UPSC Exam   »   वैश्विक साइबर सुरक्षा दृष्टिकोण 2022

वैश्विक साइबर सुरक्षा दृष्टिकोण 2022

वैश्विक साइबर सुरक्षा दृष्टिकोण 2022: प्रासंगिकता

  • जीएस 3: सूचना प्रौद्योगिकी, अंतरिक्ष, कंप्यूटर, रोबोटिक्स, नैनो-प्रौद्योगिकी, जैव-प्रौद्योगिकी और बौद्धिक संपदा अधिकारों से संबंधित मुद्दों के क्षेत्र में जागरूकता।

वैश्विक साइबर सुरक्षा दृष्टिकोण 2022_40.1

वैश्विक साइबर सुरक्षा दृष्टिकोण 2022: प्रसंग

  • हाल ही में, वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम ने साइबर सुरक्षा पर अपनी प्रथम रिपोर्ट जारी की है एवं साइबर सुरक्षा से साइबर प्रतिस्थितित्व में किस प्रकार स्थानांतरित किया जाए, इस पर निष्कर्ष प्रस्तुत किया है।

 

वैश्विक साइबर सुरक्षा दृष्टिकोण 2022: मुख्य बिंदु

  • रिपोर्ट में इस बात पर प्रकाश डाला गया है कि कोविड-19 महामारी के दौरान डिजिटलाइजेशन में दस गुना की वृद्धि हो गई है।
  • विश्व बैंक का अनुमान है कि, 2022 तक, वार्षिक कुल इंटरनेट यातायात 2020 के स्तर से लगभग 50% बढ़ जाएगा
  • महामारी ने हमें यह भी दिखाया है कि सभी व्यवसाय कितने अंतर्संबंधित हुए हैं एवं किस प्रकार बढ़े हुए डिजिटलीकरण ने वैश्विक आबादी को साइबर खतरों एवं हमलों के एक नए प्रक्षेपवक्र पर धकेल दिया है।

 

वैश्विक साइबर सुरक्षा दृष्टिकोण 2022: साइबर प्रतिस्थितित्व में कमियों को दूर करना

  • व्यावसायिक निर्णयों में साइबर को प्राथमिकता देना: सर्वेक्षण में सम्मिलित 92% व्यावसायिक अधिशासी इस बात से सहमत हैं कि साइबर प्रतिस्थितित्व उद्यम जोखिम प्रबंधन रणनीतियों में एकीकृत है, सर्वेक्षण में मात्र 55% सुरक्षा-केंद्रित अधिशासी इस कथन से सहमत हैं।
  • साइबर सुरक्षा के लिए नेतृत्व का सहयोग प्राप्त करना: 84% उत्तरदाताओं का कहना है कि नेतृत्व के सहयोग एवं दिशा के साथ साइबर प्रतिस्थितित्व को उनके संगठन में एक व्यावसायिक प्राथमिकता माना जाता है, किंतु एक छोटी संख्या (68%) साइबर प्रतिस्थितित्व को अपने समग्र जोखिम प्रबंधन के एक प्रमुख हिस्से के रूप में देखता है।
  • साइबर सुरक्षा प्रतिभा की भर्ती एवं अनुरक्षण: सर्वेक्षण में पाया गया कि सभी उत्तरदाताओं में से 59 प्रतिशत को अपनी टीम के भीतर कौशल की कमी के कारण साइबर सुरक्षा घटना का प्रत्युत्तर देना चुनौतीपूर्ण होगा।

 

वैश्विक साइबर सुरक्षा दृष्टिकोण 2022: प्रमुख साइबर सुरक्षा हमले

  • रैंसमवेयर: 80% उत्तरदाताओं ने बलपूर्वक कहा कि रैंसमवेयर सार्वजनिक सुरक्षा के लिए एक खतरनाक एवं बढ़ता हुआ खतरा है।
  • सोशल इंजीनियरिंग हमले: रैंसमवेयर हमले आवृत्ति तथा परिष्करण में बढ़ रहे हैं  एवं  इसके बाद सोशल इंजीनियरिंग हमले साइबर नेतृत्वकर्ताओं के लिए दूसरी सर्वाधिक वृहद चिंता का विषय हैं।
  • दुर्भावनापूर्ण आंतरिक गतिविधि: एक दुर्भावनापूर्ण आंतरिक सूत्र एक संगठन के वर्तमान या पूर्व कर्मचारियों,  संविदाकारों (ठेकेदारों) अथवा विश्वसनीय व्यावसायिक भागीदारों में से एक है जो महत्वपूर्ण परिसंपत्तियों तक अपनी अधिकृत पहुंच का दुरुपयोग इस प्रकार से करता है जो संगठन को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है।

वैश्विक साइबर सुरक्षा दृष्टिकोण 2022_50.1

वैश्विक साइबर सुरक्षा दृष्टिकोण 2022: लघु एवं मध्यम व्यवसायों का साइबर प्रतिस्थितित्व

  • स्वचालन (ऑटोमेशन) एवं यांत्रिक अधिगम (मशीन लर्निंग) सदृश तकनीकी विकास हमलावरों एवं रक्षकों के मध्य  पूर्व से उपस्थित असंतुलन में और वृद्धि करेंगे।
  • साइबर सुरक्षा एक अलग तकनीक नहीं है, बल्कि चौथी औद्योगिक क्रांति में प्रौद्योगिकी, व्यक्तियों एवं प्रक्रियाओं में विस्तृत प्रणालियों की प्राथमिकता है।
  • साइबर सुरक्षा से साइबर प्रतिस्थितित्व की ओर जारी परिवर्तन एक अधिक विश्वसनीय एवं सतत भविष्य की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

 

भारत-मॉरीशस संबंध महासागरीय धाराएँ: गर्म और ठंडी धाराओं की सूची-1 न्यूज़ ऑन एयर रेडियो लाइव-स्ट्रीम वैश्विक रैंकिंग भारत में पक्षी अभ्यारण्यों की सूची
संपादकीय विश्लेषण- नरसंहार की रोकथाम आरबीआई ने कृषि को धारणीय बनाने हेतु हरित क्रांति 2.0 की वकालत की स्टार्टअप इंडिया इनोवेशन वीक |राष्ट्रीय स्टार्ट-अप दिवस जिसे प्रत्येक वर्ष मनाया जाना है  इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) | आईपीपीबी के उद्देश्य, विशेषताएं एवं प्रदर्शन
इनिक्वालिटी किल्स: ऑक्सफैम की एक रिपोर्ट भारत में विभिन्न मुद्रास्फीति सूचकांक 6 जी हेतु प्रौद्योगिकी नवाचार समूह संपादकीय विश्लेषण: जस्ट व्हाट द  डॉक्टर ऑर्डर्ड फॉर द लाइवस्टोक फार्मर 

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.
Was this page helpful?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *