Home   »   Convention on International Trade in Endangered...   »   Spot-billed Pelican

स्पॉट-बिल पेलिकन

स्पॉट-बिल पेलिकन- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 3: पर्यावरण- संरक्षण, पर्यावरण प्रदूषण एवं क्षरण।

स्पॉट-बिल पेलिकन_30.1

स्पॉट-बिल पेलिकन- प्रसंग

  • हाल ही में, एक सूत्रकृमि (नेमाटोड) संक्रमण ने तेलिनेलपुरम महत्वपूर्ण पक्षी क्षेत्र (आईबीए) में स्पॉट-बिल पेलिकन (पेलिकंस फिलिपेंसिस) की सामूहिक मृत्यु दर का कारण बना है।
    • तेलिनेलपुरम महत्वपूर्ण पक्षी क्षेत्र (आईबीए) आंध्र प्रदेश में श्रीकाकुलम जिले के नौपाड़ा दलदल में अवस्थित है।
  • वन अधिकारियों के अनुसार, दिसंबर से अब तक 150 से अधिक स्पॉट-बिल पेलिकन की मृत्यु संक्रमण के कारण हुई है।

भारत में पक्षी अभ्यारण्यों की सूची

स्पॉट-बिल पेलिकन- सामूहिक मृत्यु दर के कारण

  • हाल ही में सामूहिक मृत्यु दर के लिए भारतीय वन्यजीव संस्थान में सूत्रकृमि संक्रमण को मृत्यु दर के कारण के रूप में पाया गया था।
  • सूत्रकृमि सूक्ष्म सर्पमीन (ईल) जैसे गोलाकार होते हैं। इन परजीवियों के मछली एवं घोंघे के माध्यम से स्थानांतरित होने की आशंका है।
  • कर्नाटक राज्य में विशेषज्ञों द्वारा किए गए अध्ययनों के अनुसार सूत्रकृमि संक्रमण एक प्रजाति से दूसरी प्रजाति में नहीं फैलेगा।

वन्य वनस्पतियों एवं जीवों की संकटग्रस्त प्रजातियों में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर अभिसमय (सीआईटीईएस)

स्पॉट-बिल पेलिकन_40.1

स्पॉट-बिल पेलिकन- प्रमुख बिंदु

  • स्पॉट-बिल्ड पेलिकन के बारे में: स्पॉट-बिल्ड पेलिकन, जलासिंह (पेलिकन-एक प्रकार का बत्तख) परिवार का एक सदस्य, एक बड़ा पीला जलपक्षी है, जिसमें ऊपरी चोंच पर काले धब्बों के साथ एक भारी गुलाबी धानी वाली चोंच होती है।
    • वैज्ञानिक नाम: स्पॉट-बिल्ड पेलिकन का वैज्ञानिक नाम पेलिकंस फिलिपेंसिस है।
  • प्रजनन क्षेत्र: स्पॉट-बिल्ड पेलिकन पक्षी के प्रजनन क्षेत्र केवल प्रायद्वीपीय भारत, श्रीलंका और कंबोडिया में पाए जाते हैं।
    • स्पॉट-बिल्ड पेलिकन पक्षी नेपाल, म्यांमार, थाईलैंड, लाओस एवं वियतनाम में गैर-प्रजनन मौसम में भी अभिलेखित किए जाते हैं।
  • पर्यावास: स्पॉट-बिल्ड पेलिकन अंतर्देशीय तथा तटीय जल क्षेत्रों, विशेष रूप से बड़ी झीलों का एक बड़े आकार का पक्षी है। उथले तराई के स्वच्छ जल स्पॉट-बिल पेलिकन के श्रेष्ठ वास क्षेत्र हैं।
  • स्पॉट-बिल पेलिकन के संरक्षण की स्थिति:
    • आईयूसीएन सूची: संकट आसन्न
      • वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972: स्पॉट-बिल पेलिकन पक्षियों को वन्य जीव संरक्षण अधिनियम (वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट) 1971 की अनुसूची IV के अंतर्गत सूचीबद्ध किया गया है।
      • अनुसूची IV के अंतर्गत, शिकार निषिद्ध है किंतु किसी भी उल्लंघन के लिए दंड प्रथम दो अनुसूचियों की तुलना में कम है।
    • अस्तित्व के प्रति संकट: स्पॉट-बिल पेलिकन पक्षी के अस्तित्व को वनोन्मूलन, शिकार तथा ऑर्गैनोक्लोरीन कीटनाशकों द्वारा प्रदूषण के कारण पर्यावास की हानि से खतरा है।

 

2021-22 असामान्य रूप से ठंडा एवं वृष्टि बहुल शीतकालीन वर्ष है जायद फसलें: ग्रीष्मकालीन अभियान 2021-22 के लिए कृषि पर राष्ट्रीय सम्मेलन भारत-इजरायल संबंध | कृषि क्षेत्र में भारत-इजरायल सहयोग वन्य वनस्पतियों एवं जीवों की संकटग्रस्त प्रजातियों में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर अभिसमय (सीआईटीईएस)
राष्ट्रीय मतदाता दिवस- इतिहास, विषयवस्तु एवं महत्व भारत में पीपीपी मॉडल राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण (नालसा) इलेक्ट्रॉनिक विनिर्माण पर दृष्टिकोण पत्र
संपादकीय विश्लेषण: विद्यालय बंद होने के विनाशकारी प्रभाव नासा का कथन है, टोंगा उदगार सैकड़ों हिरोशिमाओं के बराबर है प्राथमिकता क्षेत्र उधार: अर्थ, इतिहास, लक्ष्य, संशोधन संपादकीय विश्लेषण- एक प्रमुख भ्रांति

 

Sharing is caring!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *