Home   »   UNSC Meeting on Russia- Ukraine Tension   »   Russia-Ukraine Conflict

मिन्स्क समझौते तथा रूस-यूक्रेन संघर्ष

रूस-यूक्रेन संघर्ष- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: अंतर्राष्ट्रीय संबंध- भारत के हितों पर विकसित और विकासशील देशों की नीतियों  एवं राजनीति का प्रभाव।

मिन्स्क समझौते तथा रूस-यूक्रेन संघर्ष_30.1

मिन्स्क समझौते  एवं रूस-यूक्रेन संघर्ष-संदर्भ

  • अमेरिकी अधिकारियों ने रूस को यूक्रेन पर आक्रमण नहीं करने की चेतावनी दी एवं दोनों देशों से पूर्वी यूक्रेन में रूसी प्रवक्ताओं द्वारा अलगाववादी युद्ध को समाप्त करने के लिए डिज़ाइन किए गए मिन्स्क समझौतों पर लौटने का आग्रह किया।
  • रूस-यूक्रेन संकट को समाप्त करने  हेतु मिन्स्क समझौतों पर 2014 एवं 2015 में मिन्स्क में हस्ताक्षर किए गए थे।

 

रूस-यूक्रेन संघर्ष- मिन्स्क I समझौता

  • मिन्स्क I समझौता के बारे में: यूक्रेन एवं रूस समर्थित अलगाववादियों ने सितंबर 2014 में बेलारूस की राजधानी मिन्स्क में 12-सूत्रीय संघर्ष विराम समझौते पर सहमति व्यक्त की।
  • मुख्य प्रावधान: यूक्रेन संघर्ष में पांच माह में 2,600 से अधिक लोग मारे गए थे जिसके पश्चात मिन्स्क II समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे। कुछ प्रमुख प्रावधान नीचे सूचीबद्ध हैं-
    • कैदी आदान-प्रदान,
    • मानवीय सहायता का वितरण  एवं
    • भारी हथियारों को वापस लिया जाना
  • परिणाम: मिन्स्क I समझौता लंबे समय तक नहीं चला क्योंकि दोनों पक्षों ने समझौते के विभिन्न प्रावधानों का उल्लंघन किया।

मिन्स्क समझौते तथा रूस-यूक्रेन संघर्ष_40.1

मिन्स्क समझौते तथा रूस-यूक्रेन संघर्ष- मिन्स्क II समझौते

  • मिन्स्क II समझौता के बारे में: मिन्स्क II समझौता 2015 में हस्ताक्षरित एक 13 सूत्री समझौता है।
  • सम्मिलित पक्ष: रूस, यूक्रेन, ऑर्गेनाइजेशन फॉर सिक्योरिटी एंड कोऑपरेशन इन यूरोप (ओएससीई) के प्रतिनिधियों तथा दो रूसी समर्थक अलगाववादी क्षेत्रों के नेताओं के मध्य हस्ताक्षर किए गए थे।
    • उसी समय मिन्स्क में एकत्र हुए फ्रांस, जर्मनी, रूस एवं यूक्रेन के नेताओं ने समझौते हेतु समर्थन की घोषणा जारी की।
  • प्रमुख प्रावधान: यह सैन्य एवं राजनीतिक कदमों को निर्धारित करता है जो लागू नहीं हुए। एक बड़ा अवरोध रूस का आग्रह रहा है कि वह संघर्ष का पक्षकार नहीं है एवं इसलिए उसकी शर्तों से बाध्य नहीं है। संक्षेप में 13 बिंदु नीचे सूचीबद्ध किए गए हैं-
    • एक तत्काल एवं व्यापक युद्ध विराम।
    • दोनों पक्षों द्वारा सभी भारी हथियारों को वापस प्लीज आ जाना।
    • ओएससीई द्वारा अनुश्रवण एवं सत्यापन।
    • यूक्रेनी कानून के अनुसार डोनेट्स्क एवं लुहान्स्क क्षेत्रों के लिए अंतरिम स्वशासन पर वार्ता प्रारंभ करने हेतु तथा संसदीय प्रस्ताव द्वारा उनकी विशेष स्थिति को स्वीकार करना।
    • संघर्ष में सम्मिलित लोगों के लिए क्षमा तथा सामूहिक क्षमादान।
    • बंधकों एवं कैदियों का आदान-प्रदान।
    • मानवीय सहायता का प्रावधान।
    • पेंशन सहित सामाजिक-आर्थिक संबंधों की पुनर्स्थापना।
    • यूक्रेन की सरकार द्वारा राज्य की सीमा पर पूर्ण नियंत्रण की बहाली।
    • सभी विदेशी सशस्त्र संरचनाओं, सैन्य उपकरणों एवं भाड़े के सैनिकों की वापसी।
    • डोनेट्स्क एवं लुहान्स्क के विशिष्ट उल्लेख के साथ विकेंद्रीकरण सहित यूक्रेन में संवैधानिक सुधार।
    • डोनेट्स्क एवं लुहान्स्क में उनके प्रतिनिधियों के साथ सहमत होने की शर्तों पर निर्वाचन।
    • रूस, यूक्रेन एवं ओएससीई के प्रतिनिधियों वाले त्रिपक्षीय संपर्क समूह के कार्य को गहन करना।

 

पर्पल रिवॉल्यूशन एवं अरोमा मिशन राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान (रूसा) राष्ट्रीय सामुद्रिक सुरक्षा समन्वयक भारत में मृदा के प्रकार भाग -3
राष्ट्रीय वयोश्री योजना (आरवीवाई) डीएनटी के आर्थिक सशक्तिकरण के लिए योजना (सीड) ‘लाभार्थियों से रूबरू’ पहल | आजादी का अमृत महोत्सव संपादकीय विश्लेषण- एक ग्रहीय समायोजन
मृदा के प्रकार भाग -2 मौलिक अधिकार (अनुच्छेद 12-32) | धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार (अनुच्छेद 25-28) फिनटेक ओपन हैकाथॉन टेरी का विश्व सतत विकास शिखर सम्मेलन (डब्ल्यूएसडीएस)

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *