Home   »   Raja Ram Mohan Roy   »   National Women Legislators Conference

महिला विधायकों का राष्ट्रीय सम्मेलन 2022

महिला विधायकों का राष्ट्रीय सम्मेलन 2022- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: भारतीय संविधान- संसद  एवं राज्य विधानमंडल – संरचना, कार्यकरण, कार्यों का संचालन, शक्तियां एवं विशेषाधिकार तथा इनसे उत्पन्न होने वाले मुद्दे।

महिला विधायकों का राष्ट्रीय सम्मेलन 2022_40.1

 समाचारों में महिला विधायकों का राष्ट्रीय सम्मेलन 2022

  • राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद के द्वारा दो दिवसीय राष्ट्रीय महिला विधायक सम्मेलन-2022 का उद्घाटन करने की संभावना है।

 

महिला  विधायकों के राष्ट्रीय सम्मेलन 2022 के बारे में प्रमुख तथ्य

  • पृष्ठभूमि: सरकार द्वारा 2016 में नई दिल्ली में महिला विधायकों का राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया गया था।
  • मुख्य फोकस क्षेत्र: दो दिवसीय राष्ट्रीय महिला विधायक सम्मेलन में समकालीन प्रासंगिकता के निम्नलिखित विभिन्न विषयों पर चर्चा होगी-
    • महिलाओं के अधिकार,
    • लैंगिक समानता,
    • निर्णय निर्माण निकायों इत्यादि में पर्याप्त महिलाओं का प्रतिनिधित्व।
  • मेजबान राज्य विधानसभा: केरल विधानसभा द्वारा प्रथम बार राष्ट्रीय महिला विधायक सम्मेलन 2022 का आयोजन किया जा रहा है।
  • स्थान: केरल के तिरुवनंतपुरम में विधानमंडल परिसर में राष्ट्रीय महिला विधायक सम्मेलन 2022 का आयोजन किया जा रहा है।
  • भागीदारी: संसद एवं राज्य विधानसभाओं की महिला विधायकों के राष्ट्रीय महिला विधायक सम्मेलन 2022 में भाग लेने की संभावना है।
    • राष्ट्रीय महिला विधायक सम्मेलन 2022 में केंद्रीय मंत्रियों, लोकसभा अध्यक्ष,  लोकसभा के उपाध्यक्ष तथा संसद सदस्यों के भी भाग लेने की संभावना है।
  • महत्व: स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ के अवसर पर ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के हिस्से के रूप में राष्ट्रीय महिला विधायक सम्मेलन 2022 का आयोजन किया जा रहा है।
  • प्रमुख सत्र: राष्ट्रीय महिला विधायक सम्मेलन 2022 में निम्नलिखित विषयों पर सत्र होंगे-
    • “संविधान एवं महिला अधिकार”
    • “भारत के स्वतंत्रता संग्राम में महिलाओं की भूमिका”
    • “महिला अधिकार एवं विधिक अंतराल”
    • “निर्णय निर्माण निकायों में महिलाओं का अल्प प्रतिनिधित्व”

महिला विधायकों का राष्ट्रीय सम्मेलन 2022_50.1

आज़ादी का अमृत महोत्सव (AKAM) के बारे में प्रमुख तथ्य

  • आजादी का अमृत महोत्सव के बारे में: आजादी का अमृत महोत्सव प्रगतिशील भारत के 75 वर्ष एवं इसके लोगों, संस्कृति तथा उपलब्धियों के गौरवशाली इतिहास का उत्सव मनाने एवं स्मरण करने की एक पहल है।
    • आजादी का अमृत महोत्सव भारत की सामाजिक-सांस्कृतिक, राजनीतिक  एवं आर्थिक पहचान के बारे में जो भी प्रगतिशील है, उसका मूर्त रूप है।
  • भारत के लोगों का उत्सव मनाना: आजादी का अमृत महोत्सव भारत के उन लोगों को समर्पित है, जिन्होंने भारत को उसकी विकास यात्रा में इस स्थान तक लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
    • भारत के लोग भी आत्मनिर्भर भारत की भावना से प्रेरित होकर भारत 2.0 को सक्रिय करने के प्रधान मंत्री के दृष्टिकोण को सक्षम करने की शक्ति एवं क्षमता रखते हैं।
  • आजादी के अमृत महोत्सव का प्रारंभ: “आजादी का अमृत महोत्सव” की आधिकारिक यात्रा 12 मार्च 2021 को आरंभ हुई, जो हमारी आजादी की 75वीं वर्षगांठ के लिए 75-सप्ताह की उलटी गिनती को प्रारंभ करती है।
  • श्रेणीबद्ध करें: आजादी का अमृत महोत्सव को पांच श्रेणियों में मनाए जाने की कल्पना की गई है-
    • फ्रीडम स्ट्रगल/स्वतंत्रता संग्राम,
    • आइडिया @ 75,
    • अचीवमेंट @ 75,
    • एक्शन @ 75 एवं
    • रिसॉल्व @75

 

वैज्ञानिक सामाजिक उत्तरदायित्व दिशा निर्देश 2022 स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 एसबीएम (शहरी) 2.0 के अंतर्गत प्रारंभ किया गया संपादकीय विश्लेषण- भारत के लिए रूस से सबक ब्रिक्स संस्कृति मंत्रियों की 7वीं बैठक
अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) मॉनिटर रिपोर्ट का 9वां संस्करण निवेश प्रोत्साहन समझौता डब्ल्यूएचओ महानिदेशक का ग्लोबल हेल्थ लीडर्स अवार्ड संपादकीय विश्लेषण: भारत में एक हार्वर्ड शाखा, संभावनाएं एवं चुनौतियां
जैविक अनुसंधान नियामक अनुमोदन पोर्टल पीएम युवा योजना- पात्रता, मुख्य विशेषताएं तथा महत्व विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) | भारत डब्ल्यूईएफ 2022 में भाग लेगा भारत को वित्त वर्ष 2021-22 में सर्वाधिक एफडीआई प्रवाह प्राप्त हुआ

Sharing is caring!