UPSC Exam   »   Monkeypox in India   »   Monkeypox in the World

संपादकीय विश्लेषण: सतर्कता का समय

मंकीपॉक्स यूपीएससी: प्रासंगिकता

  • जीएस 2: स्वास्थ्य, शिक्षा, मानव संसाधन से संबंधित सामाजिक क्षेत्र/सेवाओं के विकास एवं प्रबंधन से संबंधित मुद्दे।

संपादकीय विश्लेषण: सतर्कता का समय_40.1

भारत में मंकीपॉक्स: प्रसंग 

  • हाल ही में, भारत ने मंकीपॉक्स विषाणु के अपने प्रथम प्रयोगशाला-पुष्टि, आयातित मामले की सूचना दी, जब केरल में एक 35 वर्षीय व्यक्ति को पॉजिटिव पाया गया।

 

दुनिया भर में हाल ही में मंकीपॉक्स के मामले

  • अफ्रीका के बाहर विषाणु का प्रथम मामला सर्वप्रथम ब्रिटेन (यूके) में 6 मई, 2022 को सामने आया था।
  • तब से, वायरस 63 से अधिक देशों में प्रसारित हो गया है – यूरोप ने 35 देशों से 12 जुलाई तक 8,000 से अधिक मामले दर्ज किए हैं एवं अमेरिका ने 14 जुलाई तक लगभग 1,500 मामले दर्ज किए हैं।
  • मामलों एवं भौगोलिक प्रसार में तीव्र गति से वृद्धि मुख्य रूप से यौन संपर्क के दौरान, विशेष रुप से पुरुषों के साथ यौन संबंध रखने वाले पुरुषों (एमएसएम) में मानव-से-मानव संचरण के कारण हुई है।
  • स्पेन एवं बेल्जियम में कुछ रेव पार्टियां भी सुपर-स्प्रेडर घटना बन गई हैं।
  • गैर-स्थानिक देशों में 10,000 का आंकड़ा पार करने वाले मामलों एवं स्पेन, ब्रिटेन, जर्मनी तथा अमेरिका में  व्यापम संख्या में मामलों के साथ, इनमें से कुछ देशों में  विषाणु के स्थापित होने का जोखिम तेजी से वास्तविक होता जा रहा है।

भारत में मंकीपॉक्स

मंकीपॉक्स क्या है?

  • मंकीपॉक्स एक विषाणु जनित पशुजन्य (वायरल जूनोटिक) रोग है जिसमें चेचक के समान लक्षण, यद्यपि कम नैदानिक ​​​​गंभीरता के साथ प्रकट होते हैं।
  • अनुसंधान के लिए रखी गई बंदरों की बस्तियों में चेचक सदृश रोगों के दो प्रकोपों ​​​​के पश्चात प्रथम बार संक्रमण की खोज 1958 में हुई थी, इस प्रकार इसका नाम ‘मंकीपॉक्स’ पड़ा।

 

मंकीपॉक्स से संबंधित मुद्दे

  • जबकि मानव में प्रथम मामला 1970 में कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में दर्ज किया गया था एवं अफ्रीका के 11 देशों में यह वायरस स्थानिक हो गया, जिससे छोटे प्रस्फोट हुए, इन सभी वर्षों में इसका अध्ययन करने का कोई प्रयास नहीं किया गया।
  • वैज्ञानिकों ने खुलासा किया है कि वायरस जितना अनुमान लगाया गया था, उससे कहीं अधिक दर से उत्परिवर्तित होता प्रतीत होता है।
  • हाल ही के एक अध्ययन में वीर्य, ​​लार, मूत्र, मलाशय की सूजन एवं मल के नमूनों में तथा उच्च वायरल लोड में मंकीपॉक्स वायरस डीएनए पाया गया है; शरीर के इन तरल पदार्थों की संक्रामक तथा रोग क्षमता का अध्ययन नहीं किया गया था।
  • निरंतर प्रसार एवं महिलाओं में पहले से ही कुछ मामलों का पता चलने के साथ, इसके आम समुदाय में  प्रसारित होने की संभावना को पूर्ण रूप से खारिज नहीं किया जा सकता है।

संपादकीय विश्लेषण: सतर्कता का समय_50.1

आगे की राह 

  • अधिक संख्या में जांच, संपर्क का पता लगाकर एवं जागरूकता में वृद्धि कर तथा संक्रमित व्यक्तियों को  अपमानित ना करने से इस संक्रमण को प्रसारित होने से रोका जा सकता है।

 

जागृति शुभंकर विमोचित एनआईआरएफ रैंकिंग 2022 शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) समूह: ईरान, बेलारूस नवीनतम एससीओ सदस्य होंगे मरम्मत के अधिकार पर समिति गठित
संपादकीय विश्लेषण- प्रारूप विकलांगता नीति में गंभीर चूक मिशन शक्ति: एमडब्ल्यूसीडी ने दिशानिर्देश जारी किए भारत में रोगाणुरोधी प्रतिरोध: एएमआर टीकों पर डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट भारत में मंकीपॉक्स
ई-नाम के तहत प्लेटफॉर्म का प्लेटफॉर्म (पीओपी) साइबर सुरक्षा सहयोग पर बिम्सटेक विशेषज्ञ समूह  बजट से परे उधार व्याख्यायित धम्मचक्क दिवस 2022- भारत का राष्ट्रीय प्रतीक

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.