Home   »   National Income and Related Aggregates   »   एमओएसपीआई ने 2021-22 के लिए पहला...

एमओएसपीआई ने 2021-22 के लिए पहला अग्रिम अनुमान जारी किया

2021-22 के लिए प्रथम अग्रिम अनुमान: प्रासंगिकता

  • जीएस 3: भारतीय अर्थव्यवस्था एवं नियोजन, संसाधन, वृद्धि, विकास एवं रोजगार से संबंधित मुद्दे।

एमओएसपीआई ने 2021-22 के लिए पहला अग्रिम अनुमान जारी किया_40.1

2021-22 के लिए प्रथम अग्रिम अनुमान: प्रसंग

  • हाल ही में, सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय (एमओएसपीआई) ने वित्त वर्ष 22 हेतु प्रथम अग्रिम अनुमान (एफएई) जारी किया है, जिसके अनुसार 2021-22 में भारत की जीडीपी  में 9.2% की वृद्धि होगी।
  • भारत में जीडीपी विकास दर में पहली तिमाही में 20% की वृद्धि हुई इसके बारे में पढ़ें।  

 

2021-22 के लिए प्रथम अग्रिम अनुमान: मुख्य बिंदु

  • जीडीपी, विगत वित्तीय वर्ष में वित्त वर्ष 21 में कोविड-19- प्रेरित लॉकडाउन से प्रभावित था एवं इस प्रकार अर्थव्यवस्था में 3% का संकुचन देखा गया।
  • जबकि वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 2 प्रतिशत होने का अनुमान है, 2021-22 के लिए सकल घरेलू उत्पाद नाममात्र के संदर्भ में 17.6 प्रतिशत रहने का अनुमान है।
    • नाममात्र सकल घरेलू उत्पाद = वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद + मुद्रास्फीति।
  • चालू वित्त वर्ष के लिए एनएसओ का अनुमान दिसंबर 2021 की नीति समीक्षा में आरबीआई के जीडीपी अनुमान से कम है, जहां उसने पूर्वानुमान लगाया था कि अर्थव्यवस्था में 5% की वृद्धि होगी।
  • सकारात्मक दृष्टिकोण के लिए कारण: कृषि, खनन एवं विनिर्माण क्षेत्र के उत्पादन में वृद्धि।
  • यद्यपि, बढ़ते ओमिक्रोन मामलों में विभिन्न अर्थशास्त्रियों द्वारा इस वर्ष के लिए विकास अनुमानों में कमी देखी जा सकती है।

 

अग्रिम अनुमान का विश्लेषण

  • निरपेक्ष सकल घरेलू उत्पाद एवं सकल मूल्य वर्धित (जीवीए) 2019-20 के कोविड-पूर्व वर्ष की संख्या से बेहतर होगा।
  • सरकारी व्यय एवं निवेश दोनों ही कोविड- पूर्व वर्ष या 2019-20 के स्तर से अधिक होने की संभावना है।
  • उपभोग की मांग, जो कि सकल घरेलू उत्पाद का 55% गठित करता है, के कोविड-पूर्व वर्ष (2019-20) के स्तर से नीचे रहने का अनुमान है।
  • सरकार के अंतिम उपभोग व्यय में भी वित्त वर्ष 2011 की तुलना में 6 प्रतिशत की वृद्धि एवं वित्त वर्ष 2010 की तुलना में 10.7 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है।
  • ग्रॉस फिक्स्ड कैपिटल फॉर्मेशन (जीएफसीएफ): जीएफसीएफ में भी 2020-21 की तुलना में  वित्तीय वर्ष 22 में 9 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है एवं यह 2019-20 के महामारी- वर्ष की तुलना में 2.6 प्रतिशत अधिक है।
  • एक औसत भारतीय की स्थिति: यद्यपि सकल घरेलू उत्पाद एवं जीवीए संख्या में सुधार दिख रहा है, एक औसत भारतीय की स्थिति चिंताजनक है। प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद (औसत आय के लिए एक प्रॉक्सी) एवं प्रति व्यक्ति निजी अंतिम उपभोग व्यय (औसत खर्च के लिए एक प्रॉक्सी) दोनों में कमी आई है।
  • मुद्रास्फीति की भूमिका: इस वित्तीय वर्ष में नाममात्र सकल घरेलू उत्पाद एवं वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद के मध्य का अंतर हमारी अर्थव्यवस्था में मुद्रास्फीति की भूमिका को प्रदर्शित करता है।

 

 

2021-22 के लिए प्रथम अग्रिम अनुमान: विभिन्न क्षेत्रों में वृद्धि

  • विगत वित्त वर्ष में 6 प्रतिशत की वृद्धि के मुकाबले वित्त वर्ष 22 में कृषि 3.9 प्रतिशत की दर से वृद्धि कर रही है, जबकि विनिर्माण क्षेत्र 12.5 प्रतिशत की दर से वृद्धि कर रहा है, जबकि विगत वित्त वर्ष में यह 7.2 प्रतिशत था।
  • विद्युत उत्पादन विगत वर्ष के 9 प्रतिशत की तुलना में 8.5 प्रतिशत बढ़ने का अनुमान है।
  • व्यापार, होटल एवं परिवहन सेवाओं जैसी सेवाओं के आधार प्रभाव के कारण – 2020-21 में 9 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज करने का अनुमान है, जब यह 18.2 प्रतिशत तक तेजी से संकुचित हुआ था। यद्यपि, पूर्ण रूप से, यह सेवा खंड अभी भी महामारी-पूर्व के स्तर से नीचे होने का अनुमान है।

एमओएसपीआई ने 2021-22 के लिए पहला अग्रिम अनुमान जारी किया_50.1

प्रथम अग्रिम अनुमानों का महत्व (एफएई)

  • एफएई को प्रथम बार 2016-17 में प्रारंभ किया गया था एवं इसे जनवरी के पहले सप्ताह के अंत में प्रकाशित किया जाता है।
  • वेप्रथमआधिकारिक अनुमान हैं कि उस वित्तीय वर्ष में जीडीपी के किस प्रकार बढ़ने की संभावना है।
  • एफएई की प्रमुख विशेषता इस तथ्य में निहित है कि वे सकल घरेलू उत्पाद का अनुमान है जिसका उपयोग केंद्रीय वित्त मंत्रालय आगामी वित्तीय वर्ष के बजट आवंटन को निर्धारित करने हेतु करता है।

 

मूल अधिकार: मूल अधिकारों की सूची, राज्य की परिभाषा (अनुच्छेद 12) एवं  न्यायिक समीक्षा (अनुच्छेद 13) 2030 तक एशिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा भारत प्रवासी भारतीय दिवस 2022- ऐतिहासिक पृष्ठभूमि, विशेषताएं एवं महत्व आपदा प्रबंधन: भारत में विधायी एवं संस्थागत ढांचा
लक्ष्य ओलंपिक मंच/ टारगेट ओलंपिक पोडियम (टॉप) योजना कैबिनेट ने ग्रीन एनर्जी कॉरिडोर फेज-2 को स्वीकृति प्रदान की राष्ट्रीय जल पुरस्कार- जल शक्ति मंत्रालय द्वारा तृतीय राष्ट्रीय जल पुरस्कार घोषित पारस्परिक अधिगम समझौता
आपदा प्रबंधन: संयुक्त राष्ट्र आपदा जोखिम न्यूनीकरण संपादकीय विश्लेषण- तम्बाकू उद्योग के मुख्य वृत्तांत का शमन एनटीसीए की 19वीं बैठक: आगामी 5 वर्षों में 50 चीता प्रवेशित किए जाएंगे उपभोक्ता इंटरनेट ऑफ थिंग्स की सुरक्षा हेतु कार्यप्रणाली की आचार संहिता

Sharing is caring!