Home   »   WHO Report on AMR Vaccines   »   Fungi: Next Possible Microbe Threat To...

कवक: मनुष्यों के लिए अगला संभावित सूक्ष्म जीव खतरा!

कवक के बारे में

  • कवक 5 जगत वर्गीकरण में श्रेणियों में से एक है।
  • अन्य 4 प्रोटिस्ट (एकल-कोशिका वाले यूकेरियोट्स), पौधे; पशु तथा प्रोकैरियोट्स (मोनेरा) हैं।

कवक: मनुष्यों के लिए अगला संभावित सूक्ष्म जीव खतरा! -_3.1

 चर्चा में क्यों है?

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन/डब्ल्यूएचओ) ने हाल ही में प्रकाशित अपनी रिपोर्ट में 19 कवकों पर प्रकाश डाला जो सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़े खतरे का प्रतिनिधित्व करते हैं।
  • सूची को कवक प्राथमिकता रोगजनक सूची (फंगल प्रायोरिटी पैथोजन्स/एफपीपीएल) के रूप में जाना जाता है।

 

एफपीपीएल क्या है?

  • कवक प्राथमिकता रोगज़नक़ों की सूची (FPPL) अधूरे अनुसंधान एवं विकास (रिसर्च एंड डेवलपमेंट/R&D) की आवश्यकताओं तथा कथित सार्वजनिक स्वास्थ्य महत्व को देखते हुए, कवक रोगजनकों को व्यवस्थित रूप से प्राथमिकता देने का प्रथम वैश्विक प्रयास है।

 

एक कवक क्या है?

  • कवक यूकेरियोटिक कोशिकाओं से युक्त बहुकोशिकीय जीव हैं।
  • कवक की 100,000 से अधिक किस्में हैं।
  • उनके पास गतिशीलता के लिए कोई तंत्र नहीं है।
  • कवक अवशोषण द्वारा पोषक तत्व प्राप्त करते हैं एवं आकार में सूक्ष्म से लेकर मशरूम जैसे बड़े तक होते हैं।
  • वे आमतौर पर मृत जीवों के रासायनिक विघटन के साथ-साथ पशुओं एवं पौधों के अपशिष्ट उत्पादों से अपनी ऊर्जा प्राप्त करके जैव अपघटक (डीकंपोजर) के रूप में कार्य करते हैं।
  • कवक 5 जगत वर्गीकरण में श्रेणियों में से एक है। अन्य 4 प्रोटिस्टा (एकल-कोशिका वाले यूकेरियोट्स), पौधे; पशु एवं प्रोकैरियोट्स (मोनेरा) हैं।
  • सूक्ष्मजीवों के प्रमुख समूह जो मनुष्यों में रोग उत्पन्न करते हैं, वे विषाणु, प्रोसंक (प्रोटीन संक्रमण), जीवाणु, कवक, प्रोटोजोआ एवं हेलमिन्थ्स (कृमि) हैं।

 

कवक कैसे एक खतरा है?

  • डब्ल्यूएचओ के अनुसार, कवक रोगजनक सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए एक बड़ा खतरा हैं क्योंकि वे तेजी से सामान्य तथा उपचार के प्रति प्रतिरोधी होते जा रहे हैं।
  • वर्तमान में, नैदानिक ​​अभ्यास में प्रणालीगत कवकरोधी दवाओं (एजोल्स, इचिनोकैन्डिन्स, पाइरीमिडीन एवं पॉलीनेस) के केवल चार वर्गों का उपयोग किया जाता है तथा मात्र कुछ अन्य विकास के अधीन हैं।
  • हालांकि मौजूदा कवकरोधी दवाएं प्रभावी हैं, किंतु वे प्रतिकूल प्रभावों की अधिकता से जुड़ी हैं।
  • अधिकांश कवक रोगजनकों में तीव्र एवं संवेदनशील निदान का अभाव होता है तथा जो मौजूद हैं वे विश्व स्तर पर व्यापक रूप से उपलब्ध या सस्ती नहीं हैं।

 

कवक में वृद्धि के कारण क्या हैं?

  • वैश्विक तापन एवं अंतरराष्ट्रीय यात्रा तथा व्यापार में वृद्धि के कारण, संपूर्ण विश्व में कवक जनित रोगों की घटनाओं तथा भौगोलिक सीमाओं का विस्तार हो रहा है। कोविड-19 महामारी के दौरान, अस्पताल में भर्ती मरीजों में आक्रामक कवक संक्रमण की घटनाओं में अत्यधिक वृद्धि हुई है।
  • चूंकि कवक जो आम संक्रमण (जैसे कैंडिडा मुखीय एवं योनि संक्रमण) का कारण बनते हैं, उपचार के लिए तेजी से प्रतिरोधी हो जाते हैं, सामान्य आबादी में संक्रमण के अधिक आक्रामक रूपों के विकास के जोखिम भी बढ़ रहे हैं।
  • कवक रोधी दवाओं का प्रतिरोध आंशिक रूप से वन हेल्थ स्पेक्ट्रम में अनुचित कवक रोधी उपयोग द्वारा संचालित होता है। उदाहरण के लिए, कृषि में  कवक रोधी के अविवेकपूर्ण उपयोग को एज़ोल-प्रतिरोधी एस्परगिलस फ्यूमिगेटस संक्रमण की बढ़ती दरों से जोड़ा गया था।
  • बढ़ती चिंता के बावजूद, कवक संक्रमणों पर बहुत कम ध्यान दिया जाता है एवं संसाधन प्राप्त होते हैं, जिससे कवक रोग वितरण तथा कवक रोधी प्रतिरोध पैटर्न पर गुणवत्ता युक्त डाटा की कमी हो जाती है।
  • परिणाम स्वरूप, कवक रोगों एवं कवक रोधी प्रतिरोध का सटीक भार अज्ञात है तथा इसलिए प्रतिक्रिया कम हो जाती है।

 

आक्रामक कवक रोग क्या हैं?

  • इन कवक संक्रमणों के आक्रामक रूप  प्रायः गंभीर रूप से बीमार रोगियों तथा महत्वपूर्ण अंतर्निहित प्रतिरक्षा प्रणाली से संबंधित स्थितियों वाले लोगों को प्रभावित करते हैं।
  •  आक्रामक कवक रोग (इनवेसिव फंगल रोग/आईएफडी) के मामले बढ़ रहे हैं क्योंकि जोखिम वाली आबादी का विस्तार जारी है।
  • यह अनेक कारकों के कारण है, जिसमें आधुनिक चिकित्सा में प्रगति एवं उपचारों तथा अंतःक्षेपों तक पहुंच शामिल है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को विकृत करते हैं, जैसे कि कीमोथेरेपी एवं कैंसर के लिए इम्यूनोथेरेपी,  तथा ठोस अंग प्रत्यारोपण।

 

तीन प्राथमिकता श्रेणियां

  • डब्ल्यूएचओ एफपीपीएल सूची को तीन श्रेणियों: गंभीर, उच्च एवं मध्यम प्राथमिकता में बांटा गया है।
  • प्रत्येक प्राथमिकता श्रेणी में कवक रोगजनकों को मुख्य रूप से उनके सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रभाव एवं/या  उदीयमान कवक रोधी प्रतिरोध जोखिम के कारण क्रमबद्ध किया जाता है।
  • विश्व स्तर पर इन महत्वपूर्ण रोगजनकों को सार्वजनिक स्वास्थ्य चिंता के रूप में अभिनिर्धारित करते हुए, डब्ल्यूएचओ इस बात पर बल देता है कि एफपीपीएल की व्याख्या तथा संदर्भीकृत सावधानी से किया जाना चाहिए, क्योंकि कुछ स्थानिक रोगजनक अपने संबंधित क्षेत्रीय या स्थानीय संदर्भों में अधिक चिंता का विषय हो सकते हैं।

गंभीर श्रेणी 

क्रिप्टोकोकस नियोफ़ॉर्मन्स: क्रिप्टोकोकस नियोफ़ॉर्मन्स एक विश्व स्तर पर वितरित रोगजनक खमीर है जो पर्यावरण (मिट्टी, क्षयमान लकड़ी) में रहता है। पर्यावरण से कवक कोशिकाओं के अंतर्ग्रहण के बाद, सी. नियोफ़ॉर्मन्स मनुष्यों को संक्रमित कर सकते हैं।

कैंडिडा ऑरिस: यह एक विश्व स्तर पर वितरित रोगजनक खमीर है जो रक्त (कैंडिडेमिया), हृदय, केंद्रीय तंत्रिका तंत्र, आंखों, अस्थियों एवं आंतरिक अंगों के आक्रामक कैंडिडिआसिस का कारण बन सकता है। आक्रामक कैंडिडिआसिस एक गंभीर अस्पतालीय (नोसोकोमियल) संक्रमण है जो विशेष रूप से गंभीर रूप से रोग ग्रस्त एवं प्रतिरक्षा विहीन रोगियों, जैसे कि कैंसर या अस्थि मज्जा एवं अंग प्रत्यारोपण रोगियों को प्रभावित करता है।

एस्परगिलस फ्यूमिगेटस: यह एक सर्वव्यापी पर्यावरणीय फफूंद है जो मनुष्यों को संक्रमित कर सकता है तथा एस्परगिलोसिस का कारण बन सकता है। यह पर्यावरण से अंतर्ग्रहण करता है, मुख्य रूप से फुफ्फुसीय रोग का कारण बनता है,  किंतु मस्तिष्क जैसे अन्य अंगों में फैल सकता है। एस्परगिलोसिस संक्रमण के व्यापक स्पेक्ट्रम के लिए प्रयोग किया जाने वाला शब्द है जो एलर्जी की प्रतिक्रिया, निवह भवन एवं अर्ध-आक्रामक रोगों से लेकर तीव्र आक्रामक एस्परगिलोसिस तक होता है।

कैंडिडा अल्बिकन्स: यह विश्व स्तर पर वितरित एक रोगजनक खमीर है। यह मानव सूक्ष्मजीव जात (मुंह, गला, आंत, योनि एवं त्वचा) का एक सामान्य सदस्य है  तथा स्वस्थ परिस्थितियों में कोई नुकसान नहीं पहुंचाता है। यद्यपि, यह इन झिल्लियों (म्यूकोसा) में गुणित हो सकता है अथवा अन्य ऊतकों पर आक्रमण कर सकता है, जिससे रोग  उत्पन्न हो सकता है। म्यूकोसा में, यह ऑरोफरीन्जियल कैंडिडिआसिस, ऑसोफेगल कैंडिडिआसिस, वल्वोवागिनल कैंडिडिआसिस तथा त्वचीय कैंडिडिआसिस जैसे रोग उत्पन्न करता है।

 

आगे की राह

  • एफपीपीएल रिपोर्ट नीति निर्माताओं, सार्वजनिक स्वास्थ्य पेशेवरों एवं अन्य हितधारकों के लिए रणनीतियों को रेखांकित करती है। रिपोर्ट में प्रस्तावित रणनीतियों का उद्देश्य सामूहिक रूप से साक्ष्य उत्पन्न करना  तथा इन कवक प्राथमिकता वाले रोगजनकों की प्रतिक्रिया में सुधार करना है, जिसमें कवक रोधी दवा प्रतिरोध के विकास को रोकना भी शामिल है।
  • जिन प्राथमिक अनुशंसित कार्यों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है: (1) प्रयोगशाला क्षमता एवं निगरानी को  सुदृढ़ करना; (2) अनुसंधान, विकास एवं नवाचार में निवेश को बनाए रखना; तथा (3) रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य अंतःक्षेपों को वर्धित करना।

 

यूपीएससी के लिए हिंदू संपादकीय विश्लेषण: सह-विनियमन के माध्यम से सामग्री मॉडरेशन 27वां यूएन-कॉन्फ्रेंस ऑफ पार्टीज (यूएन-सीओपी): लोगों और ग्रह के लिए सेवा प्रदान करना विक्रम-एस: भारत का निजी तौर पर विकसित प्रथम रॉकेट एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में आईसीसी क्रिकेट विश्व कप विजेताओं की सूची वर्षवार
संपादकीय विश्लेषण- भारत की जी-20 की अध्यक्षता एवं खाद्य सुरक्षा गुरु नानक जयंती 2022 यूएनएफसीसीसी कॉप 27 सम्मेलन 2022- कॉप 27 के लिए भारत का एजेंडा काला सागर अनाज पहल- रूस द्वारा भागीदारी पुनर्प्रारंभ
मलेरिया के टीके के लिए नई आशा फाल्कन हेवी रॉकेट- एलोन मस्क के स्वामित्व वाले स्पेसएक्स द्वारा प्रक्षेपित बाल विवाह: समाप्त करने की भारत की योजना ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (जीआरएपी)

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *