UPSC Exam   »   Russia Ukraine Conflict   »   Russia Ukraine War

रूस पर स्विफ्ट प्रतिबंध | रूस यूक्रेन युद्ध

रूस पर स्विफ्ट प्रतिबंध- यूपीएससी परीक्षा के लिए प्रासंगिकता

  • जीएस पेपर 2: अंतर्राष्ट्रीय संबंध- भारत के हितों पर विकसित एवं विकासशील देशों की नीतियों तथा राजनीति का प्रभाव।

रूस पर स्विफ्ट प्रतिबंध | रूस यूक्रेन युद्ध_40.1

रूस पर स्विफ्ट प्रतिबंध- संदर्भ

  • हाल ही में, अमेरिका एवं यूरोपीय संघ (यूरोपियन यूनियन/ईयू) ने मुख्य अंतरराष्ट्रीय भुगतान गेटवे, स्विफ्ट से  अनेक रूसी बैंकों को विच्छेदित कर स्विफ्ट तंत्र का आंशिक रूप से प्रयोग करने का निर्णय लिया है।
  • रूस के केंद्रीय बैंक की संपत्ति भी अवरुद्ध होने की संभावना है, जिससे मॉस्को की विदेशी मुद्रा भंडार तक पहुंच स्थापित करने की क्षमता में बाधा आ रही है।
  • इन कदमों का आशय “रूस को अंतरराष्ट्रीय वित्तीय प्रणाली से अलग-थलग करना” है।

 

स्विफ्ट क्या है?

  • स्विफ्ट के बारे में: स्विफ्ट वित्तीय संस्थानों के लिए धन हस्तांतरण जैसे वैश्विक मौद्रिक संव्यवहार (लेनदेन) के बारे में सूचनाओं का आदान-प्रदान करने हेतु एक सुरक्षित मंच है।
    • स्विफ्ट का मुख्यालय: स्विफ्ट  का मुख्यालय बेल्जियम में अवस्थित है।
  • स्विफ्ट संक्षिप्ति: स्विफ्ट तंत्र का तात्पर्य सोसाइटी फॉर वर्ल्डवाइड इंटरबैंक फाइनेंशियल टेलीकम्युनिकेशन से है।

 

स्विफ्ट कैसे कार्य करता है?

  • जबकि SWIFT वास्तव में मुद्रा को स्थानांतरित नहीं करता है, यह 200 से अधिक देशों में 11,000 से अधिक बैंकों को सुरक्षित वित्तीय संदेश सेवाएं प्रदान करके लेनदेन की जानकारी को सत्यापित करने के लिए एक बिचौलिए के रूप में कार्य करता है।
  • स्विफ्ट प्रशासन: यह ग्यारह औद्योगिक देशों: बेल्जियम के अतिरिक्त कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, नीदरलैंड, स्वीडन, स्विट्जरलैंड, यूनाइटेड किंगडम एवं संयुक्त राज्य अमेरिका के केंद्रीय बैंकों द्वारा देखरेख करता है।

रूस पर स्विफ्ट प्रतिबंध | रूस यूक्रेन युद्ध_50.1

स्विफ्ट रूस को किस प्रकार प्रभावित करेगा?

  • स्विफ्ट प्लेटफॉर्म से रूसी बैंकों को अपवर्जित करने से देश की अर्थव्यवस्था पर व्यापक प्रभाव पड़ने की  संभावना है एवं इससे देश भुगतान करने हेतु “टेलीफोन या फैक्स मशीन” पर निर्भर हो जाएगा।
  • स्विफ्ट प्लेटफॉर्म से रूसी बैंकों को अपवर्जित करना रूसी मुद्रा बाजार पर विपदाकारी होने वाला है।
  • प्रभावित बैंक “अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ-साथ अन्य संस्थानों द्वारा पूर्व से ही स्वीकृत सभी” हैं।
  • जबकि SWIFT के लिए वैकल्पिक हल का प्रयत्न किया गया है, किंतु इनमें से कोई भी कारगर सिद्ध नहीं हुआ है।

 

संपादकीय विश्लेषण- रूस की नाटो समस्या

मिन्स्क समझौते तथा रूस-यूक्रेन संघर्ष

रूस-यूक्रेन संघर्ष पर भारत का रुख

संपादकीय विश्लेषण- रूसी मान्यता

Sharing is caring!

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published.