Home   »   C295 MW Transport Aircraft: A Watershed...   »   Homi Jehangir Bhabha

होमी जहांगीर भाभा: भारत में परमाणु कार्यक्रम के जनक

चर्चा में क्यों हैं?

30 अक्टूबर को डॉ. होमी जे. भाभा की जयंती थी।

होमी जहांगीर भाभा: भारत में परमाणु कार्यक्रम के जनक_3.1

होमी जहांगीर भाभा: होमी जहांगीर भाभा कौन हैं?

  • होमी जहांगीर भाभा (30 अक्टूबर, 1909 – 24 जनवरी, 1966) का जन्म बॉम्बे के एक समृद्ध पारसी परिवार में हुआ था।
  • भाभा के परिवार में शिक्षा के क्षेत्र में सीखने  तथा सेवा करने की एक लंबी परंपरा रही है।
  • होमी जहांगीर भाभा को अधिकांशतः भारत के परमाणु कार्यक्रम के मुख्य वास्तुकार के रूप में जाना जाता है।
  • यद्यपि, भारत के विकास में उनका योगदान परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र से कहीं अधिक आगे तक जाता है।
  • उन्होंने टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (TIFR) एवं परमाणु ऊर्जा प्रतिष्ठान, ट्रॉम्बे (जिसे भाभा की मृत्यु के पश्चात भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र (भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर/BARC) के रूप में नाम दिया गया था) नामक दो महान अनुसंधान संस्थानों की स्थापना की थी।

 

कौन हैं होमी जहांगीर भाभा ?: प्रमुख कार्य

  • उन्होंने भारत में इलेक्ट्रॉनिक्स के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
  • भाभा एक उत्कृष्ट वैज्ञानिक एवं एक शानदार अभियंता थे।
  • उन्होंने इलेक्ट्रॉनों द्वारा पॉज़िट्रॉन के प्रकीर्णन की संभाव्यता के लिए एक सही अभिव्यक्ति प्राप्त की, एक प्रक्रिया जिसे अब भाभा प्रकीर्णन के रूप में जाना जाता है।
  • 1937 में प्रकाशित डब्ल्यू. हेइटलर के साथ संयुक्त रूप से उनके उत्कृष्ट शोध पत्र (क्लासिक पेपर) ने वर्णन किया कि कैसे अंतरिक्ष से प्राथमिक ब्रह्मांडीय किरणें ऊपरी वायुमंडल के साथ अंतः क्रिया करके जमीनी स्तर पर देखे गए कणों का उत्पादन करती हैं।
  • भाभा एवं डब्ल्यू. हेइटलर ने गामा किरणों के सोपानी उत्पादन और धनात्मक एवं ऋणात्मक इलेक्ट्रॉन युग्मों द्वारा ब्रह्मांडीय किरण बौछार के निर्माण की व्याख्या की।
  • 1938 में भाभा ने प्रथम बार यह निष्कर्ष निकाला था कि ऐसे कणों के गुणों के अवलोकन से अल्बर्ट आइंस्टीन के सापेक्षता के सिद्धांत का सीधा प्रायोगिक सत्यापन होगा।
  • भाभा के पास उच्चतम कोटि के संवेदनशील तथा प्रशिक्षित कलात्मक उपहार थे। जिस वातावरण में उनका पालन-पोषण हुआ, उसने निश्चित रूप से इन सभी उत्तम गुणों को विकसित करने में उनकी सहायता की।

 

होमी जहांगीर भाभा: भाभा द्वारा किए गए महत्वपूर्ण योगदान

  • सापेक्षवादी विनिमय प्रकीर्णन अथवा रिलेटिविस्टिक एक्सचेंज स्कैटरिंग (भाभा स्कैटरिंग) की व्याख्या।
  • ब्रह्मांडीय किरणों में इलेक्ट्रॉन एवं पॉज़िट्रॉन वर्षण के उत्पादन का सिद्धांत (भाभा-हेइटलर सिद्धांत)।
  • युकावा कण के बारे में हनुमान जिससे संबंधित मेसन नाम का उनका सुझाव था।
  • मेसन के क्षय में सापेक्षतावादी समय विस्फारण प्रभावों की भविष्यवाणी।
भाभा के शोध कार्य के महत्व के बारे में सेसिल फ्रैंक पॉवेल (1903-1969) जिन्हें भौतिकी के लिए 1950 के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था, ने लिखा:होमी भाभा ने हमारी समझ में निर्णायक योगदान दिया कि वे (वर्षण) विद्युत चुम्बकीय प्रक्रियाओं के संदर्भ में कैसे विकसित हुए। वह इस समय उन प्राथमिक कणों को ध्यान में रखने के अपने प्रयासों के लिए भी जाने जाते थे, जिन्हें तब समूह सिद्धांत (ग्रुप थ्योरी) का उपयोग करके एक विधि द्वारा अस्तित्व में जाना जाता था। इस प्रकार वह गेल-मान एवं अन्य द्वारा इसी तरह के उद्देश्य के लिए अनेक वर्षों बाद उपयोग की जाने वाली उन विधियों के अत्यंत आरंभिक प्रतिपादक थे। मेरे मित्र, लियोपोल्ड इन्फेल्ड का कहना है कि वह एक प्रतिष्ठित एवं सुरुचिपूर्ण सिद्धांतकार थे  तथा उनके शोध पत्र सदैव पूर्ण रूप से स्वीकार्य रूप में लिखे गए थे।
  • भाभा ने ही ‘मेसन’ नाम का सुझाव दिया था जो अब प्राथमिक कणों के एक वर्ग के लिए उपयोग किया जाता है। जब कार्ल डेविड एंडरसन (1905-91) ने ब्रह्मांडीय विकिरण में इलेक्ट्रॉन एवं प्रोटॉन के द्रव्यमान के साथ एक नए कण की खोज की, तो उन्होंने इसे ‘मेसोटोन’ नाम दिया, जिसे बाद में मिलिकन के परामर्श पर उनके द्वारा मेसोट्रॉन में बदल दिया गया। भाभा ने अपनी रचना ‘ए शॉर्ट नोट टू नेचर’ में (फरवरी 1939) ‘मेसन’ नाम का प्रस्ताव दिया।

 

होमी जहांगीर भाभा: एक बहुआयामी व्यक्तित्व

  • उन्हें संगीत एवं नृत्य में रुचि थी। उन्हें भारतीय एवं पश्चिमी संगीत दोनों का अत्यधिक ज्ञान था।
  • उन्होंने चित्रांकन एवं स्केच भी किया। उन्होंने नाटकीय प्रस्तुतियों का एक समूह तैयार किया। वह बिना किसी क्षमता के एक वास्तुकार थे। भाभा एक पूर्णतावादी थे।
  • वह वृक्षों के एक वास्तविक प्रेमी थे तथा उन्होंने अपनी क्षमता के तहत उनकी रक्षा के लिए सब कुछ किया।

 

होमी जहांगीर भाभा: एक शिक्षाविद, वैज्ञानिक एवं संस्कृतिविद्

  • एक के बाद एक यूनेस्को सम्मेलन में, वह भारतीय प्रतिनिधिमंडल के अन्य विशिष्ट सदस्यों के मध्य भी  विशिष्ट दिखते थे, एक विश्व नागरिक के रूप में जो तीनों विषयों – शिक्षा, विज्ञान तथा संस्कृति में योग्य  थे – सम्मेलन का संभवतः ही कोई अन्य सदस्य था।
  • वह वास्तव में संगठन के नेतृत्व के लिए एक स्पष्ट विकल्प थे यदि वह उस तरह से प्रवृत्त अनुभव करते थे।

 

होमी जहांगीर भाभा: भारत में परमाणु कार्यक्रम के जनक

  • डॉ. होमी जहांगीर भाभा ने भारत में परमाणु कार्यक्रम की परिकल्पना की थी। डॉ. भाभा ने 1945 में परमाणु विज्ञान अनुसंधान करने के लिए टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (TIFR) की स्थापना की।
  • राष्ट्र के कल्याण के लिए परमाणु ऊर्जा के दोहन के प्रयास को और गहन करने के लिए, डॉ. भाभा ने जनवरी 1954 में भारत के महत्वाकांक्षी परमाणु कार्यक्रम के लिए आवश्यक एक बहु-विषयक अनुसंधान कार्यक्रम के लिए परमाणु ऊर्जा प्रतिष्ठान, ट्रॉम्बे (एटॉमिक एनर्जी एस्टेब्लिशमेंट, ट्रॉम्बे AEET) की स्थापना की।
  • 1966 में भाभा के दुखद निधन के बाद, AEET का नाम बदलकर भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र (BARC) कर दिया गया।
  • डॉ. भाभा ने परमाणु ऊर्जा अनुसंधान एवं विकास कार्यक्रम के विस्तार की कार्यबल की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए बीएआरसी प्रशिक्षण स्कूल की स्थापना की।
भाभा के अपने शब्दों मेंजब परमाणु ऊर्जा को ऊर्जा उत्पादन के लिए सफलतापूर्वक अनुप्रयुक्त किया गया है, तो अब से कुछ दशकों के बाद, भारत को अपने विशेषज्ञों के लिए विदेशों में नहीं देखना होगा, किंतु उन्हें  पास में तैयार करना होगा
  • डॉ. भाभा ने परमाणु विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के सभी क्षेत्रों में आत्मनिर्भरता पर बल दिया।
  • BARC अनुसंधान एवं विकास संस्थानों जैसे इंदिरा गांधी परमाणु अनुसंधान केंद्र (इंदिरा गांधी सेंटर फॉर एटॉमिक रिसर्च/IGCAR), राजा रमन्ना सेंटर फॉर एडवांस्ड टेक्नोलॉजी (RRCAT), वेरिएबल एनर्जी साइक्लोट्रॉन सेंटर (VECC) इत्यादि की जननी है, जो अग्रणी कार्य का संपादन करते हैं।

 

होमी जहांगीर भाभा : भाभा ने भारत के परमाणु कार्यक्रम को सुदृढ़ बनाने के लिए क्या आवश्यक समझा?

भारत के परमाणु कार्यक्रम को सुदृढ़ बनाने के लिए भाभा ने जिन पहली तीन चीजों को आवश्यक समझा, वे थीं:

  • प्राकृतिक संसाधनों का सर्वेक्षण, विशेष रूप से परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम के लिए रुचि की सामग्री जैसे यूरेनियम, थोरियम, बेरिलियम, ग्रेफाइट इत्यादि। इसे प्राप्त करने के लिए एक विशेष इकाई दाराशॉ नौशेरवान वाडिया (1883-1969) की मदद से दिल्ली में दुर्लभ खनिज प्रभाग बनाया गया था।
  • उच्च गुणवत्ता वाले अनुसंधान वैज्ञानिकों को सुविधाएं प्रदान करके तथा उन्हें प्रशिक्षण देकर आधारिक विज्ञान विशेष रूप से भौतिकी, रसायन विज्ञान एवं जीव विज्ञान में मजबूत अनुसंधान स्कूलों का विकास।
  • विशेष रूप से इलेक्ट्रॉनिक्स में यंत्र विन्यास (इंस्ट्रूमेंटेशन) के लिए एक कार्यक्रम का विकास।  टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च में इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादन एकक नामक एक इकाई प्रारंभ की गई थी, जिसने बाद में हैदराबाद में इलेक्ट्रॉनिक्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (ECIL) के नाम से जाने जाने वाले बड़े निगम का केंद्र बनाया।

 

होमी जहांगीर भाभा: प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय मान्यता

  • 1941 में भाभा को रॉयल सोसाइटी का फेलो चुना गया।
  • 1943 में उन्हें कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी द्वारा कॉस्मिक किरणों पर उनके शोध कार्य के लिए एडम्स पुरस्कार  एवं 1948 में कैम्ब्रिज फिलोसॉफिकल सोसाइटी के हॉपकिंस पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • 1963 में उन्हें यूएस नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज का विदेशी सहयोगी तथा न्यूयॉर्क एकेडमी ऑफ साइंसेज का मानद आजीवन सदस्य चुना गया।
  • 1964 में उन्हें रॉयल एकेडमी ऑफ साइंसेज, मैड्रिड का विदेशी तत्स्थानी अकादमिक सदस्य बनाया गया।
  • 1960 से 1963 तक वह इंटरनेशनल यूनियन ऑफ प्योर एंड एप्लाइड फिजिक्स के अध्यक्ष थे।
  • वे अगस्त, 1955 में जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र के तत्वावधान में आयोजित परमाणु ऊर्जा के शांतिपूर्ण उपयोग के ऐतिहासिक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन के अध्यक्ष थे।
  • भाभा 1963 में भारत के राष्ट्रीय विज्ञान संस्थान के अध्यक्ष एवं 1951 में भारतीय विज्ञान कांग्रेस एसोसिएशन के अध्यक्ष थे। 1954 में उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण की उपाधि से सम्मानित किया गया।

 

संपादकीय विश्लेषण: यूनाइटेड अगेंस्ट टेररिज्म रक्षा उपकरणों में एम-चिप्स सूरसंहारम 2022 सी-295 मालवाहक विमान निर्माण केंद्र- निजी क्षेत्र में देश का प्रथम
यूपीएससी प्रीलिम्स बिट्स: 31 अक्टूबर, 2022 सी 295 एमडब्ल्यू मालवाहक विमान: एक ऐतिहासिक क्षण! सीआरएआर क्या है: एक बैंक को सीआरआर बनाए रखने की आवश्यकता क्यों है? भारत-अफ्रीका रक्षा सहयोग
पराली जलाने पर सीएक्यूएम बैठक जी-20 स्वास्थ्य मंत्रियों की बैठक 2022 ब्लू फ्लैग सर्टिफिकेशन भारतीय रिजर्व बैंक मुद्रास्फीति पर विशेष एमपीसी बैठक आयोजित करेगा

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *