UPSC Exam   »   Intellectual Property Rights in India: Types of Intellectual Property Rights   »   ट्रिप्स समझौता एवं संबंधित मुद्दे

ट्रिप्स समझौता एवं संबंधित मुद्दे

ट्रिप्स समझौता

अपने पिछले लेख में, हमने बौद्धिक संपदा अधिकारों की मूल बातें तथा बौद्धिक संपदा अधिकारों के प्रकारों पर चर्चा की है। इस लेख में, हम ट्रिप्स समझौते यूपीएससी एवं ट्रिप्स से निकट संबंधित मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

ट्रिप्स समझौता एवं संबंधित मुद्दे_40.1

ट्रिप्स समझौता क्या है?

  • बौद्धिक संपदा अधिकारों (ट्रिप्स) के व्यापार-संबंधित पहलुओं पर डब्ल्यूटीओ समझौता बौद्धिक संपदा (आईपी) पर सर्वाधिक व्यापक बहुपक्षीय समझौता है।
  • यह सुरक्षा एवं प्रवर्तन के न्यूनतम मानक स्थापित करता है जो प्रत्येक सरकार को साथी विश्व व्यापार संगठन के सदस्यों के नागरिकों द्वारा धारित बौद्धिक संपदा को प्रदान करना होता है।
  • विश्व व्यापार संगठन ट्रिप्स पर 1986-94 के उरुग्वे दौर के दौरान वार्ता हुई थी एवं इसने पहली बार बहुपक्षीय व्यापार प्रणाली में बौद्धिक संपदा नियमों को प्रारंभ किया है।
  • ट्रिप्स समझौता 1 जनवरी 1995 को प्रवर्तन में आया।

 

ट्रिप्स समझौते के उद्देश्य

  • यह ज्ञान एवं रचनात्मकता में व्यापार को सुविधाजनक बनाने, बौद्धिक संपदा से संबंधित व्यापारिक विवादों को हल करने एवं विश्व व्यापार संगठन के सदस्यों को अपने घरेलू नीति उद्देश्यों को प्राप्त करने हेतु छूट सुनिश्चित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • विश्व व्यापार संगठन का ट्रिप्स समझौता संपूर्ण विश्व में इन अधिकारों को संरक्षित एवं प्रवर्तित करने के तरीके में अंतराल को कम करने एवं उन्हें सामान्य अंतरराष्ट्रीय नियमों के अंतर्गत लाने हेतु एक प्रयास है।

 

ट्रिप्स समझौता 1994: व्यापक क्षेत्र

  • बहुपक्षीय व्यापार प्रणाली के सामान्य प्रावधान एवं मूलभूत सिद्धांत अंतरराष्ट्रीय बौद्धिक संपदा पर किस प्रकार लागू होते हैं
  • बौद्धिक संपदा अधिकारों के लिए सुरक्षा के न्यूनतम मानक क्या हैं जिन्हें सदस्यों को प्रदान करने चाहिए
  • सदस्यों को अपने क्षेत्रों में उन अधिकारों को प्रवर्तित कराने हेतु कौन सी प्रक्रिया उपलब्ध करानी चाहिए
  • विश्व व्यापार संगठन के सदस्यों के मध्य बौद्धिक संपदा पर विवादों का निपटारा कैसे करें
  • ट्रिप्स प्रावधानों के कार्यान्वयन के लिए विशेष संक्रमण कालीन व्यवस्था।

 

ट्रिप्स समझौते के प्रावधान

  • ट्रिप्स समझौते में सामान्य प्रावधान एवं मूलभूत सिद्धांत, जैसे कि राष्ट्रीय तथा सर्वाधिक अधिमानी-राष्ट्र व्यवहार, साथ ही अधिकारों की समाप्ति सम्मिलित हैं।
  • ट्रिप्स समझौता निम्नलिखित को भी सम्मिलित करता है: कॉपीराइट एवं संबंधित अधिकार; ट्रेडमार्क; भौगोलिक संकेतक; औद्योगिक डिजाइन; पेटेंट, पौधों की नई किस्मों के संरक्षण सहित; एकीकृत परिपथों के अभिन्यास-डिजाइन; तथा अघोषित जानकारी, जिसमें व्यापार  से संबंधित रहस्य एवं परीक्षण डेटा शामिल हैं।

 

ट्रिप्स समझौता विश्व व्यापार संगठन: तीन मुख्य विशेषताएं

  • मानक: ट्रिप्स समझौते द्वारा सम्मिलित किए गए बौद्धिक संपदा के प्रत्येक मुख्य क्षेत्र के संबंध में, समझौता प्रत्येक सदस्य द्वारा प्रदान की जाने वाली सुरक्षा के न्यूनतम मानकों को निर्धारित करता है।
  • प्रवर्तन: प्रावधानों का दूसरा मुख्य समुच्चय बौद्धिक संपदा अधिकारों के प्रवर्तन के लिए घरेलू प्रक्रियाओं एवं उपायों से संबंधित है। समझौता समस्त बौद्धिक संपदा अधिकार (आईपीआर) प्रवर्तन प्रक्रियाओं पर लागू होने वाले कुछ सामान्य सिद्धांतों को निर्धारित करता है।
  • विवाद निपटान: समझौता ट्रिप्स दायित्वों के सम्मान के बारे में विश्व व्यापार संगठन के सदस्यों के मध्य विवाद को डब्ल्यूटीओ की विवाद निपटान प्रक्रियाओं के अधीन बनाता है।

 

ट्रिप्स समझौता एवं संबंधित मुद्दे_50.1

 प्रायः पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न. ट्रिप्स समझौता किसके द्वारा प्रशासित किया जाता है?

उत्तर. विश्व व्यापार संगठन

 

प्रश्न. ट्रिप्स एग्रीमेंट का पूर्ण रूप (फुल फॉर्म) क्या है?

उत्तर. बौद्धिक संपदा अधिकारों के व्यापार संबंधी पहलू (ट्रेड रिलेटेड एस्पेक्ट्स ऑफ इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स/ट्रिप्स)।

 

प्रश्न. मुझे ट्रिप्स एग्रीमेंट पीडीएफ कहां  से प्राप्त हो सकता है।

उत्तर. इसे शीघ्र ही इस पेज पर अपलोड कर दिया जाएगा।

राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) भारतीय पूंजीगत वस्तु क्षेत्र में प्रतिस्पर्धात्मकता में वृद्धि करने की योजना- चरण- II आर्थिक सर्वेक्षण एवं मुख्य आर्थिक सलाहकार | आर्थिक सर्वेक्षण एवं मुख्य आर्थिक सलाहकार के बारे में, भूमिकाएं तथा उत्तरदायित्व संपादकीय विश्लेषण: टू द पोल बूथ,  विदाउट नो डोनर नॉलेज
स्पॉट-बिल पेलिकन 2021-22 असामान्य रूप से ठंडा एवं वृष्टि बहुल शीतकालीन वर्ष है जायद फसलें: ग्रीष्मकालीन अभियान 2021-22 के लिए कृषि पर राष्ट्रीय सम्मेलन भारत-इजरायल संबंध | कृषि क्षेत्र में भारत-इजरायल सहयोग
वन्य वनस्पतियों एवं जीवों की संकटग्रस्त प्रजातियों में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर अभिसमय (सीआईटीईएस) राष्ट्रीय मतदाता दिवस- इतिहास, विषयवस्तु एवं महत्व भारत में पीपीपी मॉडल राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण (नालसा)

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.