Home   »   India Achieves Highest Ever Export, Crosses...   »   संपादकीय विश्लेषण: हर्टेनिंग माइलस्टोन

संपादकीय विश्लेषण: हर्टेनिंग माइलस्टोन

भारत से निर्यात यूपीएससी: प्रासंगिकता

  • जीएस 3: भारतीय अर्थव्यवस्था एवं आयोजना, संसाधनों का अभिनियोजन, वृद्धि, विकास एवं रोजगार से संबंधित मुद्दे।

संपादकीय विश्लेषण: हर्टेनिंग माइलस्टोन_30.1

भारत में निर्यात क्षेत्र: संदर्भ

  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के हाल ही में जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत का निर्यात पहली बार एक वित्तीय वर्ष में 400 बिलियन अमरीकी डालर को पार कर गया।

 

हर्षित करने वाला मील का पत्थर: संपादकीय का स्वर

  • यह लेख इस महामारी से प्रेरित अर्थव्यवस्था में समाचारों द्वारा लाई गई राहत के बारे में बात करता है। साथ ही,  यह लेख उन चुनौतियों के बारे में बात करता है जिनसे निपटने की आवश्यकता है, ताकि वैश्विक व्यापार में हमारी स्थिति को और मजबूत किया जा सके।

 

निर्यात 400 बिलियन डॉलर: उल्लेखनीय उपलब्धि

  • यह देखते हुए कि अर्थव्यवस्था अभी भी कोविड-19 महामारी के भीषण प्रभाव से उबरने के लिए संघर्ष कर रही है, रिकॉर्ड व्यापारिक निर्यात अत्यंत आवश्यक उत्साह लाता है।
  • यह प्रशंसनीय है कि इंजीनियरिंग वस्तुएं एवं परिधान तथा वस्त्रों के प्रमुख मूल्य वर्धित क्षेत्रों ने इस वर्ष अच्छा प्रदर्शन किया है।
  • वाणिज्य मंत्रालय के अनंतिम आंकड़ों से ज्ञात होता है कि इंजीनियरिंग वस्तुएं, विशेष रूप से, लगभग 50% साल-दर-साल वृद्धि दर्ज की गई है, जबकि तैयार कपड़ों में अप्रैल-फरवरी की अवधि में 30% की वृद्धि देखी गई है।
  • महत्वपूर्ण रूप से, पेट्रोलियम उत्पाद असाधारण प्रदर्शनकर्ता थे क्योंकि तेल की कीमतों में वैश्विक उछाल ने वित्त वर्ष के प्रथम 11 महीनों में भारत की  तेल शोधन शालाओं (रिफाइनरियों) में उत्पादित वस्तुओं के विदेशी शिपमेंट के डॉलर मूल्य में 150 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की।
  • यह तथ्य कि, निर्यात वृद्धि कंटेनरों की कमी तथा बंदरगाह की भीड़ सहित निरंतर सम्भारिकी (रसद) चुनौतियों की पृष्ठभूमि के विरुद्ध हासिल की गई है, जिसने माल ढुलाई दरों को बढ़ा दिया है, प्रशंसनीय है  एवं उद्योग तथा देश के विदेशी मिशनों के समन्वय में सरकार द्वारा किए गए ठोस प्रयास को दर्शाता है।
  • भारतीय उत्पादों के लिए नवीन अवसरों की खोज में, भारत के दूतावासों  एवं राजदूतों द्वारा निभाई गई भूमिका को विशेष उल्लेख की आवश्यकता है तथा यदि आने वाले वर्षों में निर्यात में वर्तमान गति को बनाए रखना है, तो राजनयिक समूह  को व्यापार संवर्धन में अपनी भूमिका को बढ़ाने की आवश्यकता होगी।

संपादकीय विश्लेषण: हर्टेनिंग माइलस्टोन_40.1

निर्यात क्षेत्र की चुनौतियां 

यद्यपि, घरेलू उद्योगों के सामने आने वाली समक्ष उपस्थित होने वाली चुनौतियों की अभिस्वीकृति के बाद प्रोत्साहन भी होनी चाहिए।

  • इस वर्ष आयात ने निर्यात को पीछे छोड़ दिया है, अप्रैल-फरवरी की अवधि में व्यापार घाटा लगभग दोगुना होकर 175 बिलियन डॉलर से अधिक हो गया है। यह अंतर महामारी-पूर्व वर्ष 2019-2020 से भी अधिक है।
  • जबकि कमोडिटी की कीमतों में वैश्विक मुद्रास्फीति ने निर्यात एवं आयात दोनों के मूल्य को बढ़ाने में योगदान दिया, यह तथ्य कि प्रोजेक्ट गुड्स, मंत्रालय द्वारा सूचीबद्ध 30 व्यापक श्रेणियों में से, जो 11 माह की अवधि में अनुबंधित आयात की एकमात्र वस्तु थे,यह भी चिंता का एक कारण है।
  • नई परियोजनाओं के लिए पूंजीगत वस्तुओं की विदेशी खरीद की कमी एक स्पष्ट संकेतक है कि निजी भारतीय व्यवसाय अभी भी व्यक्तिगत उपभोग में गति की कमी को देखते हुए नए निवेश करने के प्रति संदेहशील हैं।
  • यूक्रेन में युद्ध तथा रूस पर प्रतिबंध अब न केवल इन देशों में बल्कि यूरोप के अन्य बाजारों में भी माल भेजने के इच्छुक निर्यातकों के लिए नई समस्याएं खड़ी कर रहे हैं

 

भारत से निर्यात: आगे की राह

  • नीति निर्माताओं को स्थानापन्न (स्टॉपगैप) उपायों से परे जाना चाहिए जैसे कि रुपया-रूबल व्यापार को सक्षम करना तथा मुक्त व्यापार समझौतों के बेड़े पर जारी वार्ता में तेजी लाना ताकि कम से कम कुछ  प्रशुल्क बाधाओं को कम करने में सहायता मिल सके।

 

नीति आयोग ने निर्यात तत्परता सूचकांक 2021 जारी किया भारत में राष्ट्रीय जलमार्गों की सूची अंतर्राष्ट्रीय चुनाव आगंतुक कार्यक्रम 2022 भारत के राष्ट्रपति | राष्ट्रपति के प्रमुख कार्य एवं शक्तियां
भारत के राष्ट्रपति (अनुच्छेद 52-62): भारत के राष्ट्रपति के संवैधानिक प्रावधान, योग्यता एवं निर्वाचन  संपादकीय विश्लेषण- सील्ड जस्टिस कार्बन तटस्थ कृषि पद्धतियां गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस (जीईएम) | GeM पोर्टल अधिप्राप्ति में INR 1 लाख करोड़ रुपए तक पहुंचा 
विश्व वायु गुणवत्ता रिपोर्ट 2021 पारद पर मिनामाता अभिसमय  सीयूईटी 2022: UG प्रवेश के लिए सामान्य परीक्षा संयुक्त राष्ट्र विश्व जल विकास रिपोर्ट 2022

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *