Home   »   New hope for Malaria Vaccine   »   New hope for Malaria Vaccine

मलेरिया के टीके के लिए नई आशा

मलेरिया के टीके के लिए नई आशा

यूपीएससी के लिए प्रासंगिकता: जीएस पेपर 3- विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी-दैनिक जीवन में विकास उठ एवं उनके अनुप्रयोग  तथा प्रभाव

मलेरिया के टीके के लिए नई आशा -_3.1

मलेरिया के टीके के लिए नई आशा: चर्चा में क्यों है

विश्व स्वास्थ्य संगठन (वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन/डब्ल्यूएचओ) ने हाल ही में ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन द्वारा मलेरिया के  प्रति बच्चों के टीकाकरण के लिए विकसित आरटीएस, एस/एएस01 (मॉस्क्यूरिक्स) को अपनी स्वीकृति प्रदान की है, जो दशकों की क्रमिक प्रगति के बाद एक बड़ा मील का पत्थर था।

मलेरिया रोग क्या है?

मलेरिया एक मच्छर जनित संक्रामक रोग है जो मनुष्यों एवं अन्य पशुओं को प्रभावित करता है। यह मादा एनोफिलीज मच्छर के काटने से होता है यदि मच्छर स्वयं मलेरिया परजीवी से संक्रमित होता है।

मलेरिया परजीवी पांच प्रकार के होते हैं, जिनमें से प्लाज्मोडियम फाल्सीपेरम (भारत में मलेरिया के 70% मामलों के लिए परजीवी जिम्मेदार है) तथा प्लाज्मोडियम वाइवैक्स (विश्व स्तर पर, सबसे आम) सर्वाधिक प्रमुख हैं।

मलेरिया के टीके के लिए नई आशा: वैक्सीन विकसित करने की आवश्यकता

  • डब्ल्यूएचओ की विश्व मलेरिया रिपोर्ट 2021 के अनुसार –
    • विश्व स्तर पर, 85 मलेरिया-स्थानिक देशों में 2020 में अनुमानित 241 मिलियन मलेरिया के मामले थे।
    • वैश्विक स्तर पर मलेरिया के 1.7% मामलों एवं 1.2% मौतों में भारत का योगदान है।
    • इस वृद्धि का अधिकांश हिस्सा डब्ल्यूएचओ अफ्रीका क्षेत्र के देशों से आया, जिसमें 95% मामले थे।
    • 2019 की तुलना में 2020 में वैश्विक स्तर पर मलेरिया से होने वाली मौतों में 12% की वृद्धि हुई, जिनमें से अधिकांश पांच वर्ष से कम आयु बच्चे हैं।
  • परजीवी के अत्यधिक जटिल जीवन चक्र को देखते हुए जो सुरक्षात्मक प्रतिरक्षा से संबंधित है, कठिन रहा है।

मलेरिया के टीके के लिए नई आशा: RTS, S/AS01 (Mosquirix) वैक्सीन के बारे में

  • इसे आरटीएस नाम दिया गया है क्योंकि इसे हेपेटाइटिस बी विषाणु (एचबीएसएजी) के वायरल सतह एंटीजन (‘एस’) के साथ प्लाज्मोडियम फाल्सीपेरम मलेरिया परजीवी के प्रोटीन के जीन (रिपीट (‘आर’) न्यू टी- कोशिका) का उपयोग करके अभियंत्रित किया गया था।
  • शुद्धिकरण में सुधार के लिए इस प्रोटीन को अतिरिक्त HBsAg के साथ मिलाया गया, इसलिए अतिरिक्त “S”।
  • प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया  के अभिवर्धन हेतु, प्रोटीन-आधारित सभी पुनः संयोजक टीके एक मजबूत सहायक (टीके को बेहतर रूप में कार्य करने में सहायता करते हैं) पर बहुत अधिक निर्भर करते हैं। RTS, S को ग्लैक्सो स्मिथ क्लाइन में विकसित AS01 नामक एक सहवर्धी के साथ तैयार किया गया है।

मलेरिया के टीके के लिए नई आशा: भारत की स्थिति

यद्यपि भारत में, बुनियादी मलेरिया अनुसंधान मजबूत रहा है, मलेरिया या इन्फ्लूएंजा जैसे रोगों के लिए सुरक्षित  एवं वैज्ञानिक रूप से मजबूत नियंत्रण मानव संक्रमण मॉडल की स्थापना में एक महत्वपूर्ण अंतर है।

  • एक अत्यधिक सफल एवं समर्पित वैक्सीन-उत्पादक बायोफार्मा उद्योग के साथ, भारत को वैक्सीन विकास  तथा उत्पादन में विश्व का नेतृत्व करने में सक्षम होना चाहिए।
  • संक्रामक रोगों के विरुद्ध नए टीकों के विकास में वैज्ञानिकों की सहायता के लिए, दीर्घकालिक निरंतर वित्त पोषण एवं नियामक तथा रसद प्रक्रियाओं को बेहतर समन्वयित किया जाना चाहिए।

 

फाल्कन हेवी रॉकेट- एलोन मस्क के स्वामित्व वाले स्पेसएक्स द्वारा प्रक्षेपित बाल विवाह: समाप्त करने की भारत की योजना ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (जीआरएपी) आईसीसी टी20 विश्व कप विजेताओं की सूची- वर्षवार
एयर डिफेंस-1: बैलिस्टिक मिसाइल रक्षा इंटरसेप्टर बाइडू उपग्रह नौवहन प्रणाली: जीपीएस का चीनी संस्करण अनुच्छेद 142 के तहत सर्वोच्च न्यायालय के क्या  क्षेत्राधिकार हैं? द वर्ल्ड नेटवर्क ऑफ बायोस्फीयर रिजर्व्स (WNBR)
एक राष्ट्र, एकल आयकर विवरणी फॉर्म: सीबीडीटी सभी के लिए एकल आईटीआर फॉर्म प्रस्तावित करता है! अंतरराष्ट्रीय संबंधों में सर्पिल प्रतिमान: रूस-नाटो स्पाइरल! PRAGeD मिशन: सीडीएफडी द्वारा एक पहल भारतीय विनिर्माण क्रय प्रबंधक सूचकांक (इंडियाज मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स/पीएमआई)

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *