Home   »   India's stand on Russia-Ukraine Conflict Explained   »   Spiral Model in International Relations

अंतरराष्ट्रीय संबंधों में सर्पिल प्रतिमान: रूस-नाटो स्पाइरल!

अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में सर्पिल प्रतिमानके बारे में

  • अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में सर्पिल मॉडल तब उपस्थित होता है जब पार्टियां एक-दूसरे के साथ समान शत्रुता के साथ व्यवहार करती हैं, जिससे मौजूदा संघर्ष तेजी से बढ़ता है। उदाहरण के लिए: क्यूबा मिसाइल संकट एवं वर्तमान यूक्रेन युद्ध।
  • जैसा कि मौजूदा संघर्ष के रूस-नाटो के मध्य प्रत्यक्ष युद्ध में बढ़ने की आशंकाओं के अतिरिक्त, क्यूबा मिसाइल संकट एवं यूक्रेन युद्ध के मध्य समानताएं एवं असमानताएं हैं।,

अंतरराष्ट्रीय संबंधों में सर्पिल प्रतिमान: रूस-नाटो स्पाइरल!_30.1

अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में सर्पिल मॉडल”: यूक्रेन युद्ध को सर्पिल मॉडल क्यों कहा जाता है?

  • यूक्रेन युद्ध का वर्तमान चरण एक पाठ्यपुस्तक (टेक्स्ट बुक) उदाहरण है जिसे अंतर्राष्ट्रीय संबंध के सिद्धांतकार एक सर्पिल मॉडल कहते हैं, जहां दोनों पक्ष एक-दूसरे के साथ समान शत्रुता के साथ व्यवहार करती हैं, मौजूदा संघर्ष को तेजी से बढ़ाती हैं।
  • भले ही दोनों पक्षों में परमाणु युद्ध की कोई इच्छा न हो, सर्पिल विस्तार (एस्केलेटरी स्पाइरल) खतरनाक हो सकते हैं, जिन्हें यदि अनियंत्रित छोड़ दिया जाए, तो वे अपने स्वाभाविक अंत तक पहुंच सकते हैं।
  • फिर भी, वार्ता हेतु स्थितियां बनाने के लिए कोई सचेत कूटनीतिक प्रयास उपलब्ध नहीं है।

 

अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में सर्पिल मॉडल”: रूस एवं अमेरिका के मध्य कोई सचेत राजनयिक प्रयास क्यों नहीं हैं?

अमेरिका का मानक दृष्टिकोण

  • संघर्षों को देखने का एक तरीका उनके बारे में एक नैतिक, मानकीय दृष्टिकोण रखना है।
  • श्री पुतिन के बारे में अमेरिका में मुख्यधारा का कथानक इस दृष्टिकोण से मेल खाता है- वह आक्रामक है, जिसने यूक्रेन पर हमला करके तथा उसके क्षेत्रों पर कब्जा करके अंतरराष्ट्रीय कानूनों एवं मानदंडों का उल्लंघन किया है तथा इसलिए, वाशिंगटन क्रेमलिन के साथ वार्ता नहीं करेगा।

अमेरिका के पास स्वयं कोई नैतिक गुण नहीं है

  • यह निर्देशात्मक निरपेक्षता अमेरिकी विदेश नीति के अतीत एवं वर्तमान के अनुरूप नहीं है।
  • यू.एस. ने स्वयं विदेश में अपने हस्तक्षेप में कई बार संयुक्त राष्ट्र के मानदंडों का उल्लंघन किया है  तथा सीरिया के गोलान हाइट्स के अपने सहयोगी इजराइल के अवैध कब्जे को पहचानने अथवा विवादित यरुशलम को मान्यता प्रदान करने कोई नैतिक योग्यता नहीं थी, जिसमें से आधे को अवैध रूप से इजरायल द्वारा अपनी राजधानी के रूप में कब्जा कर लिया गया था।

अमेरिका का अवसरवादी दृष्टिकोण 

  • अमेरिका की ओर से उचित कूटनीतिक प्रयास न करने का एक अधिक यथार्थवादी कारण यह है कि वाशिंगटन यूक्रेन युद्ध में यूक्रेन को हथियार देना जारी रखने के द्वारा रूस को कमजोर करने का एक अवसर देखता है।
  • इस कथानक के अनुसार, यूक्रेन में रूसी विफलता के राजनीतिक परिणाम हो सकते हैं, जिसमें श्री पुतिन की सत्ता पर पकड़ के लिए चुनौतियां भी शामिल हैं। अतः, सैन्य विस्तार पसंद की नीति बन जाती है।

रूस अमेरिका को यूक्रेन के पीछे प्रमुख शक्ति के रूप में देखता है

  • दूसरी ओर, रूस, युद्ध प्रारंभ होने से पूर्व तथा युद्ध के बाद में, यू.एस. को यूक्रेन के पीछे मुख्य शक्ति के रूप में  दिखता है।
  • यूक्रेन में विफलता के रूप में सुरक्षा  तथा राजनीतिक दोनों परिणाम होंगे, श्री पुतिन समझौता करने का जोखिम नहीं उठा सकते।
  • सैन्य विस्तार उनके लिए भी आगे की राह बन जाती है। यह एक खतरनाक झुकाव है।

 

अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में सर्पिल मॉडल”: सर्पिल को कैसे तोड़ा जाए?

  • जब तक नेता सर्पिल नहीं तोड़ते, संघर्ष और बदतर होता रहेगा, जैसा कि यूक्रेन की आधारिक संरचना पर रूस के हालिया हमलों तथा क्रीमिया के सेवस्तोपोल में यूक्रेनी ड्रोन हमले में स्पष्ट था।
  • सर्पिल को तोड़ने के लिए, पक्षों को पहले संघर्ष के अपने व्यक्तिगत दृष्टिकोण से परे देखना होगा एवं उन संरचनात्मक स्थितियों को समझने का प्रयत्न करना होगा जिनसे उनके प्रतिद्वंद्वी संचालित होते हैं।
  • यह नेताओं को उनके नैतिक पदों (जिसे यथार्थवादी, रणनीतिक सहानुभूति कहते हैं) के बावजूद अपने प्रतिद्वंद्वियों के साथ सहानुभूति रखने एवं शांति स्थापित करने हेतु कठिन निर्णय लेने की अनुमति देगा।

 

अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में सर्पिल मॉडल”: निष्कर्ष

कैनेडी (तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति) एवं ख्रुश्चेव (तत्कालीन यूएसएसआर राष्ट्रपति) ने दोनों नेताओं की स्थिति को समझने के लिए रणनीतिक सहानुभूति दिखाई थी तथा वे कठिन विकल्पों का चयन कर सकते थे। किंतु श्री पुतिन  एवं श्री बिडेन एक दूसरे पर दोषारोपण कर रहे हैं एवं  सैन्य बलों के माध्यम से आँख बंद करके अपने लक्ष्य का पीछा कर रहे हैं, जबकि यूक्रेन में सैन्य संघर्ष जारी है। वे जितना शीघ्र इससे बाहर आ जाएं, विश्व के लिए उतना ही अच्छा है।

 

PRAGeD मिशन: सीडीएफडी द्वारा एक पहल भारतीय विनिर्माण क्रय प्रबंधक सूचकांक (इंडियाज मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स/पीएमआई) एसपीसीबी: वायु प्रदूषण की लड़ाई में सबसे कमजोर कड़ी! लोक लेखा समिति (पीएसी) संक्षिप्त इतिहास, भूमिका एवं कार्य
चुनाव आयोग द्वारा चुनाव की सत्यनिष्ठा पर समूह सरदार वल्लभ भाई पटेल- देश मना रहा है राष्ट्रीय एकता दिवस सिंधु घाटी सभ्यता में प्रमुख स्थलों एवं खोज की सूची सिंधु घाटी सभ्यता (इंडस वैली सिविलाइजेशन/IVC)
यूपीएससी प्रीलिम्स बिट्स: 01 नवंबर, 2022 संपादकीय विश्लेषण- सीक्वेंस ऑफ इंप्लीमेंटेशन, ईडब्ल्यूएस कोटा आउटकम्स  फीफा का फुटबॉल फॉर स्कूल्स (Football4Schools/F4S) पहल होमी जहांगीर भाभा: भारत में परमाणु कार्यक्रम के जनक

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *