्य: वैश्विक लक्ष्यों से पांच वर्ष पूर्व, 2025 तक टीबी से संबंधित सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने के लक्ष्य के साथ, कार्यक्रम ने निम्नलिखित उद्देश्यों के साथ एक राष्ट्रीय रणनीतिक योजना लागू की है:
    • टीबी रोगियों का शीघ्र निदान, गुणवत्ता सुनिश्चित दवाओं एवं उपचार के पथ्यापथ्य नियमों के साथ शीघ्र उपचार।
    • निजी क्षेत्र में देखभाल करने वाले रोगियों के साथ जुड़ने हेतु।
    • उच्च जोखिम/संवेदनशील आबादी में सक्रिय मामले का पता लगाने तथा संपर्क अनुरेखण सहित रोकथाम रणनीतियाँ।
    • वायु जनित संक्रमण नियंत्रण।
    • सामाजिक निर्धारकों को संबोधित करने हेतु बहु-क्षेत्रीय प्रतिक्रिया।
  • प्रदर्शन: राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रम (एनटीईपी) योजना के तहत, 2018 से 62 लाख से अधिक टीबी रोगियों को 1,651 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता प्राप्त हुई है। इसमें मरीज के बैंक खाते में प्रत्यक्ष रुप से 500 रुपये हस्तांतरित करना सम्मिलित है।

 

सतत एवं हरित पर्यटन (सस्टेनेबल एंड ग्रीन टूरिज्म) भारत-जापान 2+2 मंत्रिस्तरीय संवाद यूएस स्टार्टअप सेतु – परिवर्तन एवं कौशल उन्नयन कार्यक्रम में उद्यमियों का समर्थन स्वच्छ वायु दिवस- नीले आकाश हेतु स्वच्छ वायु का अंतर्राष्ट्रीय दिवस
संपादकीय विश्लेषण- द आउटलाइन ऑफ एन एसेंशियल ग्लोबल पैंडेमिक ट्रीटी ईडब्ल्यूएस कोटा भारत एवं इसके सैन्य झंडे तथा चिन्हों को अपनाना भारत-यूएई के मध्य शिक्षा के क्षेत्र में सहयोग पर समझौता ज्ञापन
पैक की गई वस्तुओं के लिए अनिवार्य आवश्यकताएं सेंटर ऑफ एक्सीलेंस – SURVEI ने भूमि सर्वेक्षण हेतु ड्रोन छवियों  को मानकीकृत किया भारत-बांग्लादेश संबंध 2022- सात समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए संपादकीय विश्लेषण- 1971 की आत्मा

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *